spot_img

intuc-working-committee-meeting-इंटक की दिल्ली की बैठक में मजदूरों को लेकर भरी गयी हुंकार, किसान बिल वापसी के बाद मजदूर विरोधी बिल 4 लेबर कोड वापस लेने के लिए केंद्र सरकार को करेगी इंटक, कांग्रेस और इंटक में समन्वय बनाने पर जोर, जमशेदपुर के भी नेताओं ने की शिरकत, झारखंड के 980 यूनियनों के निबंधन का भी उठा मुद्दा

राशिफल

इंटक का चल रहा अधिवेशन.

जमशेदपुर : नई दिल्ली के एनडीएमसी कन्वेंशन सेंटर में राष्ट्रीय इंटक की 305 वीं कार्यकारिणी की बैठक हुई. बैठक में बतौर मुख्य अतिथि एआईसीसी के जेनरल सेक्रेटरी मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह उपस्थित हुए. बैठक की अध्यक्षता इंटक के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व राज्यसभा सांसद डॉक्टर जी संजीवा रेड्डी ने की. बैठक में किसान बिल को वापस लिए जाने पर विस्तारपूर्वक चर्चा की गयी. साथ ही कांग्रेस और इंटक के बीच बेहतर संबंध में स्थापित करने पर विस्तारपूर्वक चर्चा हुई. डॉक्टर संजीव रेड्डी ने कहा कि जिस तरह से भाजपानीत केंद्र सरकार ने किसान आंदोलन की वजह से किसान विरोधी बिल को वापस लिया है. ठीक उसी तरह से आने वाले दिनों में सरकार को मजदूर विरोधी बिल चार लेबर कोड वापस लेने के लिए बाध्य किया जाएगा. (नीचे देखे पूरी खबर)

इंटक के अधिवेशन में मौजूद मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह. साथ में है

आने वाले दिनों में आंदोलन को और तेज किया जाएगा. सभी केंद्रीय ट्रेड यूनियन के साथ मिलकर तीव्र आंदोलन किया जाएगा ताकि बहुत जल्द केंद्र सरकार को मजदूर विरोधी बिल को भी वापस लेना पड़े. डॉक्टर रेडी ने कहा कि किसान आंदोलन के दौरान मजदूर संगठनों ने भी हर संभव आंदोलन की मजबूती में सहयोग किया, जिसका परिणाम सामने है. उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में भाजपा नीत सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए सबों को और ज्यादा मजबूती के साथ कांग्रेस पार्टी का साथ देना होगा. इस मौके पर झारखंड इंटक के अध्यक्ष राकेश्वर पांडेय ने डॉक्टर संजीवा रेड्डी के करिश्माई नेतृत्व के प्रति आभार जताते हुए झारखंड के 980 यूनियनों के निबंधन रद्द होने का मामला उठाया. (नीचे देखे पूरी खबर)

श्री पांडेय ने कहा कि बिहार सरकार में पंजीकृत झारखंड के 980 यूनियनों का निबंधन बिहार सरकार ने रद्द कर दिया, जिसके निबंधन वापसी के लिए 2015 से झारखंड इंटक प्रयास कर रही है. इसके लिए राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से भी पिछले दिनों मिल चुके है. इन लोगों ने मिलकर यूनियनों का निबंधन पुनः बहाल करने की मांग की गई परंतु अब तक यह नहीं हो पाया है. उन्होंने राष्ट्रीय अध्यक्ष से इस मामले में झारखंड के मुख्यमंत्री को एक पत्र लिखकर इसे अविलंब सुलझाने की मांग की. मौके पर जमशेदपुर से इंटक के राष्ट्रीय सचिव रघुनाथ पांडेय, झारखंड इंटक कोषाध्यक्ष एवं इंटक के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य संजीव श्रीवास्तव, टाटा मोटर्स वर्कर्स यूनियन के अध्यक्ष गुरमीत सिंह तोते, महामंत्री आरके सिंह, टीजीएस के टिस्को मजदूर यूनियन के महासचिव शिव लखन सिंह, यूथ इंटक के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय गाबा, रवि नागर, प्रदेश अध्यक्ष यूथ इंटक रवि चौबे, यूथ अध्यक्ष रवि चौबे, वरिष्ठ पधाधिकारी बीरेंद्र चौबे, राणा संग्राम सिंह, ललन चौबे, शैलेश पांडेय, अमित दोसाज़, अभिजीत राज सहित काफी संख्या में प्रतिनिधि देश के कोने-कोने से उपस्थित थे.

WhatsApp Image 2022-04-29 at 12.21.12 PM
WhatsApp-Image-2022-03-29-at-6.49.43-PM-1
Shiv Yog Physiotherapy And Yoga Classes
spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!