spot_img
मंगलवार, मई 11, 2021
spot_imgspot_img
spot_img

tata-steel-youth-changemaker-conclave-dhwani-टाटा स्टील का बदलाव लाने वाले युवाओं का कांक्लेव ”ध्वनि” 11 और 12 जनवरी को, बदलाव के वाहक युवाओं की कहानियों से युवाओं को मिलेगी सीख, एक हजार से ज्यादा युवा एक मंच पर जुटेंगे, जानें क्या है ध्वनि की विशेषताएं

Advertisement
Advertisement

ये होंगे गेस्ट स्पीकर (अतिथि वक्ता) : (नीचे पढ़े पूरी खबर.)

Advertisement
Advertisement
  1. प्रवीण निकम-रोशनी फाउंडेशन के संस्थापक और राष्ट्रीय यूथ अवार्ड 2016 के विजेता
  2. राजिया शेख-बस्तर फूड के नाम से संस्था चलाती है, जो आदिवासी युवाओं और महिलाओं के उत्थान के लिए काम करती है.
  3. रवि चौधरी-प्रयास यूथ फाउंडेशन के संस्थापक है, जिन्होंने वर्ष 2010 से लेकर अब तक 1 लाख 55 हजार 265 पेड़ लगा दिये है. महाराष्ट्र के औरंगाबाद में 75 हजार से अधिक देशी पेड़ों के बदौलत देश का सबसे बड़ा मानव द्वारा तैयार जंगल बना चुके है.
  4. रिद्धी अग्रवाल-स्व एकता की स्वतंत्र तालिम की सह संस्थापक है. बच्चों को स्कूल तक पहुंचाने वाली लड़की है, जो उत्तर प्रदेश से है.
  5. रामू सोरेन-जमशेदपुर के जादूगोड़ा में 30 संथाली ओलचिकी भाषा में सेंटर संचालित करते है और टीएलपी के पूर्व छात्र रहे है.
  6. आरती देवी-ओड़िशा के गंजाम जिले के दुमका पाड़ा की युवा सरपंच है. (नीचे पढ़े पूरी खबर.)

जमशेदपुर : टाटा स्टील की ओर से इस साल भी युवाओं का कांक्लेव ध्वनि का आयोजन किया जा रहा है. कोरोना काल में बदलाव का असर इसमें भी दिखने वाला है. इस बार इसका डिजिटल तरीके से युवाओं को जोड़ा जा रहा है. करीब एक हजार युवाओं को जोड़ा जा रहा है, जो झारखंड और ओड़िशा के अलावा टाटा स्टील के कार्यक्षेत्र के युवा शामिल होंगे. 11 और 12 जनवरी 2021 को होने वाले इस ध्वनि कार्यक्रम में समाज में अपने हुनर और अपनी काबिलियत से बदलाव लाने वाले युवाओं को रोल मॉडल के तौर पर पेश किया जायेगा, जिसके माध्यम से युवाओं को प्रेरित किया जायेगा कि वे लोग भी समाज में अपने बूते बदलाव ला सकते है. वर्तमान हालात में ग्रामीण युवाओं को खास तौर पर इसके माध्यम से आगे लाने की कोशिश होगी. यह जानकारी टाटा स्टील के सीएसआर के चीफ सौरभ राय ने एक ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में दी. उनके साथ सीएसआर के हेड निलॉय मितर भी थे. सौरभ राय ने बतया कि करीब 13 से 14 स्थानों से 700 लोग सीधे तौर पर ऑनलाइन जुड़ेंगे जबकि तीन सौ और लोगों को भी जोड़ा गया है, जो कहीं न कहीं कुछ समाज में बदलाव कर चुके है. सौरभ राय ने बताया कि टाटा स्टील की सीएसआर की टीम ने करीब एक से डेढ़ माह पहले एक मंथन यात्रा निकाली थी, जिसके माध्यम से युवाओं की पहचान की गयी थी. उसके माध्यम से युवाओं को इसमें जोड़ा गया है. वर्ष 2017 से शुरु हुए इस ध्वनि कार्यक्रम के जरिये युवाओं में बेहतर बदलाव आया है. अब बाल विवाह जैसी प्रथाओं पर लगाम लग रहा है, जिसमें युवा ही भागीदार है और उसको रोकने में कामयाबी मिली है. इसी तरह कई सारे बदलाव भी आया है. उन्होंने बताया कि इस बार का थीम है यूथ इंगेजमेंट इन ग्लोबल एक्शन (वैश्विक परिदृश्य में युवाओं की भूमिका). इस थीम पर ही चर्चा की जायेगी कि वैश्विक परिदृश्य में किस तरह लोकल स्तर पर बदलाव किया जा सकता है. इस दौरान भविष्य के हीरो को समाज के सामने लाकर उनकी तरह के युवाओं को समाज में तैयार करने की दिशा में यह अहम कदम होगा. सौरभ राय ने 2017 से लेकर 2020 तक के अपने सफर को साझा करते हुए बताया कि एक अच्छा बदलाव इसके जरिये देखने को मिला है. पर्यावरण संरक्षण, जल संकट, नेटवर्क जैसे मुद्दे पर अब युवा सरकार के भरोसे नहीं बल्कि खुद और गांव के लोगों के साथ मिलकर एक बदलाव की ओर आगे बढ़ रहे है. उन्होंने इसके चयन की प्रक्रिया पर पूछे गये सवाल पर बताया कि वैसे युवाओं को इसके माध्यम से जोड़ा गया है, जो किसी न किसी फील्ड में बेहतर काम कर चुके है या करने वाले है. उन्होंने बताया कि इसका विधिवत उदघाटन 11 जनवरी को टाटा स्टील के एमडी टीवी नरेंद्रन करेंगे. 12 जनवरी को युवा दिवस है, उस दिन युवाओं के इस कांक्लेव का समापन होगा. इसमें जो भी बातें होंगी, उसको सरकारी अधिकारियों के साथ भी साझा की जायेगी ताकि इन युवाओं की समस्याओं का निराकरण भी हो सके और गांव की समस्याओं से सरकार भी रुबरु हो सके. इस कार्यक्रम में कई सरकारी अधिकारियों को जोड़ने की भी कवायद की गयी है. इस बार के गेस्ट स्पीकर के तौर पर बदलाव लाने के लिए देश में जाने जाने वाले प्रवीण निकम होंगे, जो देश में महिलाओं से जुड़ी समस्याओं को उठाते रहे है और सामाजिक बदलाव भी ला चुके है. उत्तर प्रदेश की सुश्रि भी इसमें गेस्ट स्पीकर होगी. ओड़िशा के गंजाम जिले की युवा सरपंच आरती देवी को भी इसके माध्यम से जोड़ा जा रहा है जबकि जमशेदपुर के जादूगोड़ा के पास आदिवासी समाज से आने वाले रामो सोरेन को भी इसमें जोड़ा जा रहा है, जो खुद से बच्चों के स्कूल का संचालन कर शिक्षा देने का काम कर रहे है. उन्होंने एक सवाल का जवाब देते हुए कहा कि निश्चित तौर पर गांवों में नेटवर्क की दिक्कतें है, जिसको लेकर टाटा स्टील की ओर से ऐसे स्थान उपलब्ध कराये गये है, जहां युवा नेटवर्क से जुड़ सकते है. इसके अलावा उनको डाटा चार्ज भी दिया जा रहा है. यह डिजिटल बदलाव का ही वाहक है कि अब टीए-डीए की जगह ऐसे कार्यक्रमों के लिए टाटा स्टील डाटा चार्ज भी दे रही है. इस कार्यक्रम में मुख्य रुप से झारखंड के जमशेदपुर और आसपास के इलाके, पश्चिम सिंहभूम जिले के नोवामुंडी का माइंस का इलाका, झारखंड के वेस्ट बोकारो, जामाडोबा, ओड़िशा के कलिंगानगर, जोड़ा, गोपालपुर और सुकिंदा के युवा हिस्सा लेंगे. 11 जनवरी को इसका उदघाटन होगा, जिसमें टाटा स्टील के एमडी टीवी नरेंद्रन अपना उदघाटन स्पीच देंगे. इसके बाद ऑनलाइन पोलिंग भी होगी. पहले दिन क्वालिटी शिक्षा और युवाओं की भूमिका पर चर्चा होगी. इस दौरान आरोही की स्टोरी पर चर्चा होगी. इस दौरान खुला मंच भी आयोजित होगा, जिसमें लोग चर्चा करेंगे. वित्तीय विकास में युवाओं की भूमिका पर भी पहले दिन चर्चा होगी. 12 जनवरी युवा दिवस के दिन क्लाइमेट चेंज यानी मौसमी बदलावों में युवाओं की भूमिका पर चर्चा होगी. इस दिन टाटा स्टील के वीपी सीएस चाणक्य चौधरी भी अपना स्पीच देंगे. ओड़िशा के जाजपुर के डीसी चक्रवर्ती सिंह राठौर भी शामिल होंगे. वैसे तो हर साल 12 अगस्त को इस युवा कांक्लेव का आयोजन होता है, लेकिन चूंकि कोरोना काल था, इस कारण अगस्त 2020 में यह कार्यक्रम नहीं हो पाया था, जिस कारण इस बार इसका आयोजन युवा दिवस 12 जनवरी को आयोजित हो रहा है. यह ध्वनि का चौथा एडिशन है. इस मौके पर एक पत्रिका का ऑनलाइन विमोचन भी किया जायेगा.

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

spot_imgspot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!