spot_img
शनिवार, मई 15, 2021
spot_imgspot_img
spot_img

jamshedpur-breaking-जमशेदपुर एसएसपी ने की होटल अल्कोर मामले में कार्रवाई, बिष्टुपुर थानेदार हटाये गये, होटल के मालिक राजीव दुग्गल, लड्डू मंगोटिया समेत पांच जाएंगे जेल

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर : जमशेदपुर के एसएसपी अनूप बिरथरे बिष्टुपुर के होटल अल्कोर के प्रकरण में आरोपियों को लाभ देने के आरोप में बिष्टुपुर थाना प्रभारी राजेश प्रकाश सिंह को हटा दिया गया है. उनकी जगह रामकुमार वर्मा को नया थाना प्रभारी बनाया गया है. राजेश प्रकाश सिन्हा के खिलाफ विभागीय जांच के साथ कार्रवाई भी होगी. बिष्टुपुर थाना प्रभारी के खिलाफ पिछले कई माह से लगातार शिकायतें आ रही थी. होटल अल्कोर वाले मामले में उन पर आरोप है कि उन्होंने पैसे का लेनदेन कर आरोपियों को नाजायज लाभ पहुंचाया जिससे पूरे झारखंड सरकार की भदद पिटी और जमशेदपुर पुलिस की साफ सुथरी छवि को भी काफी नुकसान हुआ. जमशेदपुर के होटल अल्कोर में शुक्रवार को बिष्टुपुर थाना प्रभारी ने दण्डाधिकारी के साथ मिलकर छापामारी की थी. इस छापामारी में जमशेदपुर के उद्यमी और व्यवसायी लड्डू मंगोटिया और अन्य लोग स्पा में पकड़े गए थे. इस मामले में बिष्टुपुर थाना प्रभारी राजेश प्रकाश सिन्हा द्वारा मामले को रफा-दफा कर दिया गया और कानून की आड़ में सभी को थाना से ही बेल दे दिया गया. यही नही होटल में स्पा का संचालन व सेक्स रैकेट चलने के बावजूद होटल को न तो उन्होंने सील किया और न ही सीसीटीवी को ही जब्त किया. बिष्टुपुर थाना प्रभारी राजेश प्रकाश सिन्हा पर दूसरे दिन जांच के दौरान आला अधिकारियों को भी बरगलाने का आरोप भी है. वैसे राज्य पुलिस के आला अधिकारी की पहुंच का लाभ लेने वाले राजेश प्रकाश सिन्हा के खिलाफ़ अन्ततः कार्रवाई की गई और उनको हटा दिया गया. दूसरी ओर, जमशेदपुर पुलिस ने होटल अल्कोर में लॉकडाउन के बीच गलत और अनैतिक काम करने के मामले में होटल अल्कोर के मालिक राजीव दुग्गल, होटल का मैनेजर धनंजय सिंह, व्यापारी लड्डू मंगोटिया उर्फ राजेश मंगोटिया, मानगो निवासी दीपक अग्रवाल, सीतारामडेरा निवासी रजत जग्गी को जमशेदपुर पुलिस जेल भेज रहा है. राजेश सिन्हा पर यह भी आरोप है कि वे थाना प्रभारी होते हुए इस मामले में करीब 50 लाख रुपये का लेनदेन किया और फिर आरोपियों को लाभ पहुंचाने की कोशिश की. हालांकि इसकी जांच अभी चल रही है कि आखिर थानेदार ने पैसा कितना लिया था. दूसरी ओर होटल अल्कोर से पकड़ी गई कोलकाता की लड़की जांच में सहयोग नही कर रही है जिस कारण पुलिस में महिला अफसरो की एक और टीम को उतारा है जो उससे पूछताछ कर रही है.

Advertisement
Advertisement

क्‍या है पूरा मामला

Advertisement

लॉकडाउन में जमशेदपुर के होटल अलकोर में रासलीला मनाते कारोबारी लड्डू मंगोटिया समेत तीन चर्चित लोगों को गिरफ्तार किया गया था. जमशेदपुर के बिस्टुपुर थाना क्षेत्र के अलकोर होटल के स्‍पा को खोलकर उसमें कारोबारी लड्डू मंगोटिया समेत कई लोग पार्टी में मना रहे थे. होटल में शराब की भी पार्टी चल रही थी. पुलिस ने पार्टी मनाते हुये तीन लोगों को गिरफ्तार किया. दंडाधिकारी की मौजूदगी में सभी को पकड़ा गया. इनमें ठेकेदार व जुगसलाई निवासी राजेश मंगोटिया उर्फ लड्डू मंगोटिया, लोहा कारोबारी व मानगो बैकुंठनगर निवासी दीपक अग्रवाल और ईस्ट बंगाल कॉलोनी निवासी व एक बिल्डर के रिश्तेदार रजत जग्गी शामिल है. लॉकडाउन में स्पा संचालित होने की सूचना पर पुलिस ने शनिवार को होटल में छापा मारा, जिससे वहां अफरा-तफरी मच गई, कर्मचारी भागने लगे. इस क्रम में कुछ लोग फरार हो गए. पुलिस ने मौके से इन तीनों सहित कुछ कर्मचारियों को हिरासत में लिया. सभी को लेकर पुलिस बिष्टुपुर थाने ले गई. वहां उनसे पूछताछ कर जमानत पर छोड़ दिया गया. लॉकडाउन का उल्लंघन मामले में दंडाधिकारी सूरज कुमार के बयान पर अलकोर होटल के मालिक समेत 5 पर केस दर्ज किया गया है. साथ ही तीन लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. पुलिस को देखकर कुछ युवक-युवतियां भाग निकले. होटल मालिक राजीव दुग्गल, मैनेजर धनंजय कुमार, जुगसलाई निवासी राजेश मंगोतिया, मानगो निवासी दीपक अग्रवाल, सीतारामडेरा निवासी रजत जग्गी के खिलाफ लॉकडाउन उल्लंघन का मामला दर्ज किया गया है. मालूम हो कि लॉक डाउन में सभी होटल बंद हैं. बावजूद इसके होटल अल्कोर में स्पा का अवैध ढंग से संचालन हो रहा था.
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार होटल अल्‍कोर में अभी भी कई लड़कियां फंसी हुई है. साथ ही सूत्रों से सूचना ये भी मिल रही है कि सीसीटीवी फुटेज को भी क्षतिग्रस्‍त किया गया है. साथ ही बिष्‍टुपुर थाना में 50 लाख रुपये में मामले को डील करने की कोशिश की जा रही है. ये सूचनाएं हमारे विश्‍वसनीय सूत्रों से मिली है.
मामले में बिष्‍टुपुर थाना प्रभारी आरोपी है. दंडाधिकारी के आवेदन पर मामला दर्ज किया गया है. किसी को नहीं छोड़ा गया है. मामला रफा-दफा तब होता, जब कोई कार्रवाई नहीं होती. मगर उन्‍होंने हर सवाल का जवाब गोल-मटोल तरीके से दिया. उन्‍होंने कहा कि अगर सीसीटीवी फुटेज को क्षतिग्रस्‍त की गई है तो उसकी भी धारा जोड़कर मामला दर्ज किया जायेगा.

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

spot_imgspot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!