spot_img
रविवार, अप्रैल 18, 2021
More
    spot_imgspot_img
    spot_img

    Jamshedpur-rural : चाकुलिया गौशाला प्रांगण में राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने किया स्वर्गीय पुरूषोत्तमदास झुनझुनवाला की प्रतिमा का अनावरण, कहा-स्व झुनझुनवाला की मूर्ति लोगों को मार्गदर्शन करने के साथ ही गौ सेवा के प्रति प्रेरित करती रहेगी

    Advertisement
    Advertisement

    चाकुलिया : चाकुलिया के नया बाजार स्थित कोलकात्ता पिंजरा पोल सोसाइटी द्वारा संचालित गौशाला परिसर में समाज सेवी सह गौ सेवक स्व पुरूषोत्तमदास झुनझुनवाला की मूर्ति का अनावरण समारोह आयोजित हुआ. समारोह में बतौर अतिथि राज्य की राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने स्व पुरूषोत्तमदास झुनझुनवाला की मूर्ति का अनावरण किया. समारोह को संबोधित करते हुए राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि स्व पुरूषोत्तमदास झुनझुनवाला उधमी के साथ साथ कुशल समाज सेवी और गौ सेवक थे. उनकी मूर्ति का अनावरण कर खुशी की अनुभूती हो रही है. गौशाला मैं गौ सेवक की मूर्ति अनावरण होने से स्व पुरूषोत्तमदास झुनझुनवाला द्वारा की गयी गौ सेवा यहां के लोगों को प्रेरित करेगी. (नीचे भी पढ़ें)

    Advertisement
    Advertisement

    राज्यपाल ने कहा कि स्व झुनझुनवाला की मूर्ति स्थापित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी गई है परंतु उनकी सही मायने में श्रद्धांजलि तभी होगी जब हम सब गौ संवर्धन के कार्यों में अपनी जिम्मेदारी निभायेंगे. स्व झुनझुनवाला अपना जीवन गौ सेवा कार्य में निछावर किया है. कहा कि उनका जीवन किसी पाठशाला से कम नही है. समाज के युवा उनकी जीवनी का अनुसरण कर उनके बताये मार्ग पर चले और गौ सेवा कार्य करे, गौ सेवा तीर्थ के समान है. स्व झुनझुनवाला ने गौ सेवा की जो लौ जलाये है उसे जलाये रखे. राज्यपाल ने कहा कि चाकुलिया वासी सौभाग्यशाली है कि आप सभी स्व झुनझुनवाला के साथ रहे और उनसे सीख ली. कहा कि गौशाला मैं स्थापित झुनझुनवाला की मूर्ति यहां के लोगों को मार्ग दर्शन करता रहेगा और गौ सेवा के प्रति प्रेरित करता रहेगा. (नीचे भी पढ़ें)

    Advertisement

    राज्यपाल ने अपने संबोधन से लोगों को धरती मां, गौ मां, प्रकृति मां और नदी मां को सुरक्षित करने के लिए प्रेरित किया. कहां कि हमारे जीवन मैं मां का बहत ही महत्वपूर्ण स्थान है. अपनी माता पिता के साथ साथ, नदी, प्रकृति, गौ और धरती मां के प्रति हमारा भी दायित्व और कर्तव्य है कि हम संगठित होकर इनकी सुरक्षा करें.उन्होंने कहा कि गौ सम्पदा की सुरक्षा करना सिर्फ गौशाला का ही दायित्व नही है हम सभी को एक सेवक के रूप में गौ माता को नष्ट होने से बचाना होगा. (नीचे भी पढ़ें)

    Advertisement

    डीआईजी, उपायुक्त, एसएसपी ने राज्यपाल को पौधा भेंट कर स्वागत किया : चाकुलिया गौशाला पहुंचने पर राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू को गौशाला स्थित हैलीपेड पर डीआईजी राजीव रंजन, उपायुक्त सूरज कुमार और एसएसपी ने गुलदस्ता और पौधा देकर स्वागत किया. राज्यपाल के स्वागत के पश्चात पदाधिकारियों ने राज्यपाल को गार्ड अॉफ ऑनर दिया. (नीचे भी पढ़ें)

    Advertisement

    समारोह में राज्यपाल ने स्व झुनझुनवाला की जीवनी पर लिखी पुस्तक का किया विमोचन: समारोह के पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू, विशिष्ठ अतिथि के रूप में उपस्थित केयू के कुलपति गंगाधर पंडा, डीआईजी राजीव रंजन, कोल्हान कमिशनर मनीष रंजन समेत मंच पर उपस्थित अतिथियों ने गौ सेवक स्व पुरूषोत्तमदास झुनझुनवाला की जीवनी पर लिखित पुस्तक का विमोचन किया. इसके पश्चात राज्यपाल ने जिला के सभी पदाधिकारियों को कोरोना काल में बेहतर सेवा कार्य करने के लिए प्रमाण पत्र दिया. अवसर पर सत्यनारायण जेन, अजय झुनझुनवाला, दिपक झुनझुनवाला, गौशाला के अध्यक्ष गिरिधारी गोयनका, सचिव संजय लौधा,बासु लौधा, सुभाष लौधा, नपं उपाध्यक्ष सुमित लौधा,अमित भारतीय,बिनोद धनानिया, विनोद अग्रवाल, ब्रम्हदत्त अग्रवाल, सुशील शर्मा, देवानंद सिंह, मो गुलाब, शतदल महतो,आलोक लौधा, पंकज अग्रवाल समेत अन्य उपस्थित थे. मंच का संचालन प्रभात झुनझुनवाला ने किया. (नीचे भी पढ़ें)

    Advertisement

    हवाई पट्टी स्थित ध्यान फाऊंडेशन सस्था द्वारा संचालित नंदीशाला का राज्यपाल ने किया अवलोकन : कलकत्ता पिंजरापोल सोसाइटी द्वारा संचालित गौशाला परिसर मैं स्व पुरूषोत्तमदास झुनझुनवाला की मूर्ति अनावरण समारोह के पश्चात राज्यपाल हैलीकॉप्टर से चाकुलिया हवाई पट्टी पहुंची. वहां से राज्यपाल बुलेटपुरूफ कार मैं बैठकर ध्यान फाउंडेशन द्वारा संचालित नंदीशाला पहुंचकर नंदीशाला का अवलोकन किया. वहां संस्था की शालिनी मिश्रा, विनीत रुंगटा समेत अन्य ने राज्यपाल को गुलदस्ता देकर स्वागत किया. (नीचे भी पढ़ें)

    Advertisement

    राज्यपाल ने संस्था के लोगों से नंदीशाला की जानकारी ली. सदस्यों ने कहा कि बंगला देश बॉडर पर बीएसएफ द्वारा पकड़े गये बैल को यहां भेजा जाता है. वर्तमान में यहां 8 हजार बैल है. राज्यपाल ने नंदीशाला का पैदल ही भ्रमण कर अवलोकन किया और मजदूरों से संथाली भाषा में बातकर जानकारी ली. राज्यपाल ने संस्था के लोगों से कहा कि स्वस्थ्य बैल को ग्रामीणों के बीच वितरण करे ताकि गांव के छोटे किसान बैल से जमीन जोतकर खेतीबाड़ी कर सके. नंदीशाला का अवलोकन के पश्चात राज्यपाल ने पौधा रोपण किया और बैल का पूजा कर गुड़ खिलाया.

    Advertisement

    Advertisement
    Advertisement

    Leave a Reply

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

    spot_imgspot_img

    Must Read

    Related Articles

    Don`t copy text!