वाहन चालकों के लिए बड़ी खबर : रविवार से बिना हेलमेट पकड़े गये तो लगेगा 1000 रुपये का जुर्माना, लाइसेंस सस्पेंड होगा, सुधर जाइये

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर : वाहन चालकों के लिए रविवार से मुश्किलें और बढ़ने जा रही है. झारखंड सरकार ने एक सितंबर से मोटरयान संशोधित अधिनियम 2019 लागू कर दी है. रविवार से अब लोगों को ज्यादा फाइन देना पड़ेगा. अलग-अलग गलतियों के लिए लोगों को ज्यादा जुर्माना देना पड़ सकता है. यातायात नियमों को लागू करने के लिए नये फाइन का दर लगा दिया गया है. इसके तहत अगर कोई मोटर साइकिल चालक बिना हेलमेट के पकड़ा जाता है तो उसको अब एक हजार रुपये जुर्माना देना होगा जबकि यह राशि पहले दो सौ रुपये ही थी. इसके अलावा तीन माह के लिए लाइसेंस को भी निलंबित करने का प्रावधान तय कर दिया गया है. नये संशोधन को सख्ती से लागू कर दिया गया है. नये नियम की कॉपी सभी जिले को दे दी गयी है और इसी नियम के तहत अब वसूली करने का निर्देश दिया गया है. बिना सीट बेल्ट लगाये भी गाड़ियां पकड़ी जायेगी तो लोगों को तीन सौ रुपये अब तक हर्जाना भरना पड़ता था, जिसकी राशि को बढ़ाकर एक हजार रुपये कर दी गयी है. 
किस अपराध का क्या होगा जुर्माना की राशि एक नजर में : 

अपराध की श्रेणी-पहले यह लगता था जुर्माना-एक सितंबर 2019 से अब यह लगेगा जुर्माना
हेलमेट पहने बिना दोपहिया वाहन चलाना-200 रुपये-1000 रुपये व तीन माह के लिए लाइसेंस निलंबित
दो से ज्यादा सवारी मोटरसाइकिल पर करने पर-100 रुपये-1000 रुपये
कार में सीट बेल्ट नहीं पहनना-300 रुपये-1000 रुपये
इमरजेंसी वारहन या एंबुलेंस को रास्ता नहीं देना-00000-10 हजार रुपये
लाइसेंस के बिना गाड़ी चलाना-500 रुपये-5000 रुपये
गाड़ी को काफी स्पीड यानी तय मानक के खिलाफ गाड़ी चलाना-400 रुपये-2000 रुपये
लाइसेंस अगर रद्द है या सस्पेंड है फिर भी गाड़ी चला रहे है तो-500 रुपये-10000 रुपये
खतरनाक तरीके से ड्राइविंग करते पकड़े गये तब-1000 रुपये-5000 रुपये
ड्राइविंग के दौरान मोबाइल पर बात करना-1000 रुपये-5000 रुपये
शराब पीने के बाद गाड़ी चलाना-2000 रुपये-10000 रुपये
गाड़ियों की ओवरलोडिंग पर-2000 व उसके बाद प्रति टन 10 हजार रुपये-2000 या उसके बाद प्रति टन 2000 रुपये
बिना परमिट के गाड़ी चलाना-5000 रुपये-10000 रुपये
इंश्योरेंस के बगैर गाड़ी चलाना-1000 रुपये-2000 रुपये 
नाबालिग अगर गाड़ी चलाते पकड़ाया-अब तक कोई प्रावधान नहीं-25 हजार रुपये जुर्माना के साथ तीन साल की सजा, वाहन का रजिस्ट्रेशन रद्द होने के साथ ही अगर नाबालिग है तो उसका अभिभावक भी दोषी माने जायेंगे और 25 साल तक उनका लाइसेंस नहीं बनेगा. 
सड़क हादसे में भुग्तभोगी को मिलने वाले मुआवजा की राशि भी बढ़ी

1. अगर सड़क हादसे में मौत हो गयी तो-पहले 25 हजार रुपये मिलता था, जो अब दो लाख रुपये मिलेगा
2. अगर सड़क हादसे में गंभीर चोटें आयी तो-पहले 25 हजार रुपये मुआवजा मिलता था, जो अब 50 हजार रुपये मिला करेगा. 

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement