chaibasa : अस्थायी नौकरी से परेशान परियोजना सहायक पहुंचे विधायक दीपक बिरुवा के पास, विधायक ने कहा- सेवा नियमावली के आधार पर होनी चाहिए सीधी नियुक्ति, सीएम से करेंगे बात

Advertisement
Advertisement

चाईबासा : हस्तकरघा रेशम एवं हस्तशिल्प निदेशालय उद्योग विभाग अंतर्गत विभिन्न अग्र परियोजना केंद्र के अस्थायी परियोजना सहायकों में विधायक दीपक बिरुवा से मिलकर सेवा नियमावली के आधार पर सीधी नियुक्ति होने की आस जगी है। झामुमो विधायक दीपक बिरुवा ने कहा कि उद्योग विभाग मुख्यमंत्री के पास है। नियमावली के आधार पर ही सीधी नियुक्ति प्रक्रिया हो, इस पर मुख्यमंत्री से बात करेंगे। इससे हस्तकरघा, रेशम एवं हस्तशिल्प निदेशालय अंतर्गत एक वर्षीय प्रशिक्षण प्राप्त प्रशिक्षणार्थियों के लिए भी रोजगार के अवसर प्राप्त होंगें।

Advertisement
Advertisement

गौरतलब है कि 11 सितंबर 2013 को सरकार के सचिव, रेशम एवं हस्तशिल्प निदेशालय द्वारा सेवा नियमावली 2009 के आधार पर भारतीय संविधान के अनुच्छेद 309 के परंतुक कीट पालक एवं समकक्ष पदों पर वेतनमान 5200-20200, ग्रेड वेतन 1800 में एक वर्षीय सर्टिफिकेट कोर्स किए अभ्यर्थियों को सीधी नियुक्ति देने का प्रावधान है। लेकिन अब तक इस सेवा नियमावली के अनुसार नियुक्ति नहीं की गई है। अस्थायी परियोजना सहायकों ने स्थायी कराने की गुहार चाईबासा के विधायक दीपक बिरुवा से लगायी। इस संबंध में परियोजना सहायकों ने शनिवार को सरनाडीह स्थित विधायक कार्यालय में विधायक श्री बिरुवा से मिलकर कर ज्ञापन सौंपा और विभाग में रिक्त पड़े पदों की जानकारी दी।

Advertisement

परियोजना सहायकों ने बताया कि विभाग में परियोजना सहायक की विभागीय परीक्षा पूर्व में मौखिक ली जाती थी और एक वर्षीय सर्टिफिकेट धारियों / समकक्ष की 100 प्रतिशत सीधी भर्ती पूर्व में बनायी गयी नियमावली के आधार पर लिया जाता था। इसी आधार पर सीधी नियुक्ति किया जाना चाहिए। परियोजना सहायकों ने विभाग में कार्यरत योजना अंतर्गत परियोजना सहायक को आकस्मिक मृत्यु या दुर्घटना पर बीमा का लाभ दिये जाने की मांग की। इस बाबत विधायक दीपक बिरुवा ने प्रतिनिधिमंडल को आश्वस्त किया कि उनके मांगों को लेकर मुख्यमंत्री से नियमावली के आधार पर सीधी नियुक्ति पर बात करेंगे। रिक्त पदों पर बहाल करने की भी पहल की जाएगी। विधायक से मिलने वाले प्रतिनिधिमंडल में घासीराम पान, गंगाधर महतो, अनुराधा किरण, थियोफिल भुइयां, घनश्याम सुरीन, मुनेश्वर दोंगो, दुर्गा सिंकू, विश्व नाथ लागुरी व अन्य शामिल थे।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement

Leave a Reply