spot_img
शुक्रवार, जून 18, 2021
spot_imgspot_img
spot_img

adityapur-403 करोड़ रिकॉर्ड राजस्व वसूली के बाद भी विद्युत कर्मियों के मांगों की अनदेखी, कर्मचारी 23 मार्च से करेंगे अनिश्चितकालीन हड़ताल, ठप हो सकती है बिजली आपूर्ति

Advertisement
Advertisement

सरायकेला: झारखंड राज्य बिजली कामगार यूनियन के बैनर तले विद्युत कर्मियों ने जियाडा कार्यालय परिसर स्थित विद्युत अधीक्षण अभियंता अंचल कार्यालय के समक्ष जोरदार प्रदर्शन करते हुए अपने 6 सूत्री मांगों के समर्थन में नारा बुलंद किया.झारखंड राज्य बिजली कामगार यूनियन के संयुक्त महामंत्री केएन सिंह के नेतृत्व में कोल्हान प्रमंडल से विद्युत कर्मियों का जुटान जियाडा परिसर स्थित विद्युत अधीक्षण अभियंता अंचल कार्यालय के समक्ष हुआ. जहां रोषपूर्ण प्रदर्शन करते हुए विद्युत कर्मियों ने बिहार के तर्ज पर कर्मियों को 6% अतिरिक्त विशेष ऊर्जा भत्ता दिए जाने की मांग की. इस वर्ष विद्युत बोर्ड को 403 करोड रुपए का रिकॉर्ड राजस्व प्राप्त हुआ है, बावजूद इसके 12 साल से काम कर रहे मजदूरों को अधिकाल भत्ता तक नहीं दिया जा रहा. वहीं काल अवधि समाप्त होते ही प्रोन्नति तक रोक दी जा रही है.

Advertisement
Advertisement

विद्युत कर्मियों ने कहा कि स्नातक विद्युत कर्मियों को लिपिक ना बनाकर उनका शोषण किया जा रहा है, अपने इन्ही सब मांगों के समर्थन में बिजली कामगार यूनियन के बैनर तले राज्य भर में विद्युत कर्मियों ने आक्रोश पूर्ण प्रदर्शन किया है. साथ ही झारखंड राज्य बिजली कामगार यूनियन के बैनर तले विद्युत कर्मियों ने मांगों के समर्थन में 23 मार्च से अनिश्चितकालीन हड़ताल की भी घोषणा की है ,इससे पूर्व 20 फरवरी को यूनियन द्वारा अपने मांगों के संबंध में आंदोलन की सूचना दी गई थी, लेकिन विद्युत प्रबंधन द्वारा सूचना और मांगों को दरकिनार कर विद्युत कर्मियों को वार्ता के लिए भी नहीं बुलाया गया, नतीजतन लगातार प्रबंधन के टालमटोल की नीति के चलते 23 मार्च से हड़ताल कर राज्य भर में विद्युत वितरण व्यवस्था ठप करने की चेतावनी दी गई है.

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

spot_imgspot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!