spot_imgspot_img

Global Statistics

All countries
180,744,346
Confirmed
Updated on Friday, 25 June 2021, 05:40:08 IST 5:40 AM
All countries
163,677,613
Recovered
Updated on Friday, 25 June 2021, 05:40:08 IST 5:40 AM
All countries
3,915,333
Deaths
Updated on Friday, 25 June 2021, 05:40:08 IST 5:40 AM
spot_img

International-webinars-at-JKM-College-Degree-cum-Women’s-BEd-and-JK-BEd-college : जेकेएम कॉलेज, डिग्री सह वीमेंस बीएड और जेके बीएड कॉलेज ने किया संयुक्त रूप से अंतर्राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन, संस्थापक डॉ यामिनी कांत महतो ने कहा-आपदा में ही हमारे सामर्थ्य की पहचान होती है

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर : जेकेएम कॉलेज, डिग्री सह वीमेंस बीएड और जेके बीएड कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में शुक्रवार को एक अन्तरराष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया गया। इस वेबिनार में दक्षिण एशिया पर कोविड-19 से पड़ने वाले प्रभावों पर चर्चा की गई। साथ ही शैक्षणिक दृष्टिकोण से आने वाले बदलाव और नई शिक्षा पद्धति पर भी विचार व्यक्त किए गए। वेबिनार की अध्यक्षता जेके शैक्षणिक संस्थान समूह के सचिव सह संस्थापक डॉ यामिनी कांत महतो ने की। उन्होंने अपने वक्तव्य में कहा कि यह समय समस्याओं से भी भरा हुआ है और संभावनाओं से भी भरा हुआ है. कोविड के कारण बहुत सारे अवांछित परिणाम और परिवर्तन हमारे आसपास नजर आ रहे हैं । सबसे ज्यादा असर शैक्षणिक परिदृश्य पर और आर्थिक गतिविधियों पर पड़ा है। इस समय शिक्षाविद की महती जिम्मेदारी बनती है कि वह इससे उबरने का रास्ता दिखाएं। जरूरी है कि हम आपसी विचारों को साझा करें और एक ठोस निष्कर्ष पर पहुंचे ताकि नई पीढ़ी को दिशा निर्देश मिल सके।

Advertisement
Advertisement

कोविड 19 के कारण सामने आई शैक्षणिक चुनौतियों पर बात करते हुए चेन्नई के प्रोफेसर डॉ वेंकट लक्ष्मण मोनी ने कहा कि हमें बदलते हुए परिदृश्य के अनुसार अपने शिक्षण विधियों में भी परिवर्तन लाना होगा क्योंकि ऑनलाइन कक्षा का वातावरण अलग होता है । हमें तकनीक का भी शुक्रगुजार होना चाहिए कि उसके सहारे ही आज हम डिजिटल शिक्षण के पथ पर अग्रसर हो रहे हैं । यह कहना गलत नहीं होगा कि लॉक डाउन ने हमारी क्षमताओं को बढ़ाया है और हमें और ज्यादा मजबूत बनाया है ।

Advertisement

विद्यालय की शिक्षा पर कोविड ने किस प्रकार असर डाला है विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में इस विषय पर बात करते हुए श्रीलंका स्थित केलानिया विश्वविद्यालय की लेक्चरर हैं डॉ नदीका ने कहा कि बेशक कोविड ने विद्यालय की शिक्षा पर बुरा असर डाला है पर कुछ सकारात्मक प्रभाव भी देखने के लिए मिले हैं। हम सभी कुछ नया सोचने और करने के लिए विवश हुए हैं। साथ ही स्वच्छता के प्रति भी हममें जागरूकता आई है । यह सच है कि हमें साधन और सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं पर जो कुछ भी संभावनाएं हैं उसके सहारे विद्यालय और महाविद्यालय की शिक्षा को सुदृढ़ करने का प्रयास किया जा रहा है।

Advertisement

शिक्षा पर कोविड के प्रभाव पर अपनी जानकारी हमारे साथ साझा करते हुए एनआईटी जमशेदपुर के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ रंजीत प्रसाद ने कहा कि हम अपने वातावरण से ही सीखते हैं। अभी जरूरी है कि बदलते हुए परिदृश्य में हम ऑनलाइन और ऑफलाइन इन दोनों विधियों के बीच संतुलन बैठाने की कोशिश करें। ऑनलाइन कक्षाओं के साथ-साथ सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए विद्यालय में कुछ संख्या में विद्यार्थी जा सकते हैं ताकि शिक्षकों से बातचीत हो सके , विषय वस्तु पर संवाद कायम हो । परीक्षा देने की चुनौती अभी हमारे सामने है और इस पर सोचना होगा।
साथ ही पंचकोषीय शिक्षा पर भी ध्यान देना जरूरी है ताकि हम एक जिम्मेदार और सर्वांगीण व्यक्तित्व के नागरिक का निर्माण कर सकें । ध्यान देना होगा कि शिक्षा कोई व्यवसाय नहीं है बल्कि मानव निर्माण की प्रक्रिया है ।

Advertisement

केरल के डॉ श्रीकांत नायर ने भी स्कूली शिक्षा से जुड़े विभिन्न आयामों पर अपनी बात की। उन्होंने कहा कि आपदाओं में ही व्यवस्था की पहचान होती है। चुनौतियां हर जगह हैं। हमें सामाजिक नियमों का, सरकारी नियमों का पालन करते हुए शैक्षणिक गतिविधियों को भी आगे बढ़ाना होगा। जरूरी है कि सरकार इस परिस्थिति में अपनी मुख्य भूमिका निभाए और अधिक से अधिक विद्यार्थियों को तकनीकी सुविधाओं से लैस करे। सामाजिक सुरक्षा के साथ-साथ बच्चों के हर प्रकार की जरूरत को पूरा करना भी व्यवस्था का मुख्य उद्देश्य होना चाहिए ।कोविड से उपजी परेशानियों को सामूहिक तौर पर ही हल किया जा सकता है क्योंकि यह व्यक्तिगत नहीं बल्कि सामाजिक चुनौती है।

Advertisement

इस अन्तरराष्ट्रीय वेबिनार को सफल बनाने में को-ऑर्डिनेटर डॉ सोनाली राय, प्रिंसिपल डॉ कल्याणी कबीर, प्रिंसिपल डॉ पूनम कुमारी का महत्वपूर्ण योगदान रहा। स्वागत गान और गीत प्रोफेसर श्यामली दत्ता ने प्रस्तुत किया। वेबिनार में तकनीकी रूप से कमलेंदु राय और पूजा गिरि सहायक रहे। वेबिनार का संचालन प्रिंसिपल डॉ कल्याणी कबीर और धन्यवाद ज्ञापन विभागाध्यक्षा डॉ मौसमी महतो ने किया। इस वेबिनार में जेके शैक्षणिक संस्थान से जुड़े सभी व्याखयाताओं और बड़ी संख्या में विद्यार्थियों ने भी भाग लिया।

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!