गुरु शब्द यात्रा अंतर्राष्ट्रीय नगर कीर्तन कोल्हान से रांची रवाना, सम्मानित हुए काले, राजा, इंदरजीत, शैलेंद्र व बिल्ला, समाज के हर वर्ग को सम्मान

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर: पाकिस्तान के ननकाना साहब से निकली गुरु शब्द यात्रा अंतरराष्ट्रीय नगर कीर्तन सोमवार को रांची रवाना हो गया. इससे पहले साकची गुरुद्वारा में दीवान सजाया गया. ननकाना साहब से आए श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी का प्रकाश हुआ और उनसे मुख वाक ( आदेश) लिया गया. यहां संगत के लिए लंगर की भी व्यवस्था थी. सिखों की संसद शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के धर्म प्रचार कमेटी के सरदार प्रताप सिंह सेंट्रल गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान गुरमुख सिंह साकची गुरुद्वारा कमेटी के प्रधान हरविंदर सिंह मंटू की ओर से झारखंड अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष गुरुदेव सिंह राजा भारतीय जनता पार्टी के पूर्व प्रदेश प्रवक्ता अमरप्रीत सिंह काले तखत श्री हरमंदिर साहिब प्रबंधन कमेटी के उपाध्यक्ष इंद्रजीत सिंह, झारखंड गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष शैलेंद्र सिंह एवं अन्य कई गुरुद्वारा कमेटियों के प्रधान तथा सेवादारों को सिरोपा देकर सम्मानित किया गया. वही नगर कीर्तन में शामिल पांच प्यारों, निशान साहब की सेवा देने वाले पांच सेवादारों, नगाड़ा बजाने की सेवा देने वाले सेवादार सम्मानित किए गए.

Advertisement
Advertisement

इसके उपरांत अंतरराष्ट्रीय नगर कीर्तन रांची के लिए रवाना हुआ तो ड्योढ़ी साहेब के समीप झारखंड से प्रतिनिधि बोर्ड के अध्यक्ष गुरचरण सिंह बिल्ला, सुरजीत सिंह खुशीपुर, कुलदीप सिंह, कुलविंदर सिंह पन्नू, शमशेर सिंह, सरदार त्रिलोचन सिंह आदि को शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के धर्म प्रचार कमेटी के प्रताप सिंह ने सिरोपा देकर सम्मानित किया. इस मौके पर प्रताप सिंह ने सिख धर्म में स्त्रियों की महान देन का जिक्र करते हुए कहा कि मां ही बच्चों की प्रथम गुरु एवं शिक्षक होती है. यदि खुद अपने समृद्ध विरासत इतिहास कुर्बानियां मां बोली से अनजान है तो वह नई पीढ़ी में कैसे यह ज्ञान दे सकती है. ऐसे में सिख धर्म की महानता का संदेश दुनिया के कोने कोने में फैलाने के लिए मांए खुद पढ़ें और बच्चों को भी इससे जोड़ें. सरदार इंद्रजीत सिंह ने बताया कि आदित्यपुर गम्हरिया होते हुए शब्द गुरु यात्रा रांची पहुंचेगी. इंदरजीत सिंह के साथ गुरचरण सिंह बिल्ला एवं उनकी पूरी टीम शब्द गुरु यात्रा के साथ झारखंड में रहेगी. सरदार इंद्रजीत सिंह ने बताया कि यह रांची से होते हुए उड़ीसा राउरकेला को चले जाएगी. वहीं शब्द गुरु यात्रा के साथ सेंट्रल गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान गुरमुख सिंह के नेतृत्व में भी टीम गई.

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement