jharkhand-big-announcement-झारखंड सरकार करेगी किसानों का कर्ज माफ, 7900 करोड़ की कर्ज माफी का प्रस्ताव कृषि मंत्रालय ने सीएम को भेजा, कृषि मंत्री ने की पुष्टि, बीडीओ की हत्या मामले में कहा-video

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर : झारखंड सरकार जल्द ही किसानों का कर्ज माफ करेगी. कांग्रेस के घोषणा पत्र को धरातल पर उतारने के लिए सरकार के स्तर पर बातचीत शुरू हो चुकी है. राज्य के कृषि मंत्रालय ने 7900 करोड़ रुपये किसानों का कर्ज माफी का प्रस्ताव बनाकर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को सौंप दी है. कर्ज माफी के लिए जल्द ही फैसला ले लिया जायेगा. यह बातें राज्य के कृषि मंत्री और कांग्रेस विधायक बादल पत्रलेख ने कहीं. श्री बादल पत्रलेख जमशेदपुर के सर्किट हाऊस में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे.

Advertisement
Advertisement

उन्होंने कहा कि इस वित्तीय वर्ष में ही सरकार चाहती है कि किसानों का कर्ज माफ कर दिया जाये. सचिव के स्तर पर बनायी गयी कमेटी द्वारा इसकी अनुशंसा कर दी गयी है और अभी सारे पहलुओं को देखने के बाद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन इस पर फैसला लेंगे. श्री पत्रलेख ने बताया कि इस मद में कृषि और गैर कृषि संवर्ग के कर्ज है. उन्होंने बताया कि झारखंड में जब नयी सरकार बनी तो विरासत में खजाना खाली मिला. राजस्व की प्राप्ति कम होने के कारण ऐसी स्थिति उत्पन्न हुई. चुनावी वर्ष में पूर्ववर्ती रघुवर दास की सरकार ने लोकलुभावना परियोजना लाकर धरातल पर उतारकर पैसे का खर्च बेहिसाब किया. इससे सीधे तौर पर राजस्व पर असर पड़ा. वर्तमान में हालात यह है कि खजाना खाली है. लेकिन चूंकि कांग्रेस ने यह वादा चुनाव में किया था कि किसानों की कर्ज माफी की जायेगी और कांग्रेस की हर सरकार ने ऐसा किया है, इस कारण हम लोग इस योजना को धरातल पर उतारना चाहते है.

Advertisement
Advertisement

केंद्र सरकार सहयोग नहीं कर रही है, विशेष पैकेज दें सरकार
मंत्री बादल पत्रलेख ने बताया कि राज्य सरकार के स्तर पर केंद्र सरकार से कोरोना वायरस और मौजूदा हालात को देखते हुए विशेष पैकेज देने की मांग की है, लेकिन केंद्र सरकार कई बार के वीडियो कांफ्रेंसिंग के बावजूद विशेष पैकेज सरकार की ओर से नहीं दी गयी है. जीएसटी में झारखंड को काफी नुकसान हो रहा है जबकि बिहार को इससे लाभ हुआ है. झारखंड चूंकि प्रोडक्टिव स्टेट है, इस कारण जीएसटी में काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है. जीएसटी के बकाये पैसे की भी मांग की गयी है, लेकिन अब तक किसी तरह का कोई कदम नहीं उठाया गया है. हम लोग इंतजार कर रहे है कि केंद्र सरकार को विशेष पैकेज झारखंड के लिए दें.

Advertisement

मंत्री बादल पत्रलेख ने बीडीओ की मौत को गंभीरता से लिया, कहा-बीडीओ की मौत से जनता दुखी है
मंत्री बादल पत्रलेख ने कहा कि बीडीओ नागेंद्र तिवारी की मौत से सरकारी विभाग के मंत्री से लेकर हर कोई मर्मात है तो देवघर की जनता ही दुखी है. उन्होंने कहा कि इस मामले की उच्चस्तरीय जांच की जायेगी. जो भी दोषी होंगे, उन सारे दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी. इसको लेकर सीबीआइ जीांच होगी या नहीं, यह अभी नहीं कहा जा सकता है. उन्होंने कहा कि बीडीओ नागेंद्र तिवारी ईमानदार थे और उनकी मौत से आम जनता दुखी है क्योंकि आम जनता उनसे कभी भी मिल सकती थी और उनकी समस्याओं का निराकरण बीडीओ करते थे.

Advertisement

जमशेदपुर में कांग्रेसियों ने की मंत्री से मुलाकात
पूर्वी सिंहभूम जिला युवा कांग्रेस कमेटी का प्रतिनिधिमंडल कृषि मंत्री बादल पत्रलेख जमशेदपुर आगमन पर मृत बीडीओ स्व. नागेन्द्र तिवारी के परिवार से मानगो उनके आवास पर जाकर मुलाकात की. परिजनों से मिलकर संवेदना प्रकट करते हुए कहा कि इस दुख की घड़ी में परिजनों के साथ सरकार खड़ी है साथ ही परिवार द्वारा मौत की न्यायिक जांच की मांग पर आश्वासन दिया गया. इसके बाद युवा कांग्रेस के प्रदेश महासचिव डॉ परितोष सिंह के नेतृत्व में जमशेदपुर के बिष्टुपुर स्थित सर्किट हाउस में मुलाकात कर पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया गया. साथ ही युवा कांग्रेस संगठन को लेकर चर्चा की गई. मंत्री द्वारा क्षेत्र की समस्याओं पर लगातार नजर रखते हुए उसके समाधान के लिए उचित दिशा-निर्देश दिए गए. र्यक्रम में मुख्य रूप से अशोक चौधरी, प्रदेश महासचिव डॉ परितोष सिंह, जिला अध्यक्ष संजीव रंजन, अमित कुमार, बिजेंद्र साहु, पवन तिवारी, गोपाल यादव, प्रशांत चौधरी सहित कई लोग शामिल हुए.

Advertisement

मंत्री बादल पत्रलेख का युवा कांग्रेस नेता राकेश साहू ने किया स्वागत
मंगलवार को बिस्टुपुर सर्किट हाउस में कृषि मंत्री बादल पत्रलेख से युवा कांग्रेस के प्रदेश सचिव राकेश साहू मिले और पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया. मालूम हो कि कृषि मंत्री बादल पत्रलेख बीडीओ स्वर्गीय नागेन्द्र तिवारी के परिवार से मिलने जमशेदपुर आये हुए थे. मंत्री ने मानगो स्थित बीडीओ के आवास पर जाकर परिजनों से मिलकर संवेदना प्रकट की और कहा कि इस दुख की घड़ी में परिजनों के साथ सरकार खड़ी है. साथ ही परिवार द्वारा मौत की न्यायिक जांच की मांग पर आशवासन दिया.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement