spot_img

singhbhum-chamber-of-commerce-election-सिंहभूम चेंबर ऑफ कॉमर्स का चुनाव इ-रिमोट वोटिंग से कराने को लेकर कड़ी आपत्ति, इ-रिमोट वोटिंग से 2019 के चुनाव में करायी गयी थी गड़बड़ी, पांच चुनाव पदाधिकारी की नियुक्ति भी की गयी

राशिफल

जमशेदपुर : कोल्हान की सबसे बड़ी औद्योगिक और व्यवसायिक संस्था सिंहभूम चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज का चुनाव होने जा रहा है. इसको लेकर 27 सितंबर को वर्चुअल तरीके से आमसभा आहूत की गयी है. इसके अलावा चुनावी प्रक्रिया घोषित की जा रही है. इसके लिए शुक्रवार को पांच सदस्यीय चुनाव पदाधिकारी घोषित किया गया, जिसमें अधिवक्ता पीएस सेन, आरके झुनझुनवाला, एसएन खंडेलवाल, दीपक डोकानिया और सीए जगदीश खंडेलवाल को चुनाव के लिए नियुक्त किया गया है. इसके अलावा एक स्वतंत्र स्क्रूटनाइजर भी एप्वाइंट किया जायेगा जो चुनाव संपन्न कराने वाली फर्म मेसर्स सीडीएसएल द्वारा किया जायेगा. इस बार इ-रिमोट वोटिंग के जरिये चुनाव भी कराने की घोषणा की गयी है. (नीचे पूरी खबर पढ़ें)

मुकेश मित्तल की फाइल तस्वीर.

सिंहभूम चेंबर के चुनाव में इ-वोटिंग कराने को लेकर मुकेश मित्तल की आपत्ति
दूसरी ओर, सिंहभूम चेंबर ऑफ कॉमर्स के चुनाव में सदस्य मुकेश मित्तल ने इ वोटिंग कराने को लेकर तकनीकी तौर पर सवाल उठाये है. मुकेश मित्तल ने इसको लेकर आपत्ति दर्ज कराते हुए अध्यक्ष और महासचिव को पत्र लिखा है. इस पत्र में कहा गया है कि उनको यह जानकारी हुई है कि 25 एवं 26 सितंबर को रिमोट इ-वोटिंग और 27 सितंबर को आमसभा (एजीएम) होने के पश्चात 28 सितंबर को सिंहभूम चेंबर के चुनाव स्थल पर इ-वोटिंग के जरिए सिंहभूम चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के ऑफिस बियरर एवं कार्यसमिति का चुनाव कराया जाना प्रस्तावित है. मुकेश मित्तल ने बताया है कि कंपनी एक्ट 2013 के रुल 20 और कंपनीज मैनेजमेंट व एडमिनिस्ट्रेशन रुल्स 2014 के अनुसार कोई भी कंपनी अपनी आमसभा के प्रस्तावों के लिए इ-वोटिंग करा सकती है, लेकिन कोई चुनाव या मतदान नहीं करा सकती है. मुकेश मित्तल ने कहा है कि रुल से साफ प्रतीत होता है कि रिमोट इ-वोटिंग की सुविधा उन शेयर होल्डर्स और मेंबर्स के लिए है, जो एजीएम में ना जाकर, घर बैठे प्रस्तावों के पक्ष या विपक्ष में वोट डाल सकें, ना कि घर बैठे ऑफिस बियरर एवं कार्यसमिति का चुनाव कर सकें. उपयुक्त रूल से स्पष्ट है कि सिंहभूम चेम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के स्थानीय सदस्यों के लिए रिमोट इ-वोटिंग का नियम लागू नहीं होता है, किंतु चेम्बर द्वारा इसकी अलग व्याख्या की जा रही है, जिसका नतीजा था कि गत चुनाव 2019 में एक-एक आइपी-एड्रेस से कई-कई वोट रिमोट इ-वोटिंग के माध्यम से डलवाये गए. इस तथ्य की पुष्टि सीडीएसएल से करायी जा सकती है. मुकेश मित्तल ने अपील की है कि रिमोटइ-वोटिंग ना कराया जाये ताकि प्रजातंत्र जिंदा रहे और सिंहभूम चेम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के मेंबरों का विश्वास बनाये रखें.

WhatsApp Image 2022-04-29 at 12.21.12 PM
WhatsApp-Image-2022-03-29-at-6.49.43-PM-1
Shiv Yog Physiotherapy And Yoga Classes
spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!