सेक्रेड हार्ट स्कूल का तुगलकी फरमान, स्कूल के प्लैटिनम जुबली कार्यक्रम के लिए अभिभावकों से मांगें 1500 रुपये

Advertisement
Advertisement
  • सेक्रेड हार्ट कॉन्वेंट स्कूल की प्राचार्य ने नोटिस जारी कर 31 अगस्त तक अभी अभिभावकों को 1500 रुपये जमा करने को कहा
  • अभिभावकों की शिकायत पर संस्था शिक्षा सत्याग्रह ने खोला मोर्चा, होगा विरोध
  • कार्यक्रम के नाम पर अभिभावकों की जेब पर डाका डालने का होगा विरोध : अप्पू तिवारी

जमशेदपुर : शहर का सेक्रेड हार्ट कॉन्वेंट स्कूल एक बार फिर विवादों में घिर गया है। इस बार फिर स्कूल प्रबंधन पर अभिभावकों के आर्थिक दोहन का आरोप लगा है। स्कूल की ओर से अभिभावकों के नाम नोटिस जारी किया गया है, जिसको लेकर अभिभावकों में रोष है। सेक्रेड हार्ट स्कूल की प्रिंसिपल रश्मिता एसी के हस्ताक्षर से 22 अगस्त को स्कूल में पढ़ रही बच्चियों के अभिभावकों को संबोधित पत्र जारी किया गया है। पत्र में सभी अभिभावकों को 1500 रुपये जमा करने का निर्देश है। स्कूल प्रबंधन के हवाले से जारी पत्र में प्रिंसिपल ने कहा है कि इस वर्ष सेक्रेड हार्ट कॉन्वेंट स्कूल शहर में अपनी स्थापना का 75वां साल मना रहा है। स्कूल ने इसे उल्लेखनीय उपलब्धि बताते हुए प्लेटिनम जुबली के रूप में मनाने का निर्णय लिया है, जिसके तहत आगामी दिनों में विभिन्न कार्यक्रमों की श्रृंखला आयोजित होंगे। नोटिस के तहत स्कूल की प्रिंसिपल ने अभिभावकों को निर्देश दिया है कि सील बंद लिफाफे में 1500 रुपये की निर्धारित राशि स्कूल में पढ़ रही बच्ची के नाम और कक्षा का उल्लेख कर 31 अगस्त तक जमा कर दिया जाये। कई अभिभावकों ने स्कूल के इस निर्णय को तानाशाही और तुगलकी फरमान बताते हुए विरोध जताया है। अभिभावकों ने इस आशय में स्कूलों में व्याप्त आर्थिक भ्रष्टाचार और महंगी शिक्षा के विरुद्ध आंदोलनरत संस्था ‘शिक्षा सत्याग्रह’ से मदद की अपील की है। शिक्षा सत्याग्रह के संस्थापक सदस्य अप्पू तिवारी ने सेक्रेड हार्ट कॉन्वेंट स्कूल के इस निर्णय को अनैतिक बताते हुए कहा है कि प्रिंसिपल द्वारा जारी नोटिस का उचित फोरम पर शिकायत दर्ज कराते हुए कार्रवाई की मांग की जाएगी। प्रथम दृष्टया यह मामला स्कूल प्रबंधन की मनमानी और तानाशाही को इंगित करता है। कार्यक्रम के नाम पर अभिभावकों की जेब पर डाका डालना गलत है। बताया कि अभिभावकों से मिली गोपनीय शिकायतों के आधार पर शिक्षा सत्याग्रह इस मामले में आंदोलन की तैयारी में है। दूरभाष के माध्यम से सम्बंधित विषय से जिला शिक्षा अधीक्षक को अवगत करा दिया गया है। सोमवार, 26 अगस्त को डीएसई से मिलकर नोटिस के प्रमाण सहित लिखित शिकायत सौंपी जाएगी। डीएसई फिलहाल शहर से बाहर हैं, लेकिन उन्होंने मामले को संवेदनशील बताते हुए कार्रवाई का आश्वासन दिया है.

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement