Jamshedpur-karim-city-college : करीम सिटी कॉलेज में तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय कांफ्रेंस के दूसरे दिन अनुवाद की आवश्यकता, उद्देश्य तथा विधि-शैली पर हुई चर्चा

Jamshedpur : करीम सिटी कॉलेज के अंग्रेजी विभाग द्वारा आयोजित तीन दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कांफ्रेंस के तीन सत्र हुए. पहले सत्र के मुख्य वक्ता प्रो हरीश नारंग नई दिल्ली थे. उन्होंने जिन्होंने Translating Icebergs: Why I do translate, How do I translate के विषय पर अपना व्याख्यान प्रस्तुत किया. संचालन डॉक्टर बसुंधरा राय ने किया. अगले सत्र में कल्पना सिंह चित्निक (Los Angeles, USA), मोहम्मद असदुद्दीन, नई दिल्ली तथा जयदीप ने अपने व्याख्यान प्रस्तुत किये. इस सत्र में डॉ नेहा तिवारी ने अतिथियों का परिचय कराया तथा पूरे सत्र का संचालन किया. तीनों अतिथियों ने अनुवाद की आवश्यकता, उद्देश्य तथा विधि- शैली पर बात की. उन्होंने बताया कि किसी भी क्षेत्र में अनुवाद का एक उद्देश्य होता है और वही उद्देश्य यह तय करता है कि अनुवाद की विधि या शैली क्या होनी चाहिए. साथ ही यह भी तय करता है कि अनुवाद करना उचित भी है या नहीं.

प्रोफेसर मोहम्मद असदुद्दीन ने अपने वक्तव्य में अनुवाद तथा विश्व साहित्य एवं संस्कृति की बात उठाई. अंतिम काल में 2 तकनीकी सत्र हुए. दोनों सत्रों में अध्यक्षता डॉ एसके सिंह तथा डॉ नासिर खान (गढ़वाल विश्वविद्यालय उत्तराखंड) ने की तथा संचालन डॉ नेहा तिवारी एवं बसुंधरा राय ने किया. दोनों सत्रों में 15-15 पर्चे पढ़े गये. तीनों सत्रों में स्वागत भाषण कॉलेज के प्रोफेसर इंचार्ज मोहम्मद रेयाज ने किया. सभी प्रश्नोत्तर काल को प्रोफेसर साकेत कुमार ने संचालित किया और धन्यवाद ज्ञापन प्रोफेसर एके दास ने किया. गूगल मीट पर होने वाले इस कार्यक्रम में प्रोफेसर नरेश कुमार, प्रोफेसर संजय यादव, प्रोफेसर एस के सिन्हा, अनिसुर रहमान तथा हुमा याकूब के अलावा देश-विदेश के कई विद्वान और कॉलेज के अधिकतर शिक्षक-शिक्षिकाएं शामिल हुए.

[metaslider id=15963 cssclass=””]

WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM
IMG-20200108-WA0007-808x566
WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM (1)
WhatsApp_Image_2020-03-18_at_12.03.14_PM_1024x512
previous arrow
next arrow

Leave a Reply