spot_img

jamshedpur-corona-alert-जमशेदपुर में कोरोना के नये स्ट्रेन को लेकर हाइ-अलर्ट जरूरी, दो से तीन माह सावधान रहे, कोरोना वैक्सीन का जमशेदपुर में वितरण की चल रही तैयारी, टीएमएच में कोरोना का टेस्टिंग 100000 तक पहुंचा, ओपीडी समेत तमाम सेवाएं टीएमएच में बहाल

राशिफल

जमशेदपुर : जमशेदपुर के लोग अगर तीन माह तक सचेत रहे और सावधानियां बरती गयी तो कोरोना को वैक्सीन आने तक रोका जा सकता है. कोरोना का ब्रिटेन और दक्षिण अफ्रीका में पाये गये नये वायरस का अटैक होने के बाद जमशेदपुर में भी सावधान कर दिया गया है. इसको लेकर शुक्रवार को टाटा स्टील के मेडिकल सर्विसेज के पूर्व जीएम और सलाहकार डॉ राजन चौधरी ने ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन आयोजित कर बताया कि इसको लेकर काफी सतर्कता की जरूरत है. नये किस्म के वायरस से ज्यादा सतर्कता की जरूरत है. भारत सरकार वैक्सीन को लेकर हर तह के कदम उठा रही है. इसको लेकर नेशनल गाइनडलाइन के मुताबिक, सबको वैक्सीन बारी-बारी से दिया जायेगा, लेकिन इससे पहले दो से तीन महिने तक सबको अलर्ट रहने की जरूरत है. डॉ राजन चौधरी ने बताया कि सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क पहनना और हाथ धोना, ये सारी चीजें है, जिसको बरकरार रखने की जरूरत है. नये वायरस को लेकर सावधानियां बरती गयी है. जमशेदपुर में अभी कोरोना के केस काफी कम हुए है, लेकिन सतर्कता घटेगी तो दूसरी लहर भी आ सकती है. अभी नया वायरस और खतरनाक है, ऐसा दुनिया के शोधकर्ताओं ने बताया है. डॉ राजन चौधरी ने बताया कि यहां पर टेस्टिंग की सुविधा तो नहीं है, लेकिन इसके सैंपल को नेशनल इंस्टीच्यूट ऑफ वायरॉलॉजी, पूणे को भेजा जायेगा. सैंपल का टेस्टिंग भारत में पूणे में ही हो सकता है, जिसमें नये वायरस की पहचान की जा सकेगी. यूके में तेजी से इस वायरस के फैलने की जानकारी मिली है, जिसको लेकर सचेत रहना ही अभी उपाय है. डॉ राजन चौधरी ने वैक्सीन के वितरण को लेकर की जा रही व्यवस्था पर बताया कि यह प्रशासनिक स्तर पर तैयारी चल रही है. हम लोगों से जो जानकारियां मांगी जा रही है, उन सारी जानकारियों को जरूर साझा की जा रही है. इसके तहत 2 से 8 डिग्री सेल्सियस तक में कोरोना वैक्सीन को रखने की व्यवस्था की जानी है, जिसके लिए पर्याप्त व्यवस्था है. जहां तक कोरोना वैक्सीन के वितरण का सवाल है तो नया वैक्सीन के वितररण के लिए पहले हेल्थवर्कर, फ्रंटलाइन वर्कर और 50 साल से अधिक उम्र के लोगों के बीच इसका वितरण किया जायेगा. इसके वितरण की व्यवस्था प्रशासनिक स्तर पर चल रही है. कोरोना के बारे में जानकारी देते हुए डॉ राजन चौधरी ने बताया कि पहले हर सप्ताह 350 केस आते थे, अब 30 से 35 हर सप्ताह आ रहा है. एक माह में सिर्फ दो लोगों की मौत हुई है, जो पुरानी बीमारियों से पीड़ित थे. उन्होंने बताया कि टीएमएच में मई माह से कोरोना का टेस्टिंग शुरू हो गया था. मई से लेकर अब तक एक लाख का आंकड़ा टेस्टिंग का पार किया जा चुका है, जिसके तहत 48 हजार आरटीपीसीआर का टेस्टिंग हो चुका है जबकि 52 हजार रैपिड एंटीजन टेस्ट (रैट) टेस्टिंग की गयी है. उन्होंने बताया कि केस खत्म होने के बाद से टीएमएच में इलाज सामान्य हो चुका है. सारे बीमारियों का इलाज शुरू हो चुका है. ओपीडी, प्राइम में भी सेवाएं शुरू हो चुकी है, अलबत्ता मरीजों की संख्या घटी है. उन्होंने बताया कि पोस्ट कोविड केयर सेंटर टीएमएच में संचालित किया जा रहा है, जिसमें कोरोना से पीड़ित अपना इलाज कराने आते है, जिसमें से 50 फीसदी लोगों में थकान की शिकायत रहती है जबकि 11 फीसदी में निमोनिया और 10 फीसदी लोगों में सांस लेने में दिक्कतें आ रही है, जो चार से पांच सप्ताह तक रहती है. लेकिन उनको आराम की सलाह दी जाती है, जिसके बाद वे लोग ठीक हो जाते है.

[metaslider id=15963 cssclass=””]

WhatsApp Image 2022-04-29 at 12.21.12 PM
WhatsApp-Image-2022-03-29-at-6.49.43-PM-1
Shiv Yog Physiotherapy And Yoga Classes
spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!