टाटा स्टील के जी ब्लास्ट फर्नेस में 16 कर्मचारी सरप्लस, एक सेक्शन आउटसोर्स, टाटा वर्कर्स यूनियन अध्यक्ष ने कहा था-आउटसोर्स काम स्थायी मजदूर को देंगे, हुआ उल्टा, राजनीति का शिकार हुए राजेश व अन्य

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर : टाटा स्टील के जी ब्लास्ट फर्नेस के 16 कर्मचारी राजनीति का शिकार हो गए है. अध्यक्ष आर रवि प्रसाद के नेतृत्व में वहां के मैनपॉवर का समझौता किया गया. इसके तहत ऑपेरशन में तय किया गया कि कुल 63 मैनपॉवर तय किया गया जबकि अभी कार्यरत कर्मचारियों की संख्या 79 है जबकि मैनेजमेंट का प्रस्ताव 61 का मैनपॉवर का था जो 63 मैनपॉवर में फाइनल हुआ. कुल 16 कर्मचारियों की संख्या को घटाने पर सहमति हुई. इसके तहत एनएस ग्रेड के कर्मचारी को सरप्लस कर दिया गया है जबकि वहाँ से कमिटी मेंबर का चुनाव लड़ चुके राजेश कुमार भी सरप्लस हो गए है. राजेश कुमार पिछले चुनाव में मुमताज अहमद से एक ही वोट से चुनाव में हार गए थे. लेकिन मुमताज अहमद के लिए राजेश कुमार चुनौती बने हुए थे जिस कारण उनको भी सरप्लस पूल में डाल दिया गया. यूनियन अध्यक्ष आर रवि प्रसाद और शाहनवाज आलम के करीबी के तौर पर मुमताज अहमद को जाना जाता है. दूसरी ओर बुधवार को हुए समझौते के तहत जी ब्लास्ट फर्नेस के कास्ट सेक्शन को आउटसोर्स कर दिया गया जबकि यूनियन अध्यक्ष आर रवि प्रसाद ने वेज रिवीजन समझौता के वक़्त कहा था कि सारा आउटसोर्स काम को स्थायी कर्मचारियों के लिए इंसोर्स किया जाएगा. लेकिन उससे उल्टा यह समझौता हुआ है, जिसमे एक सेक्शन को ही आउटसोर्सिंग कर दिया गया है.

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement