spot_imgspot_img

Global Statistics

All countries
231,853,321
Confirmed
Updated on September 25, 2021 5:56 AM
All countries
206,724,207
Recovered
Updated on September 25, 2021 5:56 AM
All countries
4,750,391
Deaths
Updated on September 25, 2021 5:56 AM
spot_img

Adityapur-RIT : बाबकुटी में पंचमुखी हनुमान मंदिर के पुजारी ने पूर्व पार्षद मनोज कुमार राय के साथ मिल कर मनोकामना मंदिर के पुजारी के बेटे से की मारपीट, आरआईटी, थाना में मामला दर्ज

Advertisement
Advertisement

आदित्यपुर : पूरा झारखंड वैश्विक महामारी कोरोनावायरस के संक्रमण से जूझ रहा है. सरकारी आदेश के तहत कहीं भी मजमा नहीं लगाना है. भीड़ इकट्ठा नहीं होना है. इन सब को ताक पर रखते हुए सरायकेला- खरसावां जिला के आरआईटी थाना अंतर्गत बाबा कुटी से जो तस्वीरें सामने आयी हैं उससे तो ऐसा प्रतीत हो रहा है कि यहां के लोगों को कोरोना का खौफ नहीं है न ही यहां सरकारी आदेश का कोई असर है. दरअसल बाबा कुटी आरआईटी थाना क्षेत्र के लिए विवाद का केंद्र बनता जा रहा है. यहां गुटीय विवाद चरम पर है, जो आए दिन हिंसक झड़प में तब्दील हो रहा है. वैसे हाल के दिनों में उपजे हालात भविष्य के लिए शुभ संकेत नहीं कहे जा सकते. पिछले दिनों बाबा कुटी स्थित मनोकामना मंदिर के समीप गांजा पीने को लेकर विरोध करने पर शरारती तत्वों द्वारा महंत जयप्रकाश नारायण तिवारी एवं उनके परिवार पर जानलेवा हमला किया जाना फिर पुलिस को महंत के खिलाफ भड़काकर स्थानीय लोगों द्वारा उनके बड़े बेटे को भी मारपीट का आरोपी बनवाकर जेल भिजवा दिया गया. हालांकि आरआईटी पुलिस ने अनुसंधान के रूप में खानापूर्ति कर दोनों पक्षों के एक- एक नामजदों को गिरफ्तार कर जेल भेजकर पल्ला झाड़ लिया था. मामला अभी भी न्यायालय में चल रहा है. उस घटना में महंत की गाड़ी को बुरी तरह से क्षतिग्रस्त किया गया था. इधर मामला शांत हुए अभी कुछ दिन ही बीते हैं, कि एकबार फिर से पंचमुखी हनुमान मंदिर के पुजारी अजय उपाध्याय ने महंत के बड़े बेटे पर पूर्व पार्षद मनोज कुमार राय के साथ हमला कर दिया. बताया जाता है, कि मंदिर में पूजा पाठ के लिए महंत जयप्रकाश नारायण तिवारी द्वारा अजय उपाध्याय की नियुक्ति की गई थी. महंत द्वारा अजय उपाध्याय को मंदिर प्रांगण में ही रह कर पूजा पाठ करने की अनुमति दी गई थी, लेकिन अजय उपाध्याय पूरे परिवार के साथ पिछले 13 सालों से मंदिर प्रांगण में रह रहे हैं. महंत एवं उनके परिवार के सदस्य पुजारी को परिवार कहीं अन्यत्र रखकर पूजा पाठ करने की बात कर रहे थे. महंत ने कई बार मंदिर प्रांगण में कुछ संदिग्ध लोगों को आते- जाते और गांजा पीते देखा जिसपर उन्होंने पुजारी को फटकार भी लगायी. इस बीच पुजारी ने आश्रम के लोगों के साथ सहानुभूति जुटाने का प्रयास किया और यह आरोप लगाया, कि महंत जबरन मुझे बेदखल करना चाहते हैं. अब सवाल ये उठता है, कि आखिर जब मंदिर के सेवायत महंत जयप्रकाश नारायण तिवारी हैं, तो फिर पुजारी अजय उपाध्याय की कैसी दावेदारी. कौन ऐसे तत्व हैं  जो पुजारी के इस दावे को समर्थन दे रहे हैं. स्थानीय लोगों को यह भी कहते सुना गया, कि मंदिर सार्वजनिक होता है. निश्चित तौर पर मंदिर सार्वजनिक होता है और होना भी चाहिए, लेकिन जब मंदिर के रखरखाव की बारी आती है, उस वक्त एक भी भक्त सामने क्यों नहीं आते. इसी बात को लेकर शनिवार को कोरोना वायरस के संक्रमण का खौफ भूल महंत के परिवार वालों के साथ मारपीट की घटना को अंजाम दिया गया. बताया जा रहा है कि महंत के अल्टीमेटम के बाद मंदिर में पूजा- पाठ उनके बड़े बेटे देवानंद तिवारी ने शुरू कर दी. पुजारी अजय उपाध्याय ने पूर्व पार्षद मनोज कुमार राय को बुलाकर इंसाफ दिलाने की गुहार लगाई. इसी बीच मंदिर के इर्द- गिर्द पहले से ही लाठी डंडे एकत्रित कर रखे गए थे. जैसे ही दोनों पक्षों के बीच विवाद शुरू हुआ पहले से रखे गए डंडों से महंत के बेटे पर हमला कर दिया गया. उधर मारपीट की जानकारी मिलते ही पूरे आश्रम के लोगों का जुटान मंदिर पर होने लगा. लोग कोरोना का खौफ भूल पंचायती में जुटने लगे. मामले की जानकारी मिलते ही आरआईटी थाना पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों पक्षों को समझा-बुझाकर मामला शांत कराया. इस संबंध में महंत जयप्रकाश नारायण तिवारी की पुत्री सह अधिवक्ता पार्वती कुमारी ने आरआईटी थाने में पूर्व पार्षद मनोज कुमार राय, पुजारी अजय उपाध्याय व अन्य के खिलाफ मामला दर्ज कराया है. दर्ज कराए गए शिकायत के आधार पर पार्वती कुमारी ने अपने साथ बदसलूकी और अपने परिवार के खिलाफ साजिश का आरोप लगाते हुए जानमाल की सुरक्षा की गुहार लगाई है. पार्वती ने बताया, कि आश्रम के लोगों द्वारा जानबूझकर उनके परिवार के साथ विवाद पैदा किया जा रहा है. इसके पीछे बड़े पैमाने पर आश्रम के जमीनों की आश्रम के नियमों को ताक पर रखकर खरीद- बिक्री की बात उन्होंने कही. उन्होंने बताया कि महंत जी का स्थानीय लोगों द्वारा इसलिए जानबूझकर विरोध कराया जा रहा है ताकि महंत जी कानूनी लड़ाई में उलझे रहे और उसकी आड़ में आश्रम के लोग दान में लिए गए जमीनों की खरीद- बिक्री करते रहें. पार्वती ने पूरे मामले की जांच कर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की गुहार लगाई है. उन्होंने बताया, कि बार-बार साजिश के तहत उनके परिवार को निशाना बनाया जा रहा है. जिससे उनका पूरा परिवार दहशत में जी रहा है.

Advertisement
Advertisement
[metaslider id=15963 cssclass=””]

Advertisement
Advertisement
WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM
IMG-20200108-WA0007-808x566
WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM (1)
WhatsApp_Image_2020-03-18_at_12.03.14_PM_1024x512
previous arrow
next arrow
Advertisement

Leave a Reply

spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!