Confederation of All India Traders : फूड सेफ्टी अथॉरिटी के नए नियम छोटे व्यापरियों के लिए आर्थिक महामारी, 2 करोड़ छोटे व्यापारिक और 15 लाख से अधिक का व्यापार बुरी तरह प्रभावित होगा : कैट

Advertisement
Advertisement

Jamshedpur : फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी द्वारा हाल ही लागू किए गए एक कानून से देश भर में लगभग 2 करोड़ छोटे दुकानदार बुरी तरह प्रभावित होंगे, जिसके कारण इन व्यापारियों के व्यवसाय का 75% से अधिक व्यापार खत्म होगा और प्रति वर्ष लगभग 15 लाख करोड़ रु का व्यापार समाप्त हो जाएगा। केंद्र सरकार की हालिया अधिसूचना के कारण ये छोटे व्यापारी जो पहले से ही कोरोना महामारी से बुरी तरह से परेशान उन्हें फूड अथॉरिटी के नए कानून से अब आर्थिक महामारी का सामना करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। यह मानना है कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट ) का। कैट ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन और वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल को पत्र भेजकर एफएसएसएआई के नियमों को वापस लेने की मांग की है।

Advertisement
Advertisement

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट ) ने कहा कि खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI), ने 4 सितंबर, 2020 को जारी एक अधिसूचना में खाद्य सुरक्षा और मानक (स्कूल में बच्चों के लिए सुरक्षित भोजन और संतुलित आहार) नियम को लागू किया जिसमें यह कहा गया की “खाद्य उत्पाद जिसमें किसी भी प्रकार से चर्बी बड़ाने की सम्भावना है अथवा चीनी या सोडीयम से युक्त कोई भी सामान किसी भी स्कूल के गेट से किसी भी दिशा में पचास मीटर के दायरे में स्कूल परिसर में या स्कूली बच्चों के लिए सामान बेचने की अनुमति नहीं दी जाएगी। कैट ने इन विनियमों का कड़ा विरोध करते हुए इसे “बर्बर नियम” करार दिया और कहा कि यह प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा लोकल पर वोकल और आत्मनिर्भपर भारत के आह्वान का उल्लंघन करता है। यह क़ानून छोटे व्यापारियों का व्यापार छीनेगा और सरकारी अधिकारियों की गैर-संवेदनशीलता को दर्शाता जो देश के घरेलू व्यापार को अस्थिर करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं । कैट ने कहा की एफएसएसएआई का यह नियम इस बात को स्पष्ट करता है की यह एक निरंकुश और तानाशाह के रूप में है किसी भी नियम या विनियम लाने से पहले कभी भी हितधारकों से परामर्श नहीं करता है।

Advertisement
Advertisement

कैट के राष्ट्रीय सचिव सुरेश सोन्थलिया ने कहा कि देश में लगभग 2 करोड़ छोटी दुकानों / विक्रेताओं में ज्यादातर पड़ोस की दुकान हैं .जैसे कि जनरल टोर्स, पान की दुकानें, किराना दुकानें और अन्य छोटी और छोटी दुकानें हैं जो सभी प्रकार की एफएमसीजी वस्तुओं की आवश्यकता को पूरा करते हैं और जो ख़ास तौर पर खाद्य और पेय पदार्थ, किराना , व्यक्तिगत और घरेलू देखभाल की चीजें शामिल हैं ।ग्राहक की आवश्यकता को पूरा करने के लिए यह दुकानें बेहद महत्वपूर्ण नियमों के अनुसार किसी को भी किसी भी उत्पाद को बेचने की अनुमति नहीं दी जाएगी, जिसमें चीनी, नमक या सॉफ़्हो।

Advertisement
Advertisement

श्री सोन्थलिया ने कहा कि इन पड़ोस की दुकानों ने लॉक डाउन के समय लोगों की दैनिक आवश्यकताओं को पूरा करने में सबसे ज़्यादा भूमिका निबाही हैं। इन दुकानों को खाद्य और पेय उत्पादों को रखने की अनुमति नहीं देने तथा अन्य वस्तुओं की बिक्री को ख़त्म करने और ग्राहक आधार को खोने के लिए मजबूर करेंगे । व्यापार तहस बहस हो जाएगा ।इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि अगर दुकानदार उत्पादों की एक पूरी श्रृंखला उपलब्ध कराने में सक्षम नहीं हैं, तो ग्राहकों के कदम इन दुकानों में बिलकुल नहीं पड़ेंगे । कैट ने सरकार से मांग की है कि वह इस गैर-व्यावहारिक नियमों और विनियमों को वापस ले जो एक व्यक्ति के मौलिक अधिकार का उल्लंघन करता है। मौजूदा परिस्थितियों के कारण सरकार रोजगार देने में सक्षम नहीं है, जबकि एफएसएसएआई लोगों को उनके मौजूदा व्यवसायों से वंचित करने के लिए अडिग है । इसके लिए फ़ूड अथॉरिटी की जितनी आलोचना की जाए वो कम है।

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Must Read

Adityapur-RIT : लगातार दूसरे दिन मार्ग संख्या सात में मारपीट, थाना में हंगामा

आदित्यपुर : सरायकेला-खरसावां जिले के आरआईटी थाना अंतर्गत मार्ग संख्या सात में लगातार दूसरे दिन दो गुटों में में हिंसक झड़प हुई है. बताया...

Horoscope : आज का राशिफल, शुक्रवार, 26 फरवरी 2021 : जानें आज कैसा रहेगा आपका दिन

मेष : ख़याली पुलाव पकाने में वक़्त ज़ाया न करें। सार्थक कामों में लगाने के लिए अपनी ऊर्जा बचाकर रखें। तंग आर्थिक हालात के...

adityapur-एनआईटी प्रबंधन के खिलाफ अनशन पर बैठे कांग्रेसी, कहा- कैग रिपोर्ट के अनुसार कार्रवाई नहीं होने पर अनिश्चितकालीन अनशन

आदित्यपुर: एनआईटी जमशेदपुर प्रबंधन पर कैग रिपोर्ट का अवमानना कर यहां के शिक्षकों को अधिक वेतन दिए जाने के मामले को लेकर इंटक नेता...

Related Articles

adityapur-एनआईटी प्रबंधन के खिलाफ अनशन पर बैठे कांग्रेसी, कहा- कैग रिपोर्ट के अनुसार कार्रवाई नहीं होने पर अनिश्चितकालीन अनशन

आदित्यपुर: एनआईटी जमशेदपुर प्रबंधन पर कैग रिपोर्ट का अवमानना कर यहां के शिक्षकों को अधिक वेतन दिए जाने के मामले को लेकर इंटक नेता...

Jamshedpur : मरीन ड्राइव टॉल ब्रिज से व्यक्ति खरकई नदी में कूदा

जमशेदपुर : कदमा थाना अंतर्गत मरीन ड्राइव स्थित टॉल ब्रिज से एक व्यक्ति खरकई नदी में कूद गया. स्थानीय कुछ युवकों ने उसे बचाने...

Jamshedpur : सूर्य धाम में श्रीश्री राम मंदिर की प्रथम वर्षगांठ पर 27 से होगा रामायण पाठ, सूर्य मंदिर समिति की बैठक में लिया...

जमशेदपुर : गुरुवार को सूर्य मंदिर समिति की एक बैठक हुई। समिति के संरक्षक एवं पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास की उपस्थिति में सम्पन्न इस...

Jamshedpur : सम्पूर्ण भोजपुरी विकास मंच ने टाटा से बक्सर एवं टाटा-छपरा को गोरखपुर तक सीधी रेल सेवा की मांग की, सांसद विद्युतवरण महतो...

जमशेदपुर : सम्पूर्ण भोजपुरी विकास मंच के महामंत्री प्रदीप सिंह भोजपुरिया ने देश के रेलमंत्री से टाटा - बक्सर एवं टाटा-छपरा एक्सप्रेस को गोरखपुर...

Jamshedpur : जेएन टाटा की जयंती पर रेड क्रॉस का नेत्र शिविर 27 से, रक्तदान शिविर 8 मार्च को

जमशेदपुर : प्रत्येक वर्ष की भांति फरवरी माह के अंतिम तथा मार्च माह के प्रथम नेत्र शिविर तथा रक्तदान शिविर का आयोजन टाटा समूह...

Jamshedpur : रेड क्रॉस के मानद सचिव विजय कुमार सिंह के ह्रदय का हुआ ऑपरेशन

जमशेदपुर : टाटा मेन हॉस्पिटल में आज गुरुवार को रेड क्रॉस सोसाइटी, पूर्वी सिंहभूम के मानद सचिव विजय कुमार सिंह के ह्रदय का ऑपरेशन...

Jamshedpur-rural-accident : पोटका में तेज़ रफ्तार बाइक हुई अनियंत्रित, दुर्घटना में दो छात्रों की मौत

जमशेदपुर : जमशेदपुर के पोटका थाना अंतर्गत कलिकापुर के पास एक तेज़ रफ्तार बाइक अनियंत्रित होकर सड़क में गिर गई. इस घटना में दो...

Jharkhand-Cabinet-meeting : झारखंड कैबिनेट की बैठक में लिए गए कई महत्वपूर्ण निर्णय, जमशेदपुर महिला विश्वविद्यालय में कुलपति समेत अन्य अधिकारियों के पद सृजन की...

रांची : रांची में गुरुवार को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में झारखंड कैबिनेट की बैठक हुई. बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिये गये....

Jharkhand : मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने झारखंड राज्य सजा पुनरीक्षण पर्षद की अनुशंसा को दी मंजूरी, 26 कैदियों को रिहा करने की स्वीकृति

रांची : मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन की अध्यक्षता में गुरुवार को झारखंड मंत्रालय में राज्य सजा पुनरीक्षण पर्षद की बैठक हुई। यह बैठक राज्य सजा...

Jamshedpur : असहयोग आंदोलन भूल गई है केंद्र सरकार, झारखंड में ननकाना साहिब शताब्दी समारोह मनाएंगे : सरदार इंद्रजीत सिंह

जमशेदपुर : तखत श्री हरिमंदिर साहिब प्रबंधन कमेटी पटना के उपाध्यक्ष सरदार इंद्रजीत सिंह ने कहा कि केंद्र सरकार देश के आजादी आंदोलन खासकर...

Jamshedpur : अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा पूर्वी सिंहभूम के अध्यक्ष बने रविकान्त पाण्डेय

जमशेदपुर : अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा झारखण्ड प्रदेश के अध्यक्ष कमलेश पाठक ने राष्ट्रीय अध्यक्ष यूपी रत्न से सम्मानित पंडित राजेन्द्रनाथ त्रिपाठी के दिशा-निर्देश...

Jamshedpur : कोरोना संक्रमण के रोकथाम हेुत रेलवे स्टेशन में यात्रियों का किया गया कोविड-19 जांच, जुगसलाई के बाबू कुंवर सिंह चौक पर भी...

जमशेदपुर : कोविड-19 संक्रमण के रोकथाम हेतु जिला स्वास्थ समिति,पूर्वी सिंहभूम द्वारा एक बार फिर से मुंबई, दिल्ली, पुणे एवं अहमदाबाद से आने वाली...
Don`t copy text!