jamshedpur-corona-treatment-allert-टीएमएच में शुरू हुआ प्लाज्मा थेरेपी, अब एंटी वायरल दवाओं का भी होगा इस्तेमाल, बढ़ती मौत को देखते हुए इलाज के लिए आइसीएमआर ने दी मंजूरी, tmh-टीएमएच में icu-आइसीयू के सारे बेड खत्म’, होटल सोनेट को बनाया गया अस्पताल, रामादा भी बनेगा अस्पताल, टिनप्लेट और आइ अस्पताल में भी बनेगा बेड, डॉक्टर व स्वास्थ्यकर्मियों की भी कमी, जीएम की अपील-टीएमएच में प्लीज डॉक्टर्स व नर्स से मारपीट या बदतमीजी ना करें, इलाज करना हो जायेगा और मुश्किल

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर : जमशेदपुर में प्लाज्मा थेरेपी टाटा मुख्य अस्पताल (टीएमएच) में शुरू कर दी गयी है. इसके अलावा दो एंटी वायरल दवाओं ” रेमडेसिविर (Remdesivir) और फैविपिराविर (Favipiravir)” का भी इस्तेमाल शुरू किया जायेगा. इसके लिए आइसीएमआर की मंजूरी दे दी गयी है. चूंकि, इस दवा का काफी साइड इफेक्ट भी है, इस कारण इसका आपात स्थिति मंे ही इस्तेमाल किया जायेगा. टीएमएच और टाटा स्टील के मेडिकल सर्विसेज के जीएम डॉ राजन चौधरी ने ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में इसकी जानकारी दी. इस मौके पर उनके साथ टाटा स्टील कारपोरेट कम्यूनिकेशन के चीफ कुलविन सुरी और हेड रुना राजीव कुमार भी थे. जीएम डॉ राजन चौधरी ने बताया है कि इन दवाओं का इस्तेमाल शुरू कर दिया गया है जबकि दो प्लाज्मा का डोनेशन कोरोना पोजिटिव से नेगेटिव पाये गये मरीजों ने किया है, जिससे दो लोगों को लाभ पहुंचाया जायेगा. जीएम राजन चौधरी ने बताया कि जमशेदपुर के टीएमएच में अब तक 14974 कोरोना टेस्ट कराया गया था. हर दिन 250 टेस्ट आरटीपीसीआर मशीन से हो रहा है जबकि ट्रूनेट मशीन भी लगा दिया गया है. इसके तहत अब तक टीएमएच में 1203 कोरोना पोजिटिव मरीज आये है, जिसमें 1069 मरीज पूर्वी सिंहभूम के है जबकि 587 अब तक डिस्चार्ज हो चुके है जबकि 448 मरीज का इलाज अब भी टीएमएच में चल रहा है. अब तक टीएमएच में कुल 42 मौत कोरोना से हो चुकी है, जिसमें जमशेदपुर के 34 लोग शामिल है, जिनकी मौत अब तक हो चुकी है.

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर में बेड की कमी, आइसीयू के सारे बेड खत्म, नये अस्पताल व होटलों को अस्पताल बनाया जा रहा
जीएम मेडिकल सर्विसेज डॉ राजन चौधरी ने बताया कि जमशेदपुर के टीएमएच में बेड की कमी पहले से ही थी. अभी 888 बेड है, जिसमें से 632 बेड पूरी तरह भर चुके है. टीएमएच के बगल वाले बिष्टुपुर स्थित होटल सोनेट को भी अस्पताल बनाया गया है जबकि जीटी हॉस्टल 3 और 4 को भी नया अस्पताल बनाया जा चुका है. बहुत जल्द टिनप्लेट अस्पताल और साकची स्थित जमशेदपुर आइ अस्पताल में करीब सौ बेड नया बनाया जा रहा है. लेकिन हकीकत यह है कि टीएमएच में सारे आइसीयू के बेड समाप्त हो चुके है. 54 आइसीयू के बेड है, जो समाप्त हो चुके है, जिसमें मरीज का इलाज चल रहा है और सारे मरीज क्रिटिकिल है. अभी 251 बेड है, जिसमें कोरोना के संदिग्धों को रखा जा रहा है जबकि कुछ बेड को वार्ड में भी वेंटिलेटर के साथ तैयार किया गया है, लेकिन उसमें आइसीयू की व्यवस्था नही है. लेकिन काम चलाने लायक वेंटिलेटर की सुविधा है. मरीजों की संख्या अभी और बढ़ेगी, जिसको लेकर हमारी तैयारी चल रही है. उन्होंने यह माना कि चिकित्सकों और नर्सों की काफी कमी हो रही है. करीब 40 चिकित्सक और स्वास्थ्यकर्मी भी कोरोना पोजिटिर हो चुके है, जिससे दिक्कतें बढ़ चुकी है. लेबर रूम को बंद किया जा चुका है जिसको दो दिनों के बाद खोल दिया जायेगा क्योंकि वहां के एक कोरोना पोजिटिव केस पाया गया था. वैसे वैकल्पिक कोरोना के लिए गाइनिक वार्ड भी बनाया गया है.

Advertisement

टीएमएच के जीएम की अपील-अस्पताल में नहीं करें मारपीट
जीएम मेडिकल सर्विसेज डॉ राजन चौधरी ने बताया कि हाल के दिनों में बेड की कमी हो रही है जबकि इलाज को लेकर हाथापायी और गाली गलौज जैसी घटनाएं हो रही है. ऐसे में अस्पताल में आकर लोग मारपीट करने लग रहे है. यह दुखदायी घटना है. काफी मेहनत टीएमएच के लोग कर रहे है. अस्पताल को सुचारु रुप से संचालित करना चुनौती है. इस आपात स्थिति में सारी सुविधाएं जहां देश में नहीं मिल रही है, टीएमएच में सारी व्यवस्था चल रही है. इसको खराब ना करें, मारपीट नहीं करें, बदतमीजी नहीं करें नहीं तो इलाज करना भी मुश्किल हो जायेगा.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement

Leave a Reply