jamshedpur-mtmh-rose-days-जमशेदपुर के एमटीएमएच में कैनकेयर ने कैंसर रोगियों के बीच मनाया ”रोज डे”, जाने क्या है गुलाब दिवस का इतिहास

राशिफल

जमशेदपुर : जमशेदपुर के मेहरबाई टाटा मेमोरियल अस्पताल (एमटीएमएच) में कैनकेयर के सदस्य द्वारा वर्ल्ड रोज डे मनाया गया. इसमें कैंसर के मरीजों के बीच चॉकलेट और फूल का वितरण किया गया और उनका मनोबल बढ़ाने के लिए कैनकेयर के सदस्यों ने उनके साथ कुछ समय बिताया और उन्हें बताया गया कि कैंसर से डरना नहीं, लड़ना है. साथ ही छोटे बच्चों को, जो कि कैंसर से पीड़ित है उनके लिए कुछ खिलौनों को वितरण किया गया. कैनकेयर के सदस्यों को अपने बीच पाकर कैंसर के मरीज बहुत खुश हुए. ज्ञात हो कि कैनकेयर की टीम पिछले 25 सालों से हमेशा कैंसर के मरीजों की सेवा का काम कर रही हैं और उनका मनोबल बढ़ाती हैं. इस मौके पर मुख्य रुप से श्रवण सिंह, त्रिलोक सिंह, रूबी भाटिया, भास्कर, निकुंज, सुखबीर बब्बू और साथ में एमटीएमएच के डॉक्टर और नर्स भी शामिल हुए.
जानें विश्व गुलाब दिवस का इतिहास और क्यों कैंसर मरीजों के लिए खास होता है ये दिन
दुनियाभर में 22 सितंबर को विश्व गुलाब दिवस मनाया जाता है. इसके वर्ल्ड रोज डे भी कहते हैं. कैंसर पीड़ितों से मानवीय व्यवहार करने और उनका दुख बांटने के लिए हर साल 22 सितंबर को वर्ल्ड रोज मनाया जाता है. इस दिन को मनाने का खास मकसद ही कैंसर से लड़ने वाले लोगों को जीने की प्रेरणा देना और उनके जीवन में खुशियां लाना है. ये दिन कैंसर के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए है. यह एक ऐसा दिन है जो कैंसर से लड़ने वाले लोगों में आशा और उत्साह फैलाने के लिए समर्पित है, क्योंकि लगभग सभी कैंसर के इलाज में शारीरिक रूप से बहुत कष्ट होता है. उसके अलावा कैंसर आपके दिमाग और दिल को भी प्रभावित करता है. ऐसे में कैंसर के मरीजों को खुश रखना बहुत महत्वपूर्ण है. विशेषज्ञों का कहना है और इसलिए उनके लिए हर दिन एक ‘रोज डे’ होना चाहिए, जहां विश्व रोज डे 22 सितम्बर को मनाया जाता है. वहीं विश्व कैंसर दिवस 4 फरवरी को मनाया जाता है , इस साल विश्व कैंसर दिवस थीम 2021 आइएम एंड आइ विल थी.

Must Read

Related Articles