spot_img
शनिवार, जून 19, 2021
spot_imgspot_img
spot_img

Adityapur : स्वास्थ्य मंत्री के खिलाफ अपशब्द कहने के मामले में आरआईटी थाने में 111 अस्पताल के प्रबंधक डॉ ओपी आनंद के खिलाफ एफआईआर दर्ज

Advertisement
Advertisement

आदित्यपुर : सराइकेला खरसावां जिला के एसपी के निर्देश पर आरआईटी थाने में 111 अस्पताल के प्रबंधक डॉ ओपी आनंद के खिलाफ एफ आई आर दर्ज कर मामले की तफ्तीश शुरू कर दी गई है आपको बता दें कि शनिवार को राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता के मौखिक आदेश पर जांच करने प्रभारी सिविल सर्जन डॉ वारियल मुर्मू के साथ 3 सदस्यीय टीम अस्पताल पहुंची थी. जहां टीम ने कई खामियां पायीं थी. अस्पताल प्रबंधन द्वारा मरीजों के परिजनों को जांच टीम से दूर रखते हुए सहयोग करने के बजाए अभद्रता की गई थी. इतना ही नहीं अस्पताल के प्रबंधक डॉ ओपी आनंद ने जांच पदाधिकारियों एवं राज्य के स्वास्थ्य मंत्री के खिलाफ अमर्यादित टिप्पणी करते हुए कहा था,कि अगर अस्पताल में मरीज ना होते तो ऐसे अधिकारियों और मंत्री को कूट देता. उन्होंने कहा था, कि मैं ऐसे जांच अधिकारियों को दौड़ाकर पीटने की क्षमता रखता हूं. इतना ही नहीं उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री पर जांच टीम भेजे जाने पर तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा था, कि मंत्री जी आपने यह सही नहीं किया है. विदित रहे कि राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता को 111 अस्पताल में इलाज रथ मरीजों के परिजनों से सरकार द्वारा राशि से अधिक पैसे वसूले जाने की शिकायत मिली थी जिसके बाद स्वास्थ्य मंत्री ने प्रभारी सिविल सर्जन को मौखिक आदेश देते हुए पूरे मामले की जांच कर रिपोर्ट तलब किया था लेकिन शनिवार को जांच करने पहुंचे प्रभारी सिविल सर्जन सहित 3 सदस्य टीम को अस्पताल के प्रबंधक डॉ ओपी आनंद ने जांच में सहयोग नहीं किया था उल्टे जांच पदाधिकारियों एवं स्वास्थ्य मंत्री के खिलाफ अमर्यादित टिप्पणी किया था हालांकि राज्य के स्वास्थ्य मंत्री ने खुद के खिलाफ टिप्पणी पर कोई प्रतिक्रिया ना देते हुए इतना कहा की वैश्विक महामारी के दौर में डॉक्टर अपने डॉक्टर धर्म का निर्वहन करें वैसे उन्होंने जिले के उपायुक्त को पूरे मामले की निष्पक्ष जांच करने के निर्देश दे दिए थे इधर रविवार को प्रभारी सिविल सर्जन के शिकायत पर जिले के एसपी ने r80 थाना पुलिस को अस्पताल के प्रबंधक के खिलाफ एफ आई आर दर्ज करते हुए जांच का जिम्मा सौंपा है वहीं रविवार को आर आईटी थाना पुलिस ने एफ आई आर दर्ज करते हुए मामले की तफ्तीश शुरू कर दी है. हालांकि अस्पताल के प्रबंधक द्वारा स्वास्थ्य मंत्री पर किए गए टिप्पणी के खिलाफ रविवार को कांग्रेस सहित लगभग सभी राजनीतिक दलों ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए डॉक्टर ओपी आनंद से स्वास्थ्य मंत्री से माफी मांगने की मांग की है. इतना ही नहीं, कांग्रेस ने डॉक्टर ओपी आनंद के डिग्री की भी जांच किए जाने की मांग कर डाली है. इसके अलावा अस्पताल के जमीन को लेकर भी सवाल उठाए गए हैं. आपको बता दें डॉक्टर ओपी आनंद शहर के प्रतिष्ठित व्यक्ति वाईपी  यादव के पुत्र हैं. वाईपी यादव द्वारा गायत्री शिक्षा निकेतन स्कूल की स्थापना की गई थी, जो आज भी संचालित हो रहा है.

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

spot_imgspot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!