spot_img

jamshedpur-शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास के कार्यशाला में मना हिंदी दिवस

राशिफल

जमशेदपुरः शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास, झारखंड प्रदेश का प्रांतीय कार्यशाला में हिंदी दिवस कार्यक्रम का आयोजन ऑनलाइन माध्यम से किया गया, जिसमें प्रांतीय टोली के सभी सदस्यगण, विषय प्रांत संयोजक एवं सभी जिला संयोजक एवं सहसंयोजक , विषय प्रमुख उपस्थित रहे। कार्यक्रम की शुरुआत ओम ध्वनि के साथ किया गया तथा कार्यक्रम की भूमिका एवं विषय प्रवेश, शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास के प्रांत सहसंयोजक सह सरला बिरला विश्वविद्यालय के कुलसचिव प्रोफेसर डॉ विजय कुमार सिंह के द्वारा प्रस्तावना के माध्यम से प्रस्तुत किया गया। उन्होंने हिन्दी दिवस की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए कहा कि मां, मातृभूमि और मातृभाषा का कोई विकल्प नहीं है। हमलोग सिर्फ हिन्दी दिवस मनाते हैं जो सिर्फ औपचारिकता बस रह जाता है। इसको सम्मान देते हुए अपनी आदत में शामिल करते हुए हिंदी को आगे बढ़ाने का प्रयास करना चाहिए। डॉ रणजीत प्रसाद ने कहा कि सभी भाषाएं मातृभाषा है हिंदी सम्पर्क भाषा है। बहुत बड़े भूभाग में बोले जाने के कारण इसे राजभाषा का दर्जा प्राप्त हुआ। हिन्दी से प्यार का अर्थ किसी अन्य भाषा से नफरत नहीं है। हम हिन्दी को बढ़ावा देने के लिए छोटे-छोटे कार्य कर सकते हैं जैसे- अपनी भाषा हिंदी में हस्ताक्षर, हिंदी में बोलचाल, इन्डिया के स्थान पर भारत शब्द का प्रयोग आदि। कार्यक्रम के बारे में विषय पर प्रकाश डालते हुए शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास ने कहा कि भारतीय शिक्षा के क्षेत्र में कार्य कर रहा है। आज भारत वर्ष में इसके संगठन का विस्तार हुआ है। झारखण्ड में भी कई कार्यक्रता दायित्व लेकर कार्य कर रहे हैं। न्यास के अन्तरगत दस विषय, तीन आयाम एवं तीन कार्य विभाग आते हैं। आज के कार्यशाला सह हिन्दी दिवस में इन्हीं विषयों को विस्तार से चर्चा करना है, जिससे कार्यकर्ता सही-सही जान सकें कि उन्हें करना क्या है। (नीचे भी पढ़ें)

कार्यशाला के मुख्य अतिथि और वक्ता क्षेत्र संयोजक सह सदस्य बिहार विश्वविद्यालय सेवा आयोग डॉ विजय कांत दास ने न्यास के विविध विषय में चरित्र निर्माण, मूल्य परक शिक्षा और व्यक्तित्व विकाश, पर्यावरण शिक्षा, प्रबंधन शिक्षा, शिक्षक शिक्षा, तकनीकी शिक्षा, शिक्षा की स्वायत्तता, प्रतियोगी परीक्षा, इतिहास शिक्षा, शोध प्रकल्प, और वैदिक गणित पर प्रकाश डाला. विभिन्न आयाम ( भारतीय भाषा मंच, भारतीय भाषा अभियान, स्वास्थ्य और न्यास), कार्य विभाग ( प्रकाशन, प्रचार प्रसार, महिला कार्य विभाग) पर विस्तृत रूप से प्रकाश डाला गया. इस दौरान न्यास के मुख्य उद्देश्यों से भी अवगत कराया गया. बैठक में शामिल अतिथियों का परिचय महेंद्र सिंह द्वारा प्रस्तुत किया गया. वही कार्यक्रम का संचालन डॉ कविता परमार ने किया. कार्यक्रम में कुल 70 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया. इस अवसर पर डॉ रंजीत प्रसाद पालक अधिकारी , डॉ विजय कांत दास, डॉ मनीष झा, डॉ अखोरी गोपाल, डॉ कल्याणी कबीर, मतिमंजू सिंह, डॉ अनिता शर्मा, डॉ सुशील कुमार शुक्ला, डॉ विनिता परमार, डॉ श्वेता, जितेंद्र त्रिपाठी, डॉ अमृत कुमार, चंचल भण्डारी, शिव प्रकाश, डॉ हिमाद्रि शेखर दत्ता, डॉ ब्रज कुमार विश्वकर्मा, दयाल कुमार ईस्वर, डॉ रामकेश पांडे, विजया नंद दास, संजय प्रभाकर, डॉ. जंग बहादुर पांडेय, न्यास के प्रचार प्रमुख डॉ भारद्वाज शुक्ल आदि उपस्थित थे.

WhatsApp Image 2022-04-29 at 12.21.12 PM
WhatsApp-Image-2022-03-29-at-6.49.43-PM-1
Shiv Yog Physiotherapy And Yoga Classes
spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!