cancer-treatment-अब कैंसर से नहीं होगी किसी भी मरीज की मौत, पहली बार स्वास्थ्य विशेषज्ञों को मिली बड़ी सफलता, कितनी कारगर है कैंसर का “डॉस्टरलिमैब” दवा, जानें

राशिफल


शार्प भारत डेस्क : कैंसर एक ऐसी है बीमारी है जिसका इलाज अभी तक संभव नहीं हो पा रहा था, या यूं कहा जाए तो उपचार उतना कारगर सिद्ध नहीं रहा है. परंतु अभी हाल ही में ने कैंसर का दवा अमेरिका ने खोज निकाला है. जिससे यह दावा किया गया है कि छह माह में कैंसर से जूझ रहे मरीजों ठीक हो सकते है. हाल ही में कैंसर से जूझ रहे एक ग्रुप से साथ इस रिचर्स को छह माह तक किया गया. जिससे पता बाद डॉक्टरों ने कैंसर से जूझ रहे मरीज पूरी तरह से ठीक हो गए. (नीचे भी पढ़ें)

रिसर्च में डॉस्टरलिमैब नामक दवा की खोज की गयी-
इसके लिए क्लिनिकल ट्रायल किया गया. जिसके एक जैसे ग्रुप में 18 कैंसर के मरीजों पर रिसर्च किया गया. उन सभी 18 मरीजों को डॉस्टरलिमैब नामक एक दवा दी गई. छह महीने के बाद ये मरीज पूरी तरह ठीक होकर वहां से आए है जिसका दावा अमेरिका द्वारा किया जा रहा है. (नीचे भी पढ़ें)

कैसे तैयार किया गया दवा-
इस दवा को तैयार करने में डॉस्टरलिमैब नाम की दवा को लैब में अणुओं से तैयार किया गया है. यह दवा शरीर में पहुंचकर सब्स्टीट्यूट एंटीबॉडी की तरह काम करती है. जिसका नतीजा चौकाने वाला था. यूनिवर्सिटी आफ कैलिफोर्निया में कोलोरेक्टल कैंसर विशेषज्ञ ने बताया कि डॉ एलन पी वेनुक ने कहा कि सभी मरीजों का पूरी तरह ठीक होना अभूतपूर्व है. उन्होंने इस रिसर्च को विश्वस्तरीय बताया है. उन्होंने बताया कि यह दवा खासतौर पर प्रभावशाली इसलिए है क्योंकि किसी भी मरीज में ट्रायल ड्रग के साइड इफेक्ट नहीं देखा गया है. (नीचे भी पढ़ें)

आठ लाख की है डॉस्टरलिमैब
इस जांच को लेकर यह पाया गया है कि बहुत छोटे स्तर पर मरीजों की जांच की गयी है. इसका दायरा बड़े पैमाने पर होना चाहिए. जिसके लिए विशेषज्ञों को और कैंसर के मरीजों की आवश्यकता होगा. वहीं स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने बताया है कि कैंसर वास्तव में पूरी तरह से खत्म हुआ है या नहीं इसकी पता तब लग पाएगा जब बड़े पैमाने पर मरीजों को यह दवा दी जाएगी. इन सभी 18 मरीजों को तीन सप्ताह में यह दवा दी जाती थी. वहीं अब तक विशेषज्ञों ने बताया है कि डॉस्टरलिमेब दवा की कीमत अमेरिका में लगभग आठ लाख है. वहीं अन्य देशों में यह दवा अलग-अलग कीमतों में उपलब्ध होगी. (नीचे भी पढ़ें)

भारत में 2025 तक कैंसर मरीजों की संख्या होगी 1.57 मिलियन
स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि साल 2025 तक कैंसर के मरीजों की संख्या 1.39 से बढ़कर 1.57 से अधिक हो सकती है. नेशनल कैंसर रजिस्ट्री प्रोग्राम 2020 की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में लगातार कैंसर के मरीजों की संख्या बढ़ रही है. इसका मुख्य कारण है उपचार. उपचार व जागरूकता में कमी के कारण आये दिन कैंसर के मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है.  

Must Read

Related Articles