jamshedpur -Cash-strapped: आर्थिक तंगी के कारण कुंजनगर बाल बिहार सोनारी के एक और सैलुन संचालक ने नदी में कूदकर दे दी जान

राशिफल

जमशेदपुर: जमशेदपुर में आत्महत्याओं का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है. वैश्विक महामारी के दौर में लगातार दूसरे या तीसरे दिन शहर में आत्महत्या किए जाने का मामला प्रकाश में आ रहा है. वैसे सभी आत्महत्याओं के पीछे बेरोजगारी और आर्थिक तंगी की बात सामने आ रही है. आपको बता दें 2 दिन पूर्व जहां सोनारी के एक नाई ने अपनी दुकान में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी. वहीं एक बार फिर से सोनारी के ही कुंज नगर का रहने वाला योगी ठाकुर नामक युवक का शव घाटशिला के समीप गालूडीह बराज से बरामद किया गया है. बताया जाता है कि युवक पेशे से नाई था और पंचवटी नगर में उसकी दुकान थी.

लॉकडाउन के कारण उत्पन्न हालात के कारण दुकान बंद हो चुका था. आर्थिक तंगी से परेशान था. वैसे युवक 22 अगस्त से ही लापता था, जिसकी शिकायत परिजनों ने थाने में की थी. उधर शव मिलते ही परिवार में कोहराम मच गया. एक हफ्ते के भीतर दो- दो नाइयों द्वारा आत्महत्या किए जाने के बाद शहर के सैलून कारोबारियों में आक्रोश देखा जा रहा है. आपको बता दें कि नाई समाज आर्थिक स्थिति का हवाला देकर कई बार सरकार और स्थानीय प्रशासन से सहयोग की गुहार लगा चुके हैं. उधर भाजपा भी सैलून व्यवसाय को शुरू किए जाने की मांग सरकार से कर चुकी है. बावजूद इसके अब तक इन्हें सैलून खोलने का आदेश नहीं दिया जा रहा है, जिससे सैलून के व्यवसाय से जुड़े नाइयों का बुरा हाल है. परिवार वालो न बताया कि पिछले पांच महीने से आर्थिक तंगी से गुजर रहा था. पंचवटी नगर में जोधी ठाकुर अपना सैलून चलाता था. तीन महीने से दुकान का किराया नही दे पाने के कारण दुकान मालिक ने दुकान खाली करा दिया. लॉकडाउन के कारण नाइ दुकान बंद होने से मालिक को किराया नई दे पा रहा था. इस दौरान दो -दो दिन भूखे परिवार को रहना पड़ रहता था. तंग आकर वह घर से अचानक गया हो गया और मंगलवार की सुबह उसकी मौत की खबर घर वालो को मिली. इसी का नतीजा है कि लगातार 2 दिनों के भीतर दो- दो नाइयों ने आत्महत्या कर ली है. पिछले 1 महीने के भीतर जमशेदपुर में एक दर्जन से भी ज्यादा आत्महत्या का मामला सामने आ चुका है.

[metaslider id=15963 cssclass=””]

Must Read

Related Articles