jamshedpur-rural-चाकुलिया के जमुआ गांव में हाथियों का तांडव, दो घरों को तोड़ा, पंचायत भवन की छत पर रात गुजारने को विवश ग्रामीण

राशिफल

चाकुलिया: चाकुलिया प्रखंड की जमुआ पंचायत के जमुआ गांव में बीती रात जंगली हाथियों ने गांव में प्रवेश कर जमकर उत्पात मचाया है. जंगली हाथियों ने गणेश मुंडा और कार्तिक मुंडा के घर को क्षतिग्रस्त कर दिया. हाथियों ने घर की दीवार में दांत से होल कर घर में रखे 10 क्विंटल धान, राशन कार्ड से उठाए चावल और गेहूं को खाया. लगभग चार घंटे तक कार्तिक मुंडा और गणेश मुंडा के परिवार घर में दुबक कर किसी तरह हाथियों से अपनी जान बचाई है. अन्य परिवार हाथियों के भय से ग्रामीणों ने पंचायत मंडप की छत पर चढ़कर रात गुजारी है. सूचना पाकर मंगलवार की सुबह वन विभाग के कर्मचारी पहुंचे और स्थिति का मुआयना किया. ग्रामीणों के मुताबिक गांव के पास के ही साल जंगलों में कई हाथी हैं‌. फुटबॉल मैदान के पास भी कई जंगली हाथी हैं. हाथी दिन भर जंगल में रहते हैं और शाम ढलते ही जंगल से निकलकर गांव में प्रवेश कर उत्पात मचाते है. (नीचे भी पढ़ें व देखें वीडियो)

हाथियों के भय से शाम को ग्रामीणों का घरों से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है. जंगली हाथी कब किसकी जान ले लें कहना मुश्किल है. जंगली हाथियों के कारण जमुआ पंचायत के कई गांव के लोग दहशत में जी रहे हैं. गांव के ग्रामीणों ने कहा कि विगत चार-पांच दिनों से गांव के ग्रामीण हाथियों के भय से सो भी नहीं पाए हैं. गांव के युवा रातभर अलाव जलाकर रात गुजार रहे हैं. वही ग्रामीणों के बीच वन विभाग द्वारा हाथियों को भगाने के लिए सामग्रियों का वितरण नहीं किया गया है जिससे ग्रामीणों में विभाग के प्रति रोष व्याप्त है. गांव के लाल मुंडा, गणेश मुंडा, कृष्णा मुंडा, लाला मुंडा, राजेश मुंडा, जितेन मुंडा, अनिमा मुंडा, पुतुल मुंडा ने बताया कि जमुआ गांव के 300 परिवार विगत कई दिनों से हाथियों के भय के साये नहीं हैं. कहा कि आज भी शाम ढलने के पूर्व गांव के बुजुर्ग, महिला और बच्चे हाथियों से सुरक्षा के लिए पंचायत भवन में शरण लेंगे.

Must Read

Related Articles