spot_imgspot_img

Global Statistics

All countries
194,003,002
Confirmed
Updated on July 24, 2021 6:51 AM
All countries
174,381,487
Recovered
Updated on July 24, 2021 6:51 AM
All countries
4,159,421
Deaths
Updated on July 24, 2021 6:51 AM
spot_img

janmashtmi-जन्माष्टमी कब मनायें, जानें, जमशेदपुर में कई जगहों पर कार्यक्रम बंद किये गये, जाने कब और कैसे मनाये जन्माष्टमी

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर : जन्माष्टमी का त्योहार पूरे देश भर में भगवान श्रीकृष्ण के जन्म के उत्सव के रूप में मनाया जाता है. हिन्दू धर्म के अनुसार जन्माष्टमी भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को शुभ मानते हुए इस बार जन्माष्टमी 2020 की तारीख को लेकर कई मत हैं. कुछ लोगो का कहना है कि जन्माष्टमी 11 अगस्त, मंगलवार की है जबकि अन्य बुद्धिजीवियों का मत है कि जन्माष्टमी 12 अगस्त को है. हालांकि, 12 अगस्त को जन्माष्टमी मनाना श्रेष्ठ रहेगा. मथुरा और द्वारका में 12 अगस्त को भगवान कृष्ण का जन्मोत्सव बड़े धूमधाम से मनाया जाएगा, जिसको लेकर अभी तैयारियां शुरू कर दी गई हैं. आचार्य राजेश पाठक की ओर से यह जानकारी दी गयी.
दो दिनों को लेकर उलझन में है लोग
दरअसल ये मत स्मार्त और वैष्णवों के विभिन्न मत होने के कारण तिथियां अलग-अलग बताई जा रही हैं. भक्त दो प्रकार के होते हैं -स्मार्त और वैष्णव. स्मार्त भक्तों में वह भक्त हैं जो गृहस्थ जीवन में रहते हुए जिस प्रकार अन्य देवी-देवताओं का पूजन, व्रत स्मरण करते हैं. उसी प्रकार भगवान श्रीकृष्ण का भी पूजन करते हैं। जबकि वैष्णवों में वो भक्त आते हैं जिन्होंने अपना जीवन भगवान श्रीकृष्ण को अर्पित कर दिया है. वैष्णव श्रीकृष्ण का पूजन भगवद्प्राप्ति के लिए करते हैं. स्मार्त भक्तों का मानना है कि जिस दिन तिथि है उसी दिन जन्माष्टमी मनानी चाहिए. स्मार्तों के मुताबिक अष्टमी 11 अगस्त को है जबकि वैष्णव भक्तों का कहना है कि जिस तिथि से सूर्योंदय होता है पूरा दिन वही तिथि होती है. इस अनुसार अष्टमी तिथि में सूर्योदय 12 अगस्त को होगा. मथुरा वृन्दावन और द्वारका में 12 अगस्त को जन्माष्टमी मनाई जाएगी जबकि उज्जैन, जगन्नाथ पुरी और काशी में 11 अगस्त को कृष्ण जन्माष्टमी का उत्सव मनाया जाएगा.
अष्टमी तिथि आरम्भ – 11 अगस्त 2020, मंगलवार, सुबह 09 बजकर 06 मिनट से
अष्टमी तिथि समाप्त – 12 अगस्त 2020, बुधवार, सुबह 11 बजकर 16 मिनट तक
जन्माष्टमी पूजा का शुभ मुहूर्त
ज्योतिषियों के अनुसार इस साल जन्माष्टमी के दिन कृतिका नक्षत्र लगा रहेगा. साथ ही चंद्रमा मेष राशि मे और सूर्य कर्क राशि में रहेगा. कृतिका नक्षत्र में राशियों की इस ग्रह दशा के कारण वृद्धि योग भी बन रहा है. आचार्यों ने 12 अगस्त यानी वैष्णव जन्माष्टमी के दिन का शुभ समय बताया है. उनके अनुसार बुधवार की रात 12 बजकर 5 मिनट से लेकर 12 बजकर 47 मिनट तक पूजा का शुभ समय है इसलिये 12 अगस्त को ही जन्माष्टमी मनाये.
हिंदुओं के प्रमुख त्‍योहारों में से एक जन्‍माष्‍टमी को बहुत ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है. महीनों पहले से भक्‍त अपने भगवान के जन्‍मोत्‍सव को मनाने की तैयारियां शुरू कर देते हैं. अधर्म का नाश करने और मानवता के कल्‍याण के लिए भगवान विष्‍णु ने कृष्‍ण के रूप में भाद्र मास के कृष्‍ण पक्ष की अष्‍टमी को देवकी की कोख से जन्‍म लिया था. इस उपलक्ष्‍य में भक्‍त उपवास रखकर और मंगल गीत गाकर भगवान कृष्‍ण का लड्डू गोपाल के रूप में जन्‍म करवाते है.
पूजन सामग्री
भगवान कृष्ण की पूजा सामग्री में एक खीरा, एक चौकी, पीला साफ कपड़ा, बाल कृष्ण की मूर्ति, एक सिंहासन, पंचामृत, गंगाजल, दही, शहद, दूध, दीपक, घी, बाती, धूपबत्ती, गोकुलाष्ट चंदन, अक्षत (साबुत चावल), तुलसी का पत्ता, माखन, मिश्री, भोग सामग्री.
श्रृंगार सामग्री
बाल गोपाल के जन्म के बाद उनके श्रृंगार के लिए इत्र, कान्हा के नए पीले वस्त्र, बांसुरी, मोरपंख, गले के लिए वैजयंती माता, सिर के लिए मुकुट, हाथों के लिए कंगन रखें. बाल गोपाल का जन्म रात में 12 बजे के बाद होगा. सबसे पहले आप दूध से उसके बाद दही, फिर घी, फिर शहद से स्नान कराने के बाद गंगाजल से अभिषेक किया जाता है, ऐसा शास्त्रों में वर्णित है. स्नान कराने के बाद पूरे भक्ति भाव के साथ एक शिशु की तरह भगवान के लड्डूगोपाल स्‍वरूव को लगोंटी अवश्‍य पहनाएं. जिन चीजों से बाल गोपाल का स्नान हुआ है, उसे पंचामृत बोला जाता है। पंचामृत को प्रसाद के रूप में बांटा जाता है। फिर भगवान कृष्ण को नए वस्त्र पहनाने चाहिए. भगवान के जन्म के बाद के मंगल गीत भी गाएं. कृष्णजी को आसान पर बैठाकर उनका श्रृंगार करना चाहिए. उनके हाथों में कंगन, गले में वैजयंती माला पहनाएं. फिर उनके सिर पर मोरपंख लगा हुआ मुकुट पहनाएं और उनकी प्यारी बांसुरी उनके पास रख दें। अब उनको चंदन और अक्षत लगाएं और धूप-दीप से पूजा करनी चाहिए। फिर माखन मिश्री के साथ अन्य भोग की सामग्री अर्पण करें। ध्यान रहे, भोग में तुलसी का पत्ता जरूर होना चाहिए। भगवान को झूले पर बिठाकर झुला झुलाएं और नंद के आनंद भयो जय कन्हैया लाल की गाएं। साथ ही रातभर भगवान की पूजा करनी चाहिए.
छोटा गोविंदपुर मटकी फोड़ कार्यक्रम नहीं करने का फैसला
छोटा गोविंदपुर कृष्णा बॉयज कमेटी द्वारा प्रतिवर्ष आयोजित होने वाले मटकी फोड़ कार्यक्रम को इस बार कमेटी के सदस्यों आयोजित नहीं करने का फैसला लिया गया. भूमि पूजन के शुभ अवसर पर समिति के संरक्षक बंटी सिंह ने बताया कि करोना महामारी को देखते हुए समिति ने इस प्रकार का फैसला लिया है कृष्ण जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर कृष्णा बॉयज कमेटी कई सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन विगत 13 वर्षों से कर रही है लेकिन इस वर्ष करोना महामारी को देखते हुए किसी भी प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन समिति नहीं करेगी लेकिन केवल धार्मिक कार्य का निर्वहन करते हुए समिति भगवान श्री कृष्ण की पूजा अर्चना दिनांक 11 /8/ 2020 दिन मंगलवार रात्रि 12:00 बजे से किया जाएगा जिसमें केवल सीमित की कुछ सदस्य ही भाग ले पाएंगे सोशल डिस्टेंस और सरकार द्वारा बनाए गए गाइडलाइन का पालन पूरी तरह से किया जाएगा.

Advertisement
Advertisement
[metaslider id=15963 cssclass=””]

Advertisement
Advertisement
WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM
IMG-20200108-WA0007-808x566
WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM (1)
WhatsApp_Image_2020-03-18_at_12.03.14_PM_1024x512
previous arrow
next arrow

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!