spot_imgspot_img
spot_img

Jamshedpur : अंतरराष्ट्रीय मैथिली परिषद के 28वें स्थापना दिवस पर वेब संगोष्ठी आयोजित, अलग मिथिला राज्य के लिए कार्य करने पर बल

जमशेदपुर : अंतरराष्ट्रीय मैथिली परिषद के 28वें स्थापना दिवस के अवसर पर वेब संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी की अध्यक्षता परिषद के केंद्रीय अध्यक्ष प्रो कमल कांत झा, जयनगर ने की। संगोष्ठी में बतौर मुख्य वक्ता परिषद के संस्थापक व राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉक्टर धनाकर ठाकुर, बरेली ने बताया कि इस परिषद की स्थापना 20 जून 1993 ईश्री में रांची के मैकन आडिटोरियम में प्रथम अंतरराष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन में हुई थी। तब इसके स्थापना कार्यक्रम में मैथिली के भारत, नेपाल, अमेरिका के 27 संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने भाग लिया था। आज इस परिषद का विस्तार पूरे भारत और नेपाल तराई क्षेत्र के 7 जिलों में है। अब तक इस संस्था द्वारा 32 अंतरराष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन, सात प्रांतीय सम्मेलन तथा 80 मैथिली कार्यकर्ता प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किए जा चुके हैं। परिषद के केंद्रीय कार्यक्रम एवं विस्तार हेतु 25 सबयूनिट कार्य कर रही है। इनमें मिथिला राज्य संघर्ष समिति, आदर्श मिथिला पार्टी, मैथिली साहित्यकार मंच, मिथिला मुस्लिम मंच, युवा मंच, महिला मंच आदि प्रमुख हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में मैथिली को स्थान दिलाने तथा झारखंड में मैथिली को द्वितीय राजभाषा का स्थान दिलवाने में इस परिषद का योगदान सर्वोपरि रहा है। अब अलग मिथिला राज्य बने, इस दिशा में परिषद सक्रिय रूप से कार्य कर रही है। संगोष्ठी का संचालन अंतरराष्ट्रीय परिषद, जमशेदपुर इकाई के अध्यक्ष डॉ रवीन्द्र कुमार चौधरी ने किया। इस संगोष्ठी में जनकपुर धाम,नेपाल से राजेश्वर साह नेपाली, प्रयागराज से विधुकांत मिश्र, हैदराबाद से बी के कर्ण, भागलपुर से प्रो रामसेवक सिंह, डॉ मयंक वत्स, देवघर से ओम प्रकाश मिश्र, पटना से नरेंद्र कुमार झा, दरभंगा से राजीव कुमार आदि ने भी अपने विचार व्यक्त किए। अंत में शरदिंदु झा,रांची ने धन्यवाद ज्ञापन किया।

WhatsApp Image 2022-04-29 at 12.21.12 PM
WhatsApp-Image-2022-03-29-at-6.49.43-PM-1
Shiv Yog Physiotherapy And Yoga Classes

Leave a Reply

spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!