spot_imgspot_img

Global Statistics

All countries
240,226,016
Confirmed
Updated on October 15, 2021 12:36 AM
All countries
215,798,951
Recovered
Updated on October 15, 2021 12:36 AM
All countries
4,893,452
Deaths
Updated on October 15, 2021 12:36 AM
spot_img

tata-steel-international-design-competition-टाटा स्टील ने अपनी अंतरराष्ट्रीय डिजाइन प्रतियोगिता ‘नोशन्स ऑफ इंडिया’ के विजेताओं की घोषणा की, नामदेव तल्लुरु और एआर. जे के जयकांत का ‘बिलियन इम्प्रेशन्स’ बना डिजाइन प्रतियोगिता का विजेता, विजेता डिजाइन को रांची शहर में स्थापित करेगी टाटा स्टील

Advertisement
Advertisement
पहला विजेता आर्ट.

जमशेदपुर : टाटा स्ट्रक्च्यूरा द्वारा आयोजित अंतरराष्ट्रीय डिजाइन प्रतियोगिता ‘नोशन्स ऑफ इंडिया’ के दूसरे संस्करण को जबरदस्त रिस्पांस मिला और विजेता डिजाइन “बिलियन इम्प्रेशन्स” के साथ गांधी जयंती के अवसर पर इसका समापन हुआ. एआर नामदेव तल्लुरु और एआर जेके जयकांत के “बिलियन इम्प्रेशन्स” को विजेता डिजाइन घोषित किया गया. मिडोरी आर्किटेक्ट्स के “द नॉट”और कोलाबोरेटिव आर्किटेक्ट्स के “नेशनल यूनिटी पैवेलियन”को क्रमशः दूसरा और तीसरा स्थान प्राप्त हुआ. इसके साथ ही, टाटा स्टील ने घोषणा की कि विजेता डिजाइन को रांची शहर में स्थापित किया जाएगा. विद्यार्थी वर्ग में स्कूल ऑफ प्लानिंग ऐंड आर्किटेक्चर के सुमित कुमार शर्मा के डिजाइन “द स्पिरिट”को विजेता घोषित किया गया. इस अवसर पर टाटा स्टील के सीईओ व एमडी, टीवी नरेंद्रन ने कहा कि स्टील भविष्य के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण सामग्री है. डिजाइनर सुंदरता की परिकल्पना करते हैं और एक स्टील निर्माता के रूप में टाटा स्टील उस सुंदरता को साकार करने के लिए कार्यक्षमता प्रदान करता है. टाटा स्ट्रक्च्यूरा एक ऐसी महत्वपूर्ण पेशकश है, जो स्टील की खूबसूरती दिखाने में मदद करती है. ‘नोशन्स ऑफ इंडिया’ स्टील द्वारा सक्षम नवीनतम डिजाइनों को जीवंत करने के लिए सबसे रचनात्मक व प्रतिभाशाली इंजीनियरों और वास्तुकारों को प्रोत्साहित करने का हमारा एक प्रयास है. आयोजन के मुख्य वक्ता के रूप में द एशियन हेरिटेज फाउंडेशन के चेयरमैन व फाउंडर ट्रस्टी तथा ‘नोशन्स ऑफ इंडिया’ जूरी के चेयरपर्सन ने कहा कि वे इस प्रतियोगिता को कार्यान्वयन के एक बहुत ही विश्वसनीय वादे के रूप में देखते है. प्रतियोगिता में संदर्भ-समृद्ध विचारों के सैकड़ों नमूने प्रस्तुत किए गए थे, लेकिन जूरी पैनल द्वारा कठोर परीक्षा के बाद इनमें से कुछ का ही चयन हुआ. वे उन सभी विजेताओं और प्रतिभागियों को बधाई देना चाहता हूं, जिन्होंने ‘नोशन्स ऑफ इंडिया’ के इस नवीन प्रयास में हिस्सा लिया. आगे का रास्ता हमेशा संभावनाओं से भरा रहता है. क्षमता से भरपूर, कॉरपोरेट इंडिया और क्रिएटिव इंडिया के बीच सहयोग का रोमांच बहुत शानदार और व्यापक है. वर्चुअल प्लेटफॉर्म पर आयोजित और 400 से अधिक टेक्नोक्रेट्स की सहभागिता के साथ फिनाले में दुनिया भर के कुछ प्रतिभाशाली आर्किटेक्ट्स और इंजीनियरों ने अपनी कल्पना का प्रदर्शन किया, जो आज और कल के भारत का प्रतिनिधित्व करता है. समापन कार्यक्रम में टाटा स्टील की वरीय लीडरशिप टीम समेत वाइस प्रेसिडेंट कारपोरेट सर्विसेज चाणक्य चौधरी और वाइस प्रेसिडेंट मार्केटिंग व सेल्स फ्लैट प्रोडक्ट राजीव सिंघल ने हिस्सा लिया. (नीचे पूरी खबर पढ़ें)

Advertisement
दूसरा विजेता

इस साल की शुरुआत में टाटा ट्रस्ट के चेयरमैन व टाटा संस के एमेरिट्स चेयरमैन रतन टाटा और टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने इस प्रतियोगिता का शुभारंभ किया था. पांच महीने तक चली इस प्रतियोगिता में 13 देशों के प्रतिभागियों के साथ 5,200 से अधिक पंजीकरण हुए. 575 से अधिक प्रविष्टियां प्राप्त हुई, जिसके बाद जूरी के पांच स्तर पर कठोर चयन प्रक्रिया चली. जूरी में राजीव सेठी, नील लीच, गेरी जूडाह, रतन बॉटलीबोई, सुदर्शन शेट्टी, संजीव कुमार लोहिया, प्रो के जैसिम, हरिओम गेरा, पी सूर्य प्रकाश, शीला श्री प्रकाश, इंजीनियर धनंजय दाके और अनुराग सिन्हा आदि शामिल थे. प्रतियोगिता की मूल्यांकन प्रक्रिया के तहत भारत के 75वें स्वतंत्रता दिवस पर 15 अगस्त, 2021 को कुल 12 प्रमुख डिजाइन शॉर्टलिस्ट कर फाइनलिस्ट के रूप में घोषित किए गए थे. पेशेवर समुदाय की समग्र भागीदारी को सारांशित करते हुए सरिता विजयन, क्यूरेटर, ‘नोशन्स ऑफ इंडिया’ ने कहा कि न केवल भारतीय डिज़ाइनर, बल्कि अंतरराष्ट्रीय डिज़ाइन प्रोफेशनल भी हमारे इस आह्वान पर पहुंचे हैं. यह इस बात का प्रमाण है कि ‘नोशन्स ऑफ इंडिया’ प्रतियोगिता को डिजाइन कम्युनिटी द्वारा बहुत सराहना मिली है. यह रोमांचकारी और समृद्ध अवधारणा आर्किटेक्ट्स और डिजाइनरों को साहसिक, प्रयोगात्मक और अभिनव होने और ऐसे आईकॉनिक स्टील संरचनाएं बनाने के लिए प्रोत्साहित करने का टाटा स्टील का एक प्रयास है, जो एक नये भारत के सार का प्रतीक हो. (नीचे पूरी खबर पढ़ें)

Advertisement
तीसरा विजेता.

‘नोशन्स ऑफ इंडिया’ के बारे में
‘नोशन्स ऑफ इंडिया’ अन्य सामग्रियों के साथ वाईएसटी 355 स्टील के हॉलो सेक्शनों का उपयोग कर आउटडोर प्रतीक/संरचना बनाने के लिए एक डिजाइन प्रतियोगिता है. इस प्रतियोगिता में प्रतिभागियों से ऐसी कोई मूर्तिकला/संरचना डिजाइन करने की अपेक्षा की गई थी, जो भविष्य में राष्ट्र की सोच और यात्रा को दर्शाए. हालांकि बाहरी आयामी सीमाएं निर्धारित की गई थीं, तथापि प्रतिभागियों को इसे 12 x 12 x 12क्यूबिक मीटर की आयामी सीमा के भीतर रखने का प्रयास करना है.

Advertisement
Advertisement
WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM
IMG-20200108-WA0007-808x566
WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM (1)
WhatsApp_Image_2020-03-18_at_12.03.14_PM_1024x512
previous arrow
next arrow

Leave a Reply

spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!