spot_img

tata-steel-young-astronomer-talent-search-टाटा स्टील यंग एस्ट्रोनॉमर टैलेंट सर्च ‘याट्स-2020’ का 14वां संस्करण आयोजित, ओड़िशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने टाटा स्टील की पहल को विकासोन्मुख बताया, एमडी ने कहा-

राशिफल

जमशेदपुर : यंग एस्ट्रोनॉमर टैलेंट सर्च (याट्स-2020)के 14वें संस्करण के तहत डिजिटल मंच पर रविवार को आयोजित एक दिवसीय कार्यक्रम में ओडिशा के स्कूलों के 1000 से अधिक विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया. कोरोना महामारी को देखते हुए यह कार्यक्रम डिजिटल मंच पर आयोजित किया था. खगोल विज्ञान के आश्चर्यों के प्रति युवा मस्तिष्क को आकर्षित करने की पहल ‘टाटा स्टील यंग एस्ट्रोनॉमर टैलेंट सर्च’ ने इस वर्ष 14 साल पूरे कर लिए हैं. ओड़िशा सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के तत्वावधान में पठानी सामंत प्लेनेटेरियम के सहयोग से टाटा स्टील राज्य के स्कूली बच्चों के लिए 2007 से याट्स का संचालन कर रही है. इस पहल का उद्देश्य स्कूली बच्चों की प्रतिभाओं को चिन्हित कर उन्हें प्रोत्साहित करना है. यह उन्हें खगोल व अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में अपने ज्ञान को परखने और व्यक्त करने तथा ओड़िशा के लीजेंड्री खगोल विज्ञानी पठानी सामंत के महान योगदान को लोकप्रिय बनाने के लिए एक मंच प्रदान करता है. ओड़िशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, राज्य के विज्ञान व प्रोद्योगिकी, सार्वजनिक उद्यम, सामाजिक सुरक्षा व दिव्यांग सशक्तीकरण मंत्री अशोक चंद्र पांडा, विज्ञान व प्रोद्योगिकी विभाग, ओड़िशा के प्रधान सचिव संतोष कुमार षाडंगी, पठानी सामंत प्लेनेटेरियम के डायरेक्टर लक्ष्मीधर दास, टाटा स्टील के सीईओ व एमडी टीवी नरेंद्रन और टाटा स्टील कॉर्पोरेट सर्विसेज के वाईस प्रेसिडेंट चाणक्य चौधरी समापन समारोह के सम्मानित अतिथि थे. ओड़िशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने अपने संदेश में कहा कि अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र मंर बड़ी संख्या में विद्यार्थियों को आकर्षित कर ‘याट्स’ ओड़िशा के महान सुपुत्र पठानी सामंत के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि साबित हुआ है, जिन्हें खगोल विज्ञान को लेकर एक जुनून था. मुझे आशा है कि ‘याट्स’ ओड़िशा में राज्य के स्थायी विकास में योगदान देने वाले विद्वानों का एक समुदाय निर्मित करने के साथ-साथ अंतरिक्ष विज्ञान में विद्यार्थियों की प्रतिभाओं को चिन्हित, पोषित और विकसित करने के लिए एक मंच के रूप में अपनी भूमिका निभाना जारी रखेगा. टाटा स्टील के सीईओ और एमडी टीवी नरेंद्रन ने कहा कि टाटा स्टील का ओड़िशा राज्य के साथ एक लंबा और शानदार जुड़ाव है. राज्य में उद्योग स्थापित करने के अलावा, कंपनी कई सांस्कृतिक और सामुदायिक पहलों से जुड़ी रही है. उनमें से एक 2007 में लांच किया गया यंग एस्ट्रोनॉमर टैलेंट सर्च (याट्स) कार्यक्रम है और यह राज्य में महत्वकांक्षी युवा प्रतिभाओं के लिए सबसे उद्यमी पहल है. टाटा स्टील कॉर्पोरेट सर्विसेज के वाईस प्रेसिडेंट चाणक्य चौधरी ने कहा कि आने वाले वर्षों में हम ओड़िशा में स्टूडेंट कम्युनिटी के बीच एस्ट्रोनॉमी और स्पेटस साइंस को बढ़ावा देने के लिए एक अधिक संलग्न ‘याट्स कम्युनिटी’ के निर्माण की उम्मीद करते हैं. ओड़िशा सरकार और पठानी सामंत इंस्टीट्यूट को धन्यवाद देता हूं कि उन्होंने ‘याट्स’ प्रोग्राम को सभी सहायता प्रदान की, जो कि पिछले वर्षों के दौरान और मजबूत हुआ है. हम इस कार्यक्रम को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर तक ले जाने के लिए प्रतिबद्ध . ओड़िशा के प्रसिद्ध खगोलविद पठानी सामंत की 185 वीं जयंती के अवसर पर स्कूल के विद्यार्थियों के लिए खगोल विज्ञान और अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में विशेषज्ञों के साथ ज्ञान साझा करने वाली कार्यशालाएं और इंटरैक्टिव सत्र आयोजित किए गए. सत्र में डॉ सुभेंदु पटनायक, डिपुटी-डायरेक्टर (टेक्नीकल), पठानी सामंत प्लेनेटेरियम द्वारा पठानी सामंत के उपकरणों पर एक कार्यशाला, वीर सुरेंद्र साई यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी (वीएसएसयूटी), बुरला के एस्ट्रोनॉमी क्लब के सदस्यों के साथ ‘भविष्य का निर्माण-21वीं सदी के रॉकेट इंजीनियर’ पर एक इंटरैक्टिव सत्र और अतिथि वक्ता ध्रुव स्पेस प्राइवेट लिमिटेड, हैदराबाद के मिशन विशेषज्ञ विशाल लता बालाकुमार के साथ एक इंटरैक्टिव सत्र शामिल थे. इसके अलावा, प्रतिभागियों के लिए खगोल विज्ञान पर एक शो भी आयोजित किया गया था. ‘याट्स’ ओड़िशा राज्य के हाई स्कूल विद्यार्थियों के लिए एक अनूठी पहल है, जो अपनी शुरुआत से ही लोकप्रियता के पथ पर निरंतर आगे बढ़ रही है और पिछले साल राज्य के 30 जिलों के 300 स्कूलों के लगभग 62,000 विद्यार्थियों ने इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया था.

[metaslider id=15963 cssclass=””]
WhatsApp Image 2022-04-29 at 12.21.12 PM
WhatsApp-Image-2022-03-29-at-6.49.43-PM-1
Shiv Yog Physiotherapy And Yoga Classes
[adsforwp id="129451"]

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!