Chakulia-Children-Park-Animal-Pasture : चाकुलिया का चिल्ड्रेन पार्क बना पशुओं का चारागाह, तीसरे पार्क निर्माण का मुद्दा लोगों के लिए बना चर्चा का विषय

Advertisement
Advertisement

चाकुलिया : चाकुलिया नगर पंचायत क्षेत्र के वार्ड संख्या 10 के सुगनीबासा में लाखों की लागत से निर्मित चिल्ड्रेन पार्क इन दिनों पशुओं का चारागाह बन गया है. चिल्ड्रेन पार्क में उगी घास और झाड़ियों को सहज ही पार्क में मवेशियों को चरते देखा जा सकता है. नपं द्वारा निर्मित पार्क की सही तरह से देखभाल न होने के कारण लाखों की लागत से निर्मित चिल्ड्रेन पार्क लोगों के लिए दर्शन की वस्तु बनकर रह गई है. पार्क में लगी लाइट और बच्चों की झूले भी नष्ट हो रहे हैं. बच्चे कम मवेशी ज्यादा पार्क का लुत्फ उठा रहे हैं. पार्क में रोजाना 2-4 पशु प्रवेश कर पार्क में चरते हैं. वहीं पुरनापानी में एक करोड़ की लागत से निर्मित पार्क वर्षों से अधूरा है. पार्क निर्माण को पूर्ण कराने की दिशा में अबतक न तो विभाग द्वारा उचित पहल की जा रही है और न ही जन प्रतिनिधियों की ओर से ही दिलचस्पी दिखायी जा रही है. नपं द्वारा निर्मित दो-दो पार्क नगर पंचायत क्षेत्र के लोगों के लिए अबतक लाभप्रद योजना न बनकर अनुपयोगी ही साबित हो रही हैं. वही अब नगर पंचायत द्वारा नगर पंचायत क्षेत्र के प्रसिद्ध नागा बाबा मंदिर के पास तीसरे पार्क का निर्माण कराने की योजना है. यह नगर पंचायत क्षेत्र के लोगों में चर्चा का विषय बना हुआ है. लोगों का कहना है कि नगर पंचायत क्षेत्र में समस्याओं का अंबार लगा हुआ है और लोग समस्याओं की मकड़ जाल में उलझे हुए हैं. नगर पंचायत के पदाधिकारी और जन प्रतिनिधि नपं क्षेत्र की समस्याओं का निदान न कर लोगों के लिए घूमने और बैठने के लिए करोड़ों रुपय खर्च कर रहे है जो लोगों के लिए अनुपयोगी है. नगर पंचायत क्षेत्र में तीसरे पार्क की निर्माण योजना इन दिनों लोगों के बीच चर्चा का विषय बनी हुई है. लोगों का कहना है कि नपं के जन प्रतिनिधि और पदाधिकारी आखिर लोगों की मूलभूत समस्याओं का निदान न कर पार्क निर्माण कराने के प्रति इतने मेहरमान क्यों हैं, यह समझ से परे है. लोगों ने कहा कि यहां गली-मुहल्लों का अबतक विकास नहीं हुआ है, लोग आज भी कचड़ों के अंबार के बीच सांस ले रहे हैं. पर्याप्त नाली और सड़क का निर्माण नहीं हुआ है, वहीं करोड़ों रुपये खर्च कर नपं पार्क का निर्माण करवा रहा है, जो आम लोगों के लिए किसी भी मायने में लाभदायक नहीं है.

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement

Leave a Reply