spot_img
गुरूवार, मई 6, 2021
spot_imgspot_img
spot_img

tata education excellence award-डॉ जेजे इरानी एक्सीलेंस अवार्ड तक नहीं पहुंचा कोई स्कूल, तारापोर स्कूल की सल्तनत बरकरार, कई स्कूलों को मिला सम्मान, जानिये, किस स्कूल को कितना मिला अंक, कौन टीचर हुई पुरस्कृत

Advertisement
Advertisement
स्कूल को सम्मानित करते डॉ के कस्तुरीरंगन.

जमशेदपुर : टाटा एजुकेशन एक्सीलेंस प्रोग्राम’ (टीइइपी) के तहत डॉ जेजे इरानी एक्सीलेंस अवार्ड कोल्हान के स्कूलों के बीच वितरित किया गया. इसको लेकर जमशेदपुर के लोयोला स्कूल के फेजी ऑडिटोरियम में कार्यक्रम आयोजित हुआ, जिसमें इसरो के पूर्व चेयरमैन व नयी शिक्षा नीति मसौदा समिति के चेयरमैन के कस्तूरीरंगन कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे. इस मौके पर टाटा स्टील के पूर्व एमडी जमशेदपुर जे ईरानी, टाटा स्टील के एमडी सह सीइओ टीवी नरेंद्रन विशिष्ट अतिथि के रुप में मौजूद थे. जुस्को के एमडी तरुण डागा, रुचि नरेंद्रन, समेत कई अन्य गणमान्य लोगों ने वर्ष 2018 के स्कूलों के परफार्मेंस के आधार पर किये गये एसेसमेंट पर विजेताओं को पुरस्कृत किया गया. ह हालांकि, डॉ जेजे इरानी एक्सीलेंस अवार्ड किसी अन्य स्कूल को नहीं मिल पाया. पिछले साल तारापोर स्कूल ने इस अवार्ड को हासिल किया था. इस लिहाज से तारापोर स्कूल उस अंक तक अब तक बरकरार रहा. कुल 36 स्कूलों ने टीइइपी प्रोग्राम में हिस्सा लिया था. इनमें से अधिकांश स्कूलों ने टीइइपी की अन्य पहलकदमियों जैसे इक्विप (एजुकेशन क्वालिटी इम्प्रूवमेंट प्रोजेक्ट्स), इनोटीचिंग (शिक्षण विधियों में नवोन्वेषण), पंख (विद्यार्थियों के नेतृत्व वाली सुधार कहानियां), पर्ल (सर्वश्रेष्ठ अभ्यास साझा कार्यक्रम), डेयर टू ट्राई (असफलता से सीख), आउटस्टैंडिंग एक्टीविटी क्लब और टीचर्स अवार्ड फॉर एक्सेलेंस इन टीचिंग में भी हिस्सा लिया.

Advertisement
Advertisement
कार्यक्रम में मौजूद अतिथिगण.

मूल्यांकन कार्यक्रम (एसेसमेंट प्रोग्राम) में हिस्सा लेने वाले स्कूलों को मिला सम्मान

Advertisement

टीइइपी रेगुलर : रेगुलर असेसमेंट प्रोग्राम में 9 स्कूलों और 9 स्कूलों ने डिप चेक में हिस्सा लिया. सभी स्कूलों को प्रशस्ति पुरस्कार (कमेन्डेशन अवार्ड) के साथ-साथ ‘भागीदारी का प्रमाणपत्र’ (सर्टिफिकेट ऑफ पार्टीसिपेशन) दिया गया. तीन मेंटर के मार्गदर्शन में प्रधानाध्यपकों व शिक्षकों समेत 45 प्रशिक्षित मूल्यांकनकर्ताओं ने इन स्कूलों के मूल्यांकन का व्यापक कार्यभार संचालित किया.

Advertisement
टाटा स्टील के एमडी से अवार्ड हासिल करती शिक्षिका.

टीइइपी बेसिक : 2018 में टीइइपी-बेसिक प्रोग्राम के तहत 10 प्रतिभागी स्कूलों का मूल्यांकन किया गया. इनमें से 3 स्कूलों को चेकलिस्ट अनुपालन कर 90 प्रतिशत का थ्रेशोल्ड स्कोर हासिल करने के लिए प्रशस्ति पुरस्कार दिया गया. 9 स्कूलों को भागीदारी का प्रमाण पत्र दिया गया. 20 प्रशिक्षित मूल्यांकनकर्ताओं ने इन स्कूलों का मूल्यांकन किया.

Advertisement

टीइइपी सरल : हिंदी माध्यम, ग्रामीण सरकारी व अर्ध-सरकारी स्कूलों में सुधार यात्रा आरंभ करने के लिए वर्ष 2014 में सरल प्रोग्राम शुरु किया गया था. इसके तहत 2018 में 8 स्कूलों ने अपना मूल्यांकन कराया. इनमें 3 स्कूलों को एक थ्रेशोल्ड स्कोर हासिल करने के लिए प्रशस्ति पुरस्कार प्रदान किया गया जबकि 5 स्कूलों को भागीदारी का प्रमाणपत्र दिया गया. 16 मूल्यांकनकर्ताओं ने इन स्कूलों का मूल्यांकन किया था.

Advertisement
शिक्षकों को सम्मानित करते डॉ जेजे इरानी.

स्कूलों की सुधार पहलकदमियों को सम्मान :
स्कूलों को उनकी सुधार पहलकदमियों जैसे ‘एजुकेशन क्वालिटी इम्प्रूवमेंट प्रोजेक्ट्स’ यानी इक्विप के लिए भी सम्मानित किया गया. पुरस्कार वितरण कार्यक्रम में विभिन्न स्कूलों से प्राप्त 30 ‘इक्विप्स’ में से 5 को सम्मानित किया गया. एक अन्य श्रेणी ‘पर्ल’ यानी स्कूलों के अच्छे अभ्यासों की श्रेणी में भी स्कूलों को सम्मानित किया गया. इस वर्ष मूल्यांकन टीमों द्वारा चिन्हित संभावनाओं से पूर्ण 80 आशाजनक अभ्यासों में से 11 को पुरस्कृत किया गया. ‘इनोटीचिंग’ के तहत शिक्षा प्रणालियों में लागू किये गये सुधार व नवोन्वेषण पर 17 स्कूलों के शिक्षकों द्वारा 29 पेपर सौंपे गये. इनमें से 7 को पुरस्कृत किया गया. ‘पंख’ सुधार कहानियों (इम्प्रूवमेंट स्टोरीज) को प्रदर्शित करने के हेतु विद्यार्थियों को प्रोत्साहित करने की एक पहल है. इस वर्ष 14 स्कूलों से इस प्रकार के 15 ‘पंख’ पेपर मिले, जिनमें से 5 को पुरस्कार दिया गया.

Advertisement

हाल ही में कई नयी पहलकदमियां लागू की गयी, जो इस प्रकार हैं-

Advertisement

डेयर टू ट्राई : यह 2016 में आरंभ की गयी नयी पहल है, जो सुधार के उन प्रयासों को सम्मानित करता है, जो सफल नहीं हो सका. यह असफलता से सीखने को प्रोत्साहित करता है. इस बार सौंपे गये 9 प्रोजेक्ट्स में से एक को पुरस्कृत किया गया.

Advertisement

आउटस्टैंडिंग एक्टीविटी क्लब : 2016 में ही यह नयी पहल आरंभ की गयी थी. इसका उद्देश्य एक्टीविटी क्लबों का अधिकतम लाभ उठाते हुए विद्यार्थियों के सर्वांगीन विकास के लिए स्कूलों को प्रोत्साहित करना है. इस बार 25 स्कूलों से सौंपे गये 17 सुधार प्रोजेक्ट्स में से 4 को पुरस्कृत किया गया.

Advertisement

टीचर अवार्ड फॉर एक्सेलेंस इन टीचिंग : 2016 में आरंभ यह एक अन्य पहल थी. इस पुरस्कार का उद्देश्य शिक्षण में उत्कृष्टता के लिए शिक्षकों के प्रयासों का सम्मानित करना है. इस श्रेणी में 18 आवेदनकर्ताओं में से 3 शिक्षकों को पुरस्कार दिया गया.

Advertisement

अच्छे अभ्यास को अपनाने के लिए पुरस्कार : इसे 2018 में आरंभ किया गया था. यह पुरस्कार अन्य स्कूलों के अच्छे अभ्यासों को पहचानने और लागू करने एवं वांछित परिणाम पाने के लिए इसमें और सुधार करने के लिए किसी सुधार टीम द्वारा किये गये प्रयासों को सम्मानित करता है.

Advertisement

पुरस्कार वितरण कार्यक्रम के मुख्य अंश :-
वार्षिक टीइइपी पुरस्कार वितरण कार्यक्रम में बड़ी संख्या में 50 से अधिक स्कूलों के प्रधानाध्यापकों, शिक्षकों, विद्यार्थियों समेत वरीय सरकारी अधिकारियों, टाटा ग्रुप कंपनियों के वरीय अधिकारियों, यूनियन पदाधिकारियों, सेवानिवृत्त अधिकारियों और वरिष्ठ नागरिकों ने हिस्सा लिया. टाटा बिजनेस एक्सेलेंस ग्रुप की डॉ दीपाली मिश्र और विद्या बट्टीवाला ने कार्यक्रम का संचालन किया.

Advertisement

टीइइपी-2018: पुरस्कार व सम्मान परिणाम

Advertisement

टीइइपी रेगुलर प्रोग्राम
प्रक्रिया : 1000 अंकों के आधार पर टीइइपी मूल्यांकन किया जाता है. पहली बार एक निर्दिष्ट स्कोर बैंड हासिल करने वाले स्कूलों या निर्दिष्ट स्कोर बैंड के भीतर उत्कृष्टता स्तर कायम रखने के लिए ‘सस्टेंड’ (कायम) का दर्जा प्राप्त करने वाले स्कूलों को सम्मानित किया जाता है. प्रशिक्षित मूल्यांकनकर्ताओं की एक टीम द्वारा अंक दिये जाते हैं. मूल्यांकनकर्ता आगे के सुधारों पर कार्य करने के लिए स्कूलों को और मजबूती व सुधार के अवसर प्रदान करते हैं. 2018 में टीइइपी रेगुलर प्रोग्राम में 9 स्कूलों ने हिस्सा लिया.

Advertisement

श्रेणी-स्कोर-बैंड (1000 में)-स्कूलों के नाम

Advertisement
  1. शिक्षा में उत्कृष्टता के लिए डॉ जेजे ईरानी अवार्ड-600 और इससे अधिक (सस्टेंड)-तारापोर स्कूल एग्रिको
  2. शिक्षा में उत्कृष्टता की उल्लेखनीय उपलब्धि के लिए प्रशस्ति-550-599 (पहली बार)-550-599 (सस्टेंड)केरला पब्लिक स्कूल, कदमा
  3. शिक्षा में उत्कृष्टता की अद्वितीय उपलब्धि के लिए प्रशस्ति-500-549 (सस्टेंड)-जुस्को स्कूल, साउथ पार्क
  4. शिक्षा में उत्कृष्टता की महत्वपूर्ण उपलब्धि के लिए प्रशस्ति-450-499 (सस्टेंड)-बाग-ए-जमशेद
  5. शिक्षा में उत्कृष्टता की मजबूत प्रतिबद्घता के लिए प्रशस्ति-400-449 (पहली बार)-एआइडब्ल्यूसी एकेडमी ऑफ एक्सीलेंस, बारीडीह हाई स्कूल, एआइडब्ल्यूसी
  6. भागीदारी का प्रमाणपत्र-केरला पब्लिक स्कूल, गम्हरिया, आरएमएस स्कूल बालीचेला

टीइइपी बेसिक प्रोग्राम
प्रक्रिया
: इस प्रोग्राम के तहत प्रशिक्षित मूल्यांकनकर्ताओं की टीम एक ‘बेसिक चेकलिस्ट’ का इस्तेमाल कर अनुपालन अंक के आधार पर स्कूलों का मूल्यांकन करती है. 90 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने वाले स्कूलों को सम्मानित किया जाता है. इसके बाद वे रेगुलर प्रोग्राम के लिए आवेदन कर सकते हैं. शनिवार को हुए कार्यक्रम में बेसिक प्रोग्राम में हिस्सा लेने वाले 10 स्कूलों में से 3 स्कूलों को सम्मानित किया गया.

Advertisement
  1. बेसिक असेसमेंट को सफलतापूर्वक पूरा करने के लिए प्रशस्ति-90 से अधिक अंक-चिन्मया विद्यालय साउथ पार्क, सामुदायिक उच्च विद्यालय, बागबेड़ा, विद्यासागर उच्च विद्यालय, बामनगोड़ा
  2. बेसिक एसेसमेंट में भागीदारी-भागीदारी का प्रमाणपत्र-एबीएमपीए हाई स्कूल, राहरगोड़ा, गोपबंधु विद्यापीठ, गोलमुरी उत्कल समाज स्कूल, मध्य एवं उच्च विद्यालय, लक्ष्मीनगर, प्राइमरी स्कूल ब्यांगबिल, विद्याज्योति टिनप्लेट स्कूल, श्री विद्यामंदिर, घाटशिला

टीईईपी सरल प्रोग्राम
प्रक्रिया : इस प्रोग्राम के तहत प्रशिक्षित मूल्यांकनकर्ताओं की टीम एक ‘सरल चेकलिस्ट’ का इस्तेमाल कर अनुपालन अंक के आधार पर स्कूलों का मूल्यांकन करती है. इसमें 90 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने वाले स्कूलों को सम्मानित किया जाता है. इसके बाद वे बेसिक प्रोग्राम के लिए आवेदन कर सकते हैं. ‘सरल प्रोग्राम’ में हिस्सा लेने वाले 8 स्कूलों में से 3 स्कूलों को सम्मानित किया गया.

Advertisement
  1. सरल एसेसमेंट को सफलतापूर्वक पूरा करने के लिए प्रशस्ति-90 से अधिक अंक-प्राइमरी स्कूल, जसकनडीह, प्राइमरी स्कूल, केड़ो, टिनप्लेट यूनियन महिला इंटर महाविद्यालय
  2. सरल एसेसमेंट में भागीदारी-भागीदारी का प्रमाणपत्र-कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय, टिनप्लेट आंध्र मिडिल स्कूल, टिनप्लेट मुस्लिम मिडिल स्कूल, यूएचएस, राजदोहा, यूएमएस, लोवाडीह

टीईईपी इम्प्रूवमेंट इनिशिएटिव्स
इक्विप, डेयर टू ट्राई, इनोटीचिंग, पंख, आउटस्टैंडिग एक्टीविटी क्लब, टीचर अवार्ड, गुड प्रैक्टिस एडॉप्टेशन और पर्ल पर विभिन्न स्कूलों द्वारा सुधार परियोजनाएं/पेपर्स/आवदेन सौंपे गये. चयनित पेपर्स को मूल्यांकन के लिए जूरी के समक्ष प्रस्तुत किया गया और इनमें से चुने गये पेपर्स को पुरस्कृत किया गया. पुरस्कार प्राप्त चयनित

Advertisement

पेपर्स/परियोजनाएं/आवदेन इस प्रकार हैं :-
पुरस्कारस्कूलपरियोजना/पेपर/आवेदन

Advertisement

इक्विप-बारीडीह हाई स्कूल, एआईडब्ल्यूसीपेस विद शेप्स-इम्प्रूव में मैथ्स स्कोर्स क्लास, केपीएस, गम्हरिया-लक्ष्य-हॉबी क्लासेज में भागीदारी बढ़ाना

Advertisement

डेयर टू ट्राई-काशीडीह हाई स्कूल-लेट एस लाइट द लैंप ऑफ लर्निंग-मस्ती की पाठशाला के विद्यार्थियों के लिए सहभागी शिक्षा

Advertisement

गुड प्रोक्टिस एडॉप्टेशन-गुलमोहर हाई स्कूल-एरर एनालाइसिस-विद्यार्थियों को सीखने में सुधार के क्षेत्रों का विश्लेषण, जुस्को स्कूल कदमा-सीसीए-एन एंडीवर-सीसीए में भागीदारी सुधारने के लिए, आरएमएस हाई स्कूल खूंटाडीह-नो चाइल्ड लेफ्ट बिहाइंड-विद्यार्थियों के पृथ्थकीकरण के लिए केंद्रित दृष्टिकोण

Advertisement

इनोटीचिंग : टीइइपी के रेगुलर प्रोग्राम में अंग्रेजी माध्यम स्कूल-जुस्को स्कूल साउथ पार्क-नोवेल्ला : अ नोवल्टी-उपन्यासों को दिलचस्प बनाने के लिए विद्यार्थियों को असाइनमेंट, जुस्को स्कूल साउथ पार्क टीचिंग केमेस्ट्री- केमेस्ट्री मेड ईजी इन हाई स्कूल
तारापोर स्कूल, एग्रिको-मैथ्स इन एवरी वॉक ऑफ लाइफ-गणित में नवोन्वेषी गतिविधियां

Advertisement

इनोटीचिंग : टीइइपी के रेगुलर प्रोग्राम में हिंदी माध्यम स्कूल-एबीएमपीए हाई स्कूल, राहरगोडा-फुटबॉल और पाचन तंत्र, सामुदायिक उच्च विद्यालय बारीगोड़ा, आसानी से विज्ञान सीखने के ट्रिक-
सामुदायिक उच्च विद्यालय, बारेगोड़ा-वैल्यू सीखने के ट्रिक, विद्यासागर उच्च विद्यालय, बामनगोड़ा-हिंदी, अंग्रेजी और गणित में शिक्षा को मनोरंजक और सरल बनाना

Advertisement

पंख-एआइडब्ल्यूसी एकेडमी ऑफ एक्सीलेंस प्रयास (नीमॉन)-प्रोमोटिंग नेचुरल प्रोडक्ट्स, संत नंदलाल स्मृति विद्यामंदिर, घाटशिला-क्लास मैगजीन-अ न्यू होराइजन-विद्यार्थियों में लेखन कौशल का विकास, विवेक विद्यालय-स्वच्छता-मेंसुरेशन हाईजीन ऐंड एजुकेटिंग मदर्स, सामुदायिक उच्च विद्यालय, बारीगोड़ा-साक्षरता अभियान-व्यस्कों और गरीबों के लिए नि:शुल्क साक्षरता, विद्यासागर उच्च विद्यालय-उड़ान-विद्यार्थियों में ध्यान को प्रोत्साहित करने के लिए नया आइडिया-आउटस्टैंडिंग एक्टीविटी क्लब अंग्रेजी माध्यम, जेएच तारापोर स्कूल-सेफ क्लब -क्रिएटिंग रोड सेफ्टी अवेयरनेस इन नेबरहुड, तारापोर स्कूल एग्रिको-गो ग्रीन क्लब-स्वच्छ भारत अभियान के साथ गतिविधियों के माध्यम से पर्यावरण जागरूकता, संत नंदलाल स्मृति विद्या, घाटशिला बेटर इन्वायर्नमेंट-बेटर टुमौरो

Advertisement

हिंदी माध्यम स्कूल
विद्यसागर उच्च विद्यालय, बामनगोड़ा-जानशीन क्लब-आस-पड़ोस में स्वच्छता और स्वास्थ्य पर जागरूकता का सृजन

Advertisement

टीचर्स अवार्ड

Advertisement
  1. जुस्को स्कूल कदमा-आनंदिता रॉय
  2. जुस्को स्कूल कदमा-जीवीएन लक्ष्मी
  3. केरला पब्लिक स्कूल गम्हरिया-अमोल दुबराज

पर्ल

Advertisement
  1. बारीडीह हाई स्कूल-स्कूल गतिविधियों के माध्यम से योग को प्रोत्साहन
  2. जुस्को स्कूल, साउथ पार्क-श्रमशक्ति विकास और प्रेरणा के लिए प्रदर्शन सुधार प्रणाली
  3. तारापोर स्कूल स्कूल-म्यूजिकल एक्स्ट्रावैगेंजा- विद्यार्थियों एवं शिक्षकों में बहु-कौशल को बढ़ावा
  4. चिन्मया विद्यालय साउथ पार्क-रेनबो-द आर्ट फेस्ट- कला प्रेमा को बढावा देने के लिए अंतर स्कूल उत्सव
  5. गोपबंधु विद्यापीठ-डेमोक्रेटिक स्टूडेंट काउंसिल इलेक्शन-जिम्मेदार नागरिकों का विकास
  6. कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय-विद्यार्थियों के लिए व्यवसायिक कोर्स
  7. मध्य एवं उच्च विद्यालय लक्ष्मीनगर-सप्ताह के दिन-विद्यार्थियों के बीच जिम्मेदारी को प्रोत्साहन
  8. प्राइमरी स्कूल ब्यांगबिल-रोल कॉल विद द डिफरेंस-विद्यार्थियों के प्राथमिक जानकारी सीखने के लिए एसेंबली व उपस्थिति से लाभ उठाना
  9. इमरी स्कूल केड़ो-एसेंबली में त्वरित उपस्थिति
  10. श्रीश्री विद्यामंदिर घाटशिला-द हैपीनेस कोर्स-शिक्षकों एवं विद्यार्थियों के लिए आर्ट ऑफ लिविंग प्रोग्राम
  11. टिनप्लेट यूनियन इंटर महिला महाविद्यालय-कॉलेज के दायित्वों के लिए विद्यार्थियों की टीम- नेतृत्व एवं टीमवर्क विकास

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

spot_imgspot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!