tata-group-mistry-issue-टाटा संस खरीदेगी मिस्री परिवार की हिस्सेदारी, मिस्री परिवार ने भी 70 साल पुराने रिश्ते को तोड़ने को तैयार, सुप्रीम कोर्ट में दोनों ने दिया यह हलफनामा, मिस्री परिवार के टाटा के शेयर बेचने पर रोक

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर : टाटा संस और शापूरजी पालन जी ग्रुप के बीच चल रहे विवाद के मामले में सुप्रीम कोर्ट में एक नया मोड़ तब आया जब टाटा समूह की ओर से उनके वकील अभिषेक मनु सिंघवी और हरीश साल्वे ने टाटा समूह की ओर से यह याचिका दी कि वे लोग शापूरजी पालन जी ग्रुप के टाटा संस में स्थित 18 फ़ीसदी हिस्सेदारी को खरीदना चाहती है. आपको बता दें कि शापूरजी पालन जी समूह आर्थिक संकट से गुजर रहा है और टाटा समूह की 18 फ़ीसदी हिस्सेदारी बेचना चाहती थी. इसको देखते हुए सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को हुई सुनवाई के दौरान टाटा समूह ने एक याचिका में यह कहा कि वे लोग शापूरजी पालन जी समूह की हिस्सेदारी को खुद खरीद लेगी. दूसरी ओर शापूरजी पालन जी समूह ने मंगलवार को कहा कि वह टाटा संस में हिस्सेदारी बेचकर निकलने को तैयार है. कंपनी ने कहा है कि शापूरजी पालन जी समूह और टाटा समूह का रिश्ता 70 साल पुराना है और म्युचुअल ट्रस्ट, भरोसा और दोस्ती के आधार पर चल रहा था. लेकिन हाल के विवादों से यह डगमगा गया है. इस कारण टाटा संस से वे लोग निकलना चाहते हैं. यह शेयरधारकों के लिए भी हितकर होगा. कंपनी ने कहा है कि आज शापूरजी पालन जी ग्रुप ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि टाटा ग्रुप से अलग होना जरूरी है क्योंकि कानूनी लड़ाई से सिर्फ आर्थिक नुकसान होगा. आपको बता दें कि शापूरजी पालन जी ग्रुप में अपने दो सब्सिडियरी कंपनियों के जरिए टाटा संस में कुल 18.4 फ़ीसदी हिस्सेदारी है. बाकी हिस्सेदारी टाटा ग्रुप और टाटा ग्रुप की दूसरी कंपनियों के जरिए ली है. शापूरजी पालन जी ग्रुप अपने लिए फंड जुटाना चाहती है जिसके लिए वह अपनी हिस्सेदारी को बेचना चाहती थी. इसको देखते हुए टाटा ग्रुप में यह हिस्सेदारी खरीदने की भी इच्छा जाहिर कर दी है. आपको बता दें कि टाटा संस के चेयरमैन के पद से शापूरजी पालन जी मिस्त्री के पुत्र सायरस मिस्त्री को हटा दिया गया था, जिसके बाद से विवाद गहरा गया और अक्टूबर 2016 से यह मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है. अब लगभग तय हो गया है कि टाटा समूह से शापूरजी पालन जी मिस्त्री का अलग होगा 70 साल पुराना हो जाएगा. फिलहाल सुप्रीम कोर्ट ने शापोर जी पालनजी मिस्री समूह को 28 अक्टूबर तक टाटा संस के शेयर बेचने पर रोक लगा दी है.

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply