spot_img
सोमवार, अप्रैल 19, 2021
More
    spot_imgspot_img
    spot_img

    adityapur-electronic-manufacturing-cluster-आदित्यपुर औद्योगिक क्षेत्र का इलेक्ट्रॉनिक मैन्युफैक्चरिंग कलस्टर मैन्युफैक्चरिंग हब की दिशा में झारखण्ड का पहला कदम, पूर्वी भारत के सबसे बड़े निवेश का गेटवे-इलेक्ट्रॉनिक उद्योग की परिकल्पना ले रही मूर्तरूप, 500 करोड़ का आयेगा निवेश, 25 हजार लोगों को मिलेगी नौकरियां, जानें क्या-क्या होगा इसमें

    Advertisement
    Advertisement

    जमशेदपुर : कोल्हान प्रमंडल के सरायकेला-खरसावां जिले के आदित्यपुर औद्योगिक क्षेत्र (जमशेदपुर से कदमा के टोल ब्रिज से आदित्यपुर जाने वाले पुल के बगल से जो दिखता है) में इलेक्ट्रॉनिक मैन्युफैक्चरिंग कलस्टर (इएमसी) निर्माण अंतिम चरण में है. इसको अब धरातल पर उतारा जा रहा है. इलेक्ट्रॉनिक मैन्युफैक्चरिंग के क्षेत्र में यह कलस्टर पूर्वी भारत में निवेश का सबसे बड़ा गेटवे साबित होगा. राज्य सरकार ने जिस उद्देश्य से सरायकेला-खरसावां के आदित्यपुर औद्योगिक क्षेत्र में काम शुरू किया था, वह उद्देश्य साकार भी हो रहा है. 29 दिसम्बर 2020 को मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने इस कलस्टर में निर्मित आधारभूत संरचनाओं का उद्घाटन कर झारखण्ड को इलेक्ट्रॉनिक मैन्युफैक्चरिंग का हब बनाने की दिशा में पहला कदम बढ़ा दिया है. अब वह दिन दूर नहीं, जब खनिज के क्षेत्र में अपनी पहचान स्थापित कर चुके झारखण्ड को इलेक्ट्रॉनिक मैन्युफैक्चरिंग हब के रूप में भी जाना जायेगा. इलेक्ट्रॉनिक मैन्युफैक्चरिंग क्लस्टर एक विशेष औद्योगिक पार्क है. इस परियोजना की कुल लागत 186 करोड़ है. इसमें 41.48 करोड़ रुपये केंद्रीय अनुदान, 50 करोड़ का अनुदान जियाडा और 60 करोड़ रुपये का विशेष अनुदान राज्य सरकार ने दिया है. आदित्यपुर औद्योगिक क्षेत्र में 82 एकड़ भूमि पर क्लस्टर का निर्माण हो रहा है. 51 इकाइयों के लिए भूमि उपलब्ध कराई जाएगी. क्लस्टर में फ्लैटेड फस्ट्रोर, टेस्टिंग सेंटर, ट्रेड पवेलियन, ट्रक पार्किंग, वेयर हाउस, स्कूल, शॉपिंग मॉल, हेल्थ सेंटर, हॉस्टल, रेस्टोरेंट, रोड, नाली, स्ट्रीट लाइट व अन्य मूलभूत सुविधाएं होंगी. इस क्लस्टर में 49 एकड़ भूमि इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद बनाने वाले 51 उद्यमियों के लिए आरक्षित है. इसके अतिरिक्त पांच एकड़ भूमि में फ्लैटेड फैक्ट्री बनायी गयी है, जिसमें 92 उद्यमियों को प्लग एंड प्ले मोड पर छोटे पैमाने पर इलेक्ट्रॉनिक असेंबली लाइन शुरू करने हेतु आवंटित किया जा रहा है. कुछ उद्यमियों के लिए प्लग एंड प्ले मोड के तहत यूनिट का आवंटन भी हो चुका है. इएमसी में भूमि की कीमत 90 लाख रुपये प्रति एकड़ है और जियाडा विनियमन के अनुसार, उद्यमियों को भूमि इकाइयों के लिए 50 प्रतिशत रियायत पर दी गई है. फ्लैटेड फैक्ट्री में तैयार इकाइयां 15 रुपये प्रति वर्ग फीट की दर पर उपलब्ध कराया जा रहा है. फ्लैटेड फैक्ट्री में इकाइयों का आकार 12 सौ वर्ग फीट से 21 सौ वर्ग फीट तक है. खुद की यूनिट प्रारंभ करने के लिए अब तक 23 इकाइयों को इएमसी में जमीन आवंटित की जा चुकी है और 4 इकाइयों को भूमि उपलब्ध कराने की प्रक्रिया चल रही है. 23 उद्यमियों द्वारा फैक्ट्री का निर्माण किया जा रहा है. इलेक्ट्रॉनिक मैन्युफैक्चरिंग क्लस्टर में सभी उद्यमियों द्वारा अपनी इकाइयों को स्थापित कर दिया जाता है, तो लगभग 20 हजार प्रत्यक्ष एवं लगभग 25 हजार अप्रत्यक्ष रोजगार का सृजन एवं करीब 500 करोड़ रुपये का निवेश झारखण्ड में सुनिश्चित होगा. इलेक्ट्रॉनिक मैन्युफैक्चरिंग क्लस्टर पर वर्तमान सरकार का पूरा ध्यान है. इलेक्ट्रॉनिक मैनुफैक्चरिंग क्लस्टर में उद्यमियों द्वारा शीघ्र इकाई का निर्माण पूर्ण कर उत्पादन प्रारम्भ करने के लिए मुख्यमंत्री द्वारा उद्योग सचिव को मॉनिटरिंग का निर्देश दिया गया है. इस क्रम में उद्योग सचिव द्वारा पिछले दिनों क्लस्टर का दौरा कर नए निवेश की बढ़ावा देने से संबंधित निर्देश पदाधिकारियों को दिया गया है.

    Advertisement
    Advertisement

    Advertisement
    Advertisement

    Leave a Reply

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

    spot_imgspot_img

    Must Read

    Related Articles

    Don`t copy text!