सोनारी दोमुहानी के उस पार लड़की का अपहरण कर किया था बलात्कार, सारे एक दर्जन अपराधी पकड़ाये, घटना का उदभेदन

Advertisement
Advertisement
पकड़े गये अपराधियों के साथ सरायकेला-खरसावां एसपी कार्तिक एस, जमशेदपुर सिटी एसपी सुभाष चंद्र जाट और दोनों जिले के पुलिस पदाधिकारी.

जमशेदपुर : सोनारी दोमुहानी के उस पार चांडिल (कपाली ओपी) के पुड़िसिली के पास (डोबो रोड) के पास से फाचर्यूनर गाड़ी से लड़की को उतारकर उसके दोस्त के सामने से उठाकर ले जाने और बलात्कार करने के मामले का सरायकेला-खरसावां पुलिस ने जमशेदपुर पुलिस की मदद से उदभेदन करने में कामयाबी पायी है. इस कांड में सम्मलित सारे एक दर्जन लड़कों को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. पकड़े गये लोगों में कपाली के गौरी के रहने वाले पिंटू सिंह, पुडिसिली के रहने वाले रमेश कुमार, गौरी के रहने वाले साधु उर्फ वृंदावन कुम्हार, गौरी के ही बिरेंद्र महाली, पुड़िसिली के रहने वाले महादेव कुम्हार, पुड़िसिली के राजेश सिंह, पुड़िसिली के सुकेन सिंह सरदार, पुड़िसिली के महेश्वर सिंह सरदार, पुड़िसिली के बद्रीनाथ सिंह सरदार, पुड़िसिली के सन्यासी दास, गौरी के परशुराम महाली और पुड़िसिली के रहने वाले गुणाधर महाली शामिल है. उनके पास से दस मोबाइल फोन, जिसका इस्तेमाल इस कांड में किया गया था. इसके अलावा इस कांड में इस्तेमाल में लाया गया रमेश सिंह की बाइक (जेएच05सीडी-1785), पिंटू सिंह की अल्टो कार (संख्या बीआर 16एन-0048) और लूटे गये दो हजार रुपये बरामद किये गये है. सरायकेला-खरसावां के एसपी कार्तिक एस और जमशेदपुर के सिटी एसपी सुभाष चंद्र जाट ने संयुक्त रुप से संवाददाता सम्मेलन कर इस कांड का खुलासा किया. दोनों ही जिलों के पुलिस ने इस कांड का उदभेदन आपसी सूझबूझ के साथ किया.

Advertisement
Advertisement

जानिये कैसे दी थी घटना को अंजाम
जुगसलाई की रहने वाली लड़की अपने परसुडीह गोलपहाड़ी के रहने वाले दोस्त के साथ उसके फार्च्यूनर गाड़ी पर सवार होकर सोनारी दोमुहानी के उस पार गयी थी. इस बीच गाड़ी में कुछ खराबी के कारण गाड़ी को कुछ देर के लिए सड़क किनारे खड़ी ही किया गया था. इसी बीच सुकेन सिंह सरदार, महेश्वर सिंह सरदार, बद्रीनाथ सिंह सरदार और सन्यासी दास डोबो के एक होटल में खाना खाकर वापस पुड़िसिली की ओर लौट रहे थे. इसी बीच गाड़ी को खड़ी देख चारो अभियुक्त पीड़िता और उसके दोस्त की गाड़ी के पास आये और पीड़िता के दोस्त को गाड़ी से बाहर निकालकर पैसे मांगने लगे और नहीं देने पर उसके साथ मारपीट की. इसी बीच परशुराम महाली, गुणाधर महाली, बिरेंद्र महाली और महादेव कुम्हार, अपने स्कूटी और बाइक से एनएच 33 की ओर जा रहे थे, वे भी हल्ला सुनकर गाड़ी के प ास आ गये. पीछे से इस बात की सूचना पाकर कि डोबो रोड में मारपीट की घटना हो रही है, पिंटू और रमेश एक बाइक से और साधु और राजेश भी एक बाइस से वहां पहुंच गये. सभी अभियुक्त अगल-बगल के गांव के ही थे और एक दूसरे से परिचित थे. इस बीच इन लोगों ने लड़की को गाड़ी से खींच लिया और जंगल झाड़ी की ओर ले जाकर उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया. इस बीच लड़के से दो हजार रुपये छिन लिये. चूंकि, डोबो रोड से काफी गाड़ी जा रही थी, इस कारण रमेश सिंह ने अपनी बाइक की रोशनी से जंगल और झाड़ी से होते हुए लड़की को गौरी रोड पर लेकर पहुंचे. इसके बाद पिंटू, राजेश, रमेश और साधु को छोड़कर सारे लड़के भाग गये. उसके बाद पिंटू सिंह, राजेश, रमेश और साधु ने मिलकर पीड़िता को एक अल्टो कार में बैठाया, जिसे पिंटू सिंह चला रहा था. राजेश, रमेश और साधु ने मोटरसाइकिल से आगे रास्ता की जांच कर रहा था. गौरी रोड के पास आने के बाद इन लोगों ने बाइक को लगा दिया और आदित्यपुर होते हुए सीधे जुगसलाई पहुंचा, जहां उसने जुगसलाई में लड़की को छोड़कर भाग गये.

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement