spot_imgspot_img
spot_img

jharkhand-intuc-झारखंड इंटक झामुमो के हो रहे आंदोलनों को लेकर सरकार के खिलाफ ही मोर्चा खोला, मुख्यमंत्री के नाम लिखा पत्र-चीन नहीं चाहता है कि भारत में सौहार्दपूर्ण वातावरण में कारोबार हो, जमशेदपुर में पिछले दिनों झामुमो के आंदोलन से चीन के कुत्सित प्रयासों में मदद मिलेगी

मजदूर नेता राकेश्वर पांडेय.

जमशेदपुर : टाटा समूह के खिलाफ लगातार हो रहे हमलों के खिलाफ झारखंड इंटक ने भी हमला बोल दिया है. कांग्रेस समर्थित ट्रेड यूनियन इंटक ने झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को पत्र लिखा है. मुख्यमंत्री के नाम इंटक के झारखंड प्रदेश अध्यक्ष राकेश्वर पांडेय ने पत्र लिखकर कहा है कि कुछ दिनों पूर्व जिस तरह से जमशेदपुर की विभिन्न कंपनियों के प्रवेश द्वार पर और उधर मजदूरों एवं अन्य कर्मचारियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा है. जिस तरह से अपनी ड्यूटी खत्म होने के बाद भी कर्मचारियों को अंदर ही एक तरफ से बंधक बना दिया गया, उन्हें निकलने नहीं दिया गया. कुछ कंपनियों में मजदूरों को खाने-पीने के सामानों की आवाजाही बाधित होने के कारण उन्हें भूखे रहना पड़ा, यह लोगों के मन में भय का माहौल बना गया. यह निस्संदेह बहुत ही चिंता का विषय है. राकेश्वर पांडेय ने कहा है कि मुख्यमंत्री के छवि के अनुरुप यह हालात नहीं है. अब ऐसा सुनने में आ रहा है कि कुछ दिनों बाद सभी कंपनियों के रॉ मैटेरियल्स की आवाजाही को बाधित कर कंपनियों की उत्पादकता और उत्पादन को प्रभावित करने का निंदनीय प्रयास किया जाएगा और यह मजदूर, कर्मचारियों की आजीविका पर प्रहार के रूप में देखा जाएगा. राकेश्वर पांडेय ने कहा है कि लोगों की यह समझ में नहीं आ रहा है कि आपने कुछ दिन पूर्व ही दिल्ली में इन्वेस्टर्स मीट में लोगों का झारखंड प्रदेश में निवेश करने का आह्वान किया था, परंतु कैसे उसी झारखंड में सदियों से स्थापित एवं सुचारू रूप से संचालित एवं राज्य और देश के विकास में अपना महत्वपूर्ण योगदान देने वाली कंपनियों को इस तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. श्री पांडेय ने कहा है कि यह लोगों के समझ में नहीं आ रहा है. यह बहुत ही चिंता का विषय है जैसा कि आप भी जानते हैं कि कोरोना संक्रमण के बाद विश्व की बड़ी-बड़ी कंपनियां, जो चीन में स्थापित थी, वहां से किसी दूसरे देश में शिफ्ट करना चाह रही हैं और हमारा देश भारत ऐसी कंपनियों की पहली पसंद है, परंतु चीन ऐसा नहीं चाह रहा है, इसी वजह से वह भारत को अशांत देश की छवि बनाने का प्रयास कर रहा है. कुछ महीने पहले बेंगलुरु में नोकिया कंपनी की अनुषंगी इकाई में दक्षिणपंथी यूनियन के कार्यकर्ताओं द्वारा तोड़फोड़ कर करोड़ों की संपत्ति का नुकसान भी कुत्सित प्रयासों की एक झलक थी. ऐसी स्थिति में हम सभी झारखंडवासियों, राष्ट्र प्रेमी भारतीयों का दायित्व बनता है कि हम अपने देश की अच्छी छवि बनाने में मदद करें ताकि ज्यादा से ज्यादा निवेश हमारे देश, हमारे राज्य में आ सके और नौजवानों और नवयुवतियों को रोजगार मिल सके. परंतु जमशेदपुर में पिछले दिनों जिस तरह की घटनाएं हुई वो चीन के कुत्सित प्रयासों में मदद करेगी और ये देश हित और राज्य हित में नहीं है. उन्होंने मुख्यमंत्री से आग्रह किया है कि एक लोकप्रिय मुख्यमंत्री के साथ-साथ एक मजबूत प्रशासक की छवि पेश करते हुए उपरोक्त वर्णित गतिविधियों को अविलंब विराम लगवाएं.

WhatsApp Image 2022-04-29 at 12.21.12 PM
WhatsApp-Image-2022-03-29-at-6.49.43-PM-1
Shiv Yog Physiotherapy And Yoga Classes

Leave a Reply

spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!