tata-steel-noamundi-टाटा स्टील ने नोआमुंडी में एनुअल मेटलीफेरस माइंस सेफ्टी वीक मनाया, डिजिटल पहल पर आधारित मॉडल रहा आकर्षण का केंद्र, वर्किंग मॉडल में 45 से अधिक टीमों ने लिया हिस्सा

राशिफल

नोआमुंडी : टाटा स्टील की नोआमुंडी आयरन माइन और काटामाटी आयरन माइन ने शुक्रवार को
चाईबासा के नोआमुंडी में एमई स्कूल ग्राउंड्स में खान सुरक्षा महानिदेशालय (डीजीएमएस) के तत्वावधान में आयोजित 60वें एनुअल मेटलीफेरस माइंस सेफ्टी वीक कॉम्पिटिशन 2022 के तहत प्रचार और प्रसार कार्यक्रम का आयोजन किया. शैक्षिक संस्थानों और प्रमुख खनन उपकरण निर्माताओं द्वारा खानों और साइटों में सुरक्षा पर वर्किंग मॉडल प्रदर्शित किए गए. शून्य-नुकसान संस्कृति के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दिखाने के लिए 45 से अधिक टीमों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया. चाईबासा रीजन के डायरेक्टर ऑफ माइंस सेफ्टी के अल्ताफ हुसैन अंसारी ने मुख्‍य अतिथि के रूप में अतुल भटनागर जीएम (ओएमक्‍यू), टाटा स्‍टील और विभिन्‍न खानों के प्रतिनिधियों और अन्‍य गणमान्‍य अतिथियों की उपस्थिति में कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई. दिनभर चले इस कार्यक्रम में सुरक्षा सुविधाओं को लागू करने में स्वचालित और डिजिटल पहल पर आधारित मॉडल मुख्य आकर्षण के केंद्र थे. (नीचे भी पढ़ें)

उन्नत तकनीकी सुरक्षा समाधानों की विशेषताओं वाले वर्किंग मॉडल ने निरीक्षण दल के साथ ही आगंतुकों को भी आकर्षित किया. इस अवसर पर अपने संबोधन में अल्ताफ हुसैन अंसारी ने कहा, “खानों के अंदर और बाहर सुरक्षा को प्राथमिकता देना सबसे महत्वपूर्ण मापदंडों में से एक है. साइट पर सेफ्टी फ्रेमवर्क को मजबूत करके और सुरक्षा समाधानों को लागू करने में बेंचमार्क स्थापित करके, हम अपने बीच शून्य-नुकसान संस्कृति को बरकरार रखने में सक्षम होंगे.” सभा को संबोधित करते हुए अतुल भटनागर ने कहा, “हालांकि खनन उद्योग प्रगति कर रहा है, नई तकनीकों और डिजिटल फ्रेमवर्क को अपनाने के माध्यम से खानों में नेट जीरो-हार्म संस्कृति हासिल करने के लिए अपने प्रयासों तेजी लाना अनिवार्य है”. कार्यक्रम में प्रेरणा महिला समिति के स्टॉल पर काफी भीड़ रही. लेजर शो, ऑनलाइन क्विज और फन जोन जैसी गतिविधियों ने दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया.

Must Read

Related Articles