spot_imgspot_img

Global Statistics

All countries
262,817,081
Confirmed
Updated on December 1, 2021 1:39 AM
All countries
235,517,695
Recovered
Updated on December 1, 2021 1:39 AM
All countries
5,230,034
Deaths
Updated on December 1, 2021 1:39 AM
spot_img

jamshedpur- rural- चाकुलिया के कदमडीहा गांव में नहीं पहुंची है विकास की किरण, जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा के कारण नहीं बना पुल,हर साल ग्रामीण सिंदरा खाल पर बांस का पुल बनाकर करते हैं आना -जाना, देखें video,और क्या क्या ग्रामीणों ने कही

Advertisement


चाकुलिया: झारखंड सरकार की गांव के विकास करने का दावा आज भी खोखला साबित हो रहा है. राज्य गठन होने के वर्षो बाद भी चाकुलिया का कदमडीहा गांव विकास से कोसों दूर है. वही क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों के उपेक्षा के कारण गांव में 20 परिवार के लोग आज भी टापू नुमा जीवन बसर करने पर मजबूर हैं. गांव के रामचन्द्र हांसदा, कारू हांसदा, अम्पा हांसदा, मुकुंद सोरेन, सुबदा हांसदा ने बताया कि कदमडीहा गांव सिंदरा खाल के उसपार बसा गांव होने के कारण ग्रामीण आज भी अन्य गांव के उपेक्षा विकास से दुर है.(नीचे भी पढ़े)

Advertisement
Advertisement

कहां कि गांव के ग्रामीण खाल पार करने के लिए हर वर्ष श्रमदान कर खाल पर बांस का पुल निर्माण करते हैं और इसी पुल से ग्रामीण गांव आना जाना करते हैं. ग्रामीणों ने कहा कि कई बार ग्रामीण क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों से मिलकर खाल पर पुल निर्माण कराने की मांग की है परंतु अब तक किसी ने भी पहल नहीं किया है जिस कारण आज भी ग्रामीण टापु नुमा जीवन बसर करने पर बाध्य हैं. कहा कि अलग राज्य बनने के बाद भी कदमडीहा गांव का विकास नही हुआ और ना ही गांव में परिवर्तन हुआ है वर्षा से ग्रामीण एक ही तरह से जीवन बसर कर रहे हैं. (नीचे भी पढ़े)

Advertisement

कदमडीहा गांव में अब तक नहीं पहुंचा है कोई सांसद या विधायक
कदमडीहा गांव के ग्रामीणों ने बताया कि राज्य गठन होने के वर्षो बित गये. अबतक कई नेता सांसद बने और कई विधायक बने परंतु अब तक किसी भी सांसद या विधायक का पाव इस गांव में नहीं पड़ा है. कहा कि किसी ने भी कदमडीहा गांव आकर ग्रामीणों की सुधि अब तक नहीं ली है. ग्रामीणों ने कहा कि जनप्रतिनिधियों के उपेक्षा के कारण गांव के ग्रामीण विकास से दूर है और आज भी टापु नुमा जीवन जीने पर विवश है. (नीचे भी पढ़े)

Advertisement

कहा कि गांव से सटे अन्य गांव में कई बार सांसद और विधायक पहुंच चुके हैं परंतु कदमडीहा गांव की और अब तक जनप्रतिनिधियों का ध्यान नहीं आया है. कहां कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत सरकार के निर्देशानुसार स्थानीय पदाधिकारी और पंचायत के जनप्रतिनिधियों द्वारा पंचायत के सभी गांव में शौचालय का निर्माण किया गया है परंतु अब तक इस गांव में एक भी शौचालय का निर्माण नहीं किया गया है आज भी इस गांव के लोग खुले में शौच जाने के लिए बाध्य हैं.
ग्रामीण बीमार पड़ते हैं तो खटिया पर लेटाकर लाते है सड़क तक

Advertisement


कदमडीहा गांव में जाने के लिए सड़क नहीं होने के कारण गांव के ग्रामीण सिंदरा खाल पर बांस का पुल निर्माण कर गांव आना-जाना करते है. गांव के ग्रामीणों ने कहा कि बरसात के दिनों में अगर कोई ग्रामीण बीमार पड़ जाए तो उसे अस्पताल पहुंचाने के लिए ग्रामीण गांव से खाट पर लेटाकर बांस पुल पार करते हैं और सड़क तक पहुंचने के बाद एंबुलेंस या अन्य वाहन पर मरीज को लेकर अस्पताल पहुंचाते हैं. ग्रामीणों ने कहा कि बरसात के दिनों में खाल में पानी भर जाने के कारण ग्रामीणों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है.

Advertisement
Advertisement
WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM
IMG-20200108-WA0007-808x566
WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM (1)
WhatsApp_Image_2020-03-18_at_12.03.14_PM_1024x512
previous arrow
next arrow

Leave a Reply

spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!