spot_img
रविवार, जून 20, 2021
spot_imgspot_img

tata-workers-union-election-टाटा वर्कर्स यूनियन चुनाव में बुधवार को हो जायेगा साफ, किसका हो सकता है राज, आरओ चुनाव के लिए श्रम विभाग ने नियुक्त किया पर्यवेक्षक, आलम-अरविंद-शैलेश के साथ टुन्नु-सतीश सेमीफाइनल को लेकर लगायी ताकत, क्रॉस वोटिंग रोकने की जुगत, अध्यक्ष आर रवि प्रसाद खुद वोट डालेंगे या नहीं, यह देखना होगा दिलचस्प

Advertisement
Advertisement
विपक्ष के रिटर्निंग ऑफिसर और चुनाव समिति के लिए उम्मीदवार.

जमशेदपुर : टाटा स्टील की अधीकृत यूनियन टाटा वर्कर्स यूनियन का चुनाव बुधवार को होने जा रहा है. इस चुनाव को लेकर यूनियन के सत्ता पक्ष यानी आर रवि प्रसाद की टीम के उपाध्यक्ष शहनवाज आलम, डिप्टी प्रेसिडेंट अरविंद पांडेय और पूर्व डिप्टी प्रेसिडेंट शैलेश सिंह ने तो अपनी फील्डिंग काफी बेहतर तरीके से सजायी है. वहीं विपक्ष की ओर से महामंत्री सतीश सिंह और पूर्व डिप्टी प्रेसिडेंट संजीव चौधरी टुन्नु ने भी अपनी पूरी ताकत आजमा ली है. दरअसल, यह सेमीफाइनल है. 13 जनवरी यानी बुधवार को रिटर्निंग ऑफिसर (आरओ) का चुनाव होना है. आरओ के साथ ही छह सदस्यीय चुनाव समिति का भी चुनाव होगा. कुल सात लोगों का चुनाव होगा, जिसके लिए 205 लोग मतदान करने वाले है. 103 वोट जिस गुट के जिस व्यक्ति को मिलेगा, वह चुनाव में जीत दर्ज करेगा. यह आरओ का चुनाव होगा, उसके बाद यहीं आरओ और चुनाव समिति के सारे सदस्य मतदान करायेंगे. यह चुनाव सेमीफाइनल माना जायेगा क्योंकि इसमें जो जीत दर्ज करेगा, वह टीम पूरे चुनाव में हावी रहेगा.

Advertisement
Advertisement
सत्ता पक्ष के चुनाव पदाधिकारी और चुनाव समिति के सदस्यों के उम्मीदवार.

एक तरह से मनोवैज्ञानिक तरीके से जो जीतेगा, उसकी टीम हावी रहेगी. वैसे दोनों ही गुटों के बीच समस्या यह है कि दोनों ही गुटों के कमेटी मेंबर क्रॉस वोटिंग कर सकते है. क्रॉस वोटिंग को रोकना ही बड़ी चुनौती होगी. सत्ता पक्ष के कई कमेटी मेंबर हो सकता है कि आरओ या चुनाव समिति के सदस्यों के विपक्षी उम्मीदवार को वोट कर दें या फिर विपक्षी खेमे के कमेटी मेंबर सत्ता पक्ष के आरओ या चुनाव समिति के सदस्यों के लिए वोटिंग कर दें. इसको रोकने के लिए दोनों ही गुट लगातार मेहनत कर रही है. यहीं वजह है कि इस सेमीफाइनल के लिए पूरी ताकत झोंक दी गयी है. यह चुनाव 13 जनवरी को सुबह 9 बजे से टाटा स्टील परिसर के स्टीलेनियम हॉल में होगा. इसके लिए श्रम विभाग की ओर से उपश्रमायुक्त (डीएलसी) राजेश प्रसाद से यूनियन ने एक पर्यवेक्षक नियुक्त करने का आग्रह किया था. इसके आलोक में पर्यवेक्षक के तौर पर श्रम अधीक्षक सियाराम कुमार को नियुक्त किया गया है, जिनकी देखरेख में यह चुनाव होगा. सत्ता पक्ष की ओर से आर रवि प्रसाद, शहनवाज आलम, अरविंद पांडेय और शैलेश सिंह की चौकड़ी की टीम है, जो अपनी ओर से आरओ का प्रत्याशी प्रवीण कुमार को बनाया है जबकि उनके चुनाव समिति के छह सदस्य के लिए प्रदीप कुमार सिंह (कोक प्लांट, एके सिंह मुखिया (सिंटर प्लांट) शिव दत्त तिवारी, उर्फ मुन्ना तिवारी (सिक्योरिटी डिपार्टमेंट), एके करण (आरएमएम विभाग), संजय कुमार दुबे (एलडी 1), नेहा महतो (पावर सिस्टम) को प्रत्याशी बनाया गया है. इसी तरह विपक्ष की पूर्व डिप्टी प्रेसिडेंट संजीव चौधरी टुन्नु और महामंत्री सतीश सिंह की जोड़ी की ओर से आरओ का प्रत्याशी युवा कमेटी मेंबर संतोष सिंह को बनाया गया है. संतोष सिंह के साथ चुनाव समिति के छह सदस्यों के लिए ए कृष्णा राजू (एचएसएम), आशी कुमारी (कोक प्लांट), अजीत कुमार लकड़ा (सिंटर प्लांट), नितिन कुमार झा (एलडी3 टीएससीआर), पीएन सिंह (सीआरएम), महेश कुमार (एलडी 1) को प्रत्याशी बनाया है. यूनियन में 214 कमेटी मेंबरों का सीट है, लेकिन कई लोग रिटायर हो चुके है तो कई मौतें भी हो चुकी है, इस कारण कुल 205 कमेटी मेंबर है, जो इस मतदान में हिस्सा लेंगे. ऐसे में 103 कमेटी मेंबरों का समर्थन जिसको मिल जाता है, वह इस सेमीफाइनल में विजेता हो जायेगा. वैसे सबकी निगाहें यूनियन के अध्यक्ष आर रवि प्रसाद पर भी होगी. आर रवि प्रसाद खुद अपने को न्यूट्रल बताने की कोशिश कर रहे है, ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि वे खुद मतदान करते है या नहीं. आर रवि प्रसाद 31 जनवरी को अंतिम कार्यदिवस के बाद एक फरवरी 2021 से ही रिटायर होने वाले है, जिस कारण उन्होंने घोषणा कर दी है कि वे चुनाव खुद नहीं लड़ेंगे.

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!