tata-steel-kpo-incident-टाटा स्टील कलिंगानगर में आकाशीय बिजली गिरने से मरने वाला ट्रेड अप्रेंटिस मानगो उलीडीह का, गरीब टीवी मैकेनिक के इकलौते बेटे को हादसे ने छीन लिया, तीनों घायल की हुई पहचान, सारे जमशेदपुर के ही

राशिफल

मृतक ट्रेड अप्रेंटिस मनोज कुमार शर्मा.

जमशेदपुर : टाटा स्टील कलिंगानगर में अप्रेंटिस प्रशिक्षण पर आकाशीय बिजली गिरने की घटना में मरने और घायल की पहचान हो चुकी है. मरने वाला जमशेदपुर के उलीडीह टैंक रोड के रहने वाले मनोज कुमार शर्मा का 21 साल का बेटा आदर्श कुमार शर्मा है. वहीं घायल 20 वर्षीय सूरज कुमार सोरेन, 21 वर्षीय साहिल कुमार राम और 21 वर्षीय प्रवीण कुमार शामिल है. इन तीनों का इलाज स्थानीय अस्पताल में चल रहा है. घटना के संबंध मे टाटा स्टील कारपोरेट कम्यूनिकेशन की ओर से जारी बयान में बताया गया है कि वर्ष 2018 बैच के चार युवक कंपनी के सीआरएम प्लांट में अप्रेंटिसशिप कर रहे हैं. चार युवकों में 20 वर्षीय आदर्श शर्मा, 21 वर्षीय प्रवीण कुमार, 21 वर्षीय साहिल कुमार राम और 20 वर्षीय सूरज कुमार सोरेन शामिल हैं, जो शनिवार शाम टाटा कलिंगानगर (ओड़िशा) हास्टल परिसर के पास स्थित ग्राउंड में फुटबाल खेल रहे थे. इसी बीच आकाशीय बिजली गिरने से चारों युवक घायल हो गए. मौके पर मौजूद लोगों ने चारों घायलों को अस्पताल पहुंचाया जहां जांच के बाद डाक्टरों ने आदर्श शर्मा को पहले से ही मृत घोषित कर दिया गया. जबकि अन्य तीन युवकों को एडमिट कर इलाज शुरु कर दिया गया है. जारी बयान में कहा गया है कि अन्य तीन युवकों की स्थिति स्थिर बनी हुई है. युवकों का इलाज कर रहे डाक्टर लगातार नजर रखे हुए हैं. कंपनी प्रबंधन ने घटना पर दुख व्यक्त किया है. (नीचे पढ़िये कैसे इकलौते बच्चे को टीवी मैकेनिकल ने किया था तैयार)

घायल सारे ट्रेड अप्रेंटिस. दाढ़ी वाला सिंगल फोटो में प्रवीण कुमार. ऊपर चश्मा पहने साहिल कुमार राम और नीचे सूरज कुमार सोरेन.

उलीडीह का रहने वाला है मृतक
मरने वाला ट्रेड अप्रेंटिस जमशेदपुर के मानगो उलीडीह टैंक रोड का रहने वाला मनोज कुमार शर्मा का इकलौता बेटा आदर्श कुमार शर्मा है. वह गरीब परिवार से था. मृतक के पिता ने बताया कि उसका अकेला बेटा था. वह खुद टीवी मैकेनिक है और लोगों के कहने पर वह लोगों के घर जाकर टीवी ठीक करता है. उसको भरोसा था कि अब उनका बेटा उनका सहारा बनेगा, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया और इकलौता बेटे की मौत हो गयी. उन्होंने बताया कि बिष्टुपुर स्थित एसएनटीआइ से इंस्ट्रक्टर आये थे, जिन्होंने बताया कि बेटे की हादसे में मौत हो चुकी है. इसके बाद घर पर ही दुख का पहाड़ टूट गया. क्रंदन मच गया. इस बीच घायल सारे लोग भी जमशेदपुर के ही रहने वाले है. सबसे बड़ी बात तो यह है कि इस घटना में घायल सारे ट्रेड अप्रेंटिस टाटा स्टील के कर्मचारियों के बच्चे नहीं है, सारे बाहरी लोग थे, जिनकी ट्रेड अप्रेंटिस में बहाली हुई थी.

Must Read

Related Articles