jamshedpur-womens-college-वीमेंस कॉलेज के एमबीए विभाग में अंतरराष्ट्रीय वेबिनार संपन्न, प्रोफेशरों ने कई मुद्दों पर की चर्चा

राशिफल

जमशेदपुर : जमशेदपुर के बिष्टुपुर स्थित वीमेंस कॉलेज में सोमवार को एमबीए विभाग द्वारा ग्लोबल ट्रेड एण्ड बिजनेस इनवायरमेंट पर अंतरराष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया गया. उदघाटन वक्तव्य देते हुए वेबिनार की प्रधान आयोजक सह प्राचार्या प्रो डॉ शुक्ला महांती ने भारत, संयुक्त राज्य अमेरिका और यूनाइटेड किंगडम से ऑनलाइन जुड़े वक्ताओं का स्वागत किया. उन्होंने कहा कि इस समय दुनिया एक ही तरह के स्वास्थ्य संकट से गुजर रही है. इसके चलते दुनिया भर में व्यापार और व्यवसाय के परिवेश पर दुष्प्रभाव पड़ा है. चूंकि यह ग्लोबल आर्थिक समय है इसलिए स्वाभाविक है कि एक अर्थव्यवस्था से दूसरी अर्थव्यवस्था प्रभावित होगी. इस लिहाज से यह वेबिनार बेहद प्रासंगिक है. दुनिया भर के आर्थिक मामलों के जानकार विशेषज्ञ वक्ता अपने अनुभव और चुनौतियों से निपटने की आर्थिक रणनीतियों पर चर्चा करके एक बेहतर नतीजे की ओर बढ़ेंगे। इसी में वैश्विक मानव समुदाय का हित शामिल है. मुख्य अतिथि के रूप में एआईसीटीई, पूर्वी क्षेत्र, कोलकाता के परियोजना अधिकारी डॉ भूपेंद्र गोस्वामी ने कहा कि प्रबंधन के सभी आयामों में ऑप्टमाईजेशन की जरूरत है.

एक्सएलआरआई के प्रोफेसर पी वेणुगोपाल ने सस्टेनबलिटी, सर्कुलर इकॉनॉमी, इम्प्लॉयमेंट चेंज और धरती के सीमित संसाधनों पर केन्द्रित विचार रखे। वाशिंगटन विश्वविद्यालय, संयुक्त राज्य अमेरिका के प्रोफेसर और डीन डॉ संदीप कृष्णमूर्ति ने कहा कि आज दुनिया भर में डिमांड की संस्कृति बदल रही है. ऐसे में नये डिमांड के अवसर बने हैं तो प्रतिस्पर्धी न होने से अवसरों की चुनौतियां भी बढ़ी हैं। युनिवर्सिटी ऑफ एसेक्स, युनाइटेड किंगडम के प्रोफेसर सुबाराजन थिरूवन ने सोशल अकाउंटिबिलिटी और रिपोर्टिंग प्रैक्टिसेज पर गहन चर्चा की। उन्होंने सेम ओल्ड और न्यू बिगनिंग के ग्लोबल आर्थिक परिदृश्य को स्पष्ट किया। उन्होंने बताया कि आज ग्लोबल रूप आर्थिक जवाबदेही और पारदर्शिता की जरूरत है। पीपुल प्रोडक्ट और हमारा प्लैनेट समावेशी विकास के अनिवार्य पहलू हैं. वेबिनार का संयोजन डा श्वेता प्रसाद और डा पिआली विश्वास ने तथा धन्यवाद ज्ञापन डॉ दीपा शरण ने किया. गूगल मीट के जरिए 236 प्रतिभागियों ने शिरकत की. तकनीकी समन्वयन का कार्य ज्योतिप्रकाश महांती, रोहित कुमार और के प्रभाकर राव ने किया.

[metaslider id=15963 cssclass=””]

Must Read

Related Articles