spot_img
गुरूवार, जून 17, 2021
spot_imgspot_img
spot_img

jharkhand-cm-governor-flag-hoisting-राजधानी रांची में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने किया झंडोतोलन, निजी कंपनियों की नौकरियों में स्थानीय को मिलेगा 75 फीसदी आरक्षण, नये सिरे से परिभाषित होगी स्थानीयता, की नयी घोषणाएं, उपराजधानी दुमका में राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने फहराया तिरंगा

Advertisement
Advertisement

अभिभाषण की अन्य महत्वपूर्ण बातें

Advertisement
Advertisement
  • * राज्य में सड़कों जाल जाल बिछाने के लिए 3384 करोड़ रुपए का बजट में प्रावधान किया गया है. इससे 900 किमी पथ एवं 25 पुल निर्माण का कार्य होगा.
  • * राज्य की सरकारी नियुक्तियों में अन्य पिछड़ी जाति, अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के आरक्षण में भागीदारी बढ़ाने के लिए एक उच्चस्तरीय समिति का गठन किया जाएगा.
  • * विभिन्न विभागों में अनुबंध कर्मियों की समस्याओं के निराकरण के लिए उच्चस्तरीय समिति का गठन किया जाएगा.
  • * झारखंडवासियों की भावनाओं के अनुरुपप स्थानीयता को पुनः परिभाषित करने के उदेश्य से एक समिति का गठन किया जाएगा .
  • * निजी क्षेत्र की नौकरियों में भी स्थानीय लोगों के लिए कम से कम 75 प्रतिशत पद आऱक्षित करने हेतु नियम बनाने का काम सरकार कर रही है.
  • * महिलाओं तथा अवयस्कों के विरुद्ध होनेवाले यौन उत्पीड़न एवं अन्य अपराधों पर त्वरित निर्णय हेतु 22 फास्ट ट्रैक कोर्ट के गठन का निर्णय लिया गया है.

रांची : 74वें स्वतंत्रता दिवस पर झारखंड की राजधानी रांची के मोरहाबादी मैदान में आयोजित मुख्य राजकीय समारोह में मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने झंडोतोलन किया. इस मौके पर मुख्यमंत्री ने परेड का निरीक्षण किया और राज्यवासियों को संबोधित किया. मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में देश के स्वाधीनता आंदोलन में वीर-शहीदों को नमन करते हुए राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं से जनता को अवगत कराया. उन्होंने कहा कि राज्य के विकास और लोगों की सुख समृद्धि के लिए सरकार कृत संकल्प है. भारतीय पुलिस सेवा के परीक्ष्यमान अधिकारी और वर्तमान में हटिया (रांची) के सहायक पुलिस अधीक्षक विनीत कुमार के नेतृत्व में 13 प्लाटूनों की भागीदारी इस समारोह में रही. इनमें सीआरपीएफ, आईटीबीपी, एसएसबी, सीआईएसएफ, झारखंड जगुआर, जैप-1, जैप-2, जैप-10, रांची जिला पुलिस (डीएपी), रांची पुलिस (महिला), झारखंड गृहरक्षा वाहिनी, भारत स्काउंट एंड गाइड (ब्वॉयज) और भारत स्काउट एंड गाइड (गर्ल्स) शामिल थी. इसके अलावा जैप-1, जैप-10 और झारखंड गृह रक्षा वाहिनी की बैंड टीम की भागीदारी स्वतंत्रता दिवस पर आयोजित मुख्य राजकीय समारोह में रही. मुख्यमंत्री ने इस मौके पर कोरोना महामारी के विरुद्ध संघर्ष में अग्रणी भूमिका निभाने वाले चिकित्सकों, स्वास्थ्य कर्मियों, पुलिसकर्मियों और स्वच्छता कर्मियों की हौसला अफजाई करते हुए सम्मानित किया. सम्मानित होने वाले कोरोना योद्धाओं में डॉ अखिलेश झा (चिकित्सा पदाधिकारी ), शमा परवीन ( सी एच ओ), उमा काबरा (प्रयोगशाला प्रावैधिक), तारा तिर्की (ए एन एम), समणी नाग (स्वास्थ्य सहिया), अशोक राणा ( 108 एंबुलेंस संचालन), सुकेर टोप्पो ( सहायक अवर निरीक्षक), दिलीप प्रसाद ( आरक्षी), श्रीमती परवीन अख्तर (आंगनबाड़ी सेविका) और पारस राम (सफाई कर्मी) शामिल है. इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री सुखदेव सिंह, पुलिस महानिदेशक श्री एमवी राव, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री राजीव अरुण एक्का, वरीय प्रशासनिक व पुलिस अधिकारी, टाना भगत व अन्य उपस्थित थे.

Advertisement

मुख्यमंत्री का संबोधन
सांस्कृतिक धरोहर, वन संपदा और समृद्धि को प्रतिबिम्बित करता है नया प्रतीक चिन्ह

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड को नया प्रतीक चिन्ह मिला है. यह प्रतीक चिन्ह यहां की सांस्कृतिक धरोहर, वन संपदा और समृद्धि को सही रुप में प्रतिबिम्बित करता है. मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत समेत पूरा विश्व कोरोना महामारी की चपेट में है. यह मानव जीवन के लिए चुनौती बन गया है. इस महामारी ने हमारे सामाजिक-आर्थिक ताने-बाने को काफी नुकसान पहुंचाया है, परन्तु हमें इससे घबराना नहीं है. संकट की इस घड़ी में हम सभी को मिल-जुलकर लड़ना होगा और कोरोना वायरस के विरुद्ध इस संघर्ष में निश्चित रुप से विजयी होंगे. उन्होंने यह भी कहा कि इस महामारी से लड़ने और प्रत्येक नागरिक के स्वास्थ्य सुरक्षा को लेकर सरकार कृत संकल्पित है. कोरोना वायरस के विरुद्ध संघर्ष में अग्रणी भूमिका निभा रहे चिकित्सकों, स्वास्थ्यकर्मियों, पुलिसकर्मियों और स्वच्छताकर्मियों समेत अन्य कोरोना योद्धाओं के जज्बे को सलाम करता हूं.

Advertisement

लॉकडाउन में सरकार ने उठाए कई कदम
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी ने हमारे सामने कई चुनौतियां पेश की. देशव्यापी लॉक डाउन के कारण राज्य के बाहर फंसे झारखंड के श्रमिकों के लिए रहने और खाने की व्यवस्था समेत उनकी अन्य समस्याओं के समाधान करना सरकार के लिए सबसे बड़ी चुनौती थी. पर, हमारी सरकार ने समय से राहत पहुंचाने का काम किया और यही वजह है कि हमारे राज्य में भूख से किसी की मौत नहीं हुई है. उन्होंने यह भी कहा राज्य के लगभग पांच लाख से अधिक प्रवासी श्रमिक दूसरे राज्यों में लॉकडाउन की वजह से फंस गए थे. रेल मंत्रालय से समन्वय स्थापित कर लगभग प्रवासी श्रमिकों को विशेष ट्रेनों के जरिए झारखंड वापस लाया गया. इसके अलावा अंडमान निकोबार और लेह-लद्दाख में फंसे श्रमिकों को एयरलिफ्ट कर वापस लाया गया. यह श्रमिकों के प्रति सरकार की संवेदनशीलता और उनकी सकुशल वापसी के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को दिखाता है.

Advertisement

प्रवासी श्रमिकों को रोजगार से जोड़ने के लिए योजनाओं की शुरूआत
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी से उत्पन्न परिस्थितियों के बीच प्रवासी श्रमिकों को रोजगार से जोड़ने के लिए सरकार ने मनरेगा एवं अन्य योजनाओं के तहत तीन महत्वपूर्ण योजनाओं को शुरू किया है. इसमें बिरसा हरित ग्राम योजना के तहत फिलहाल 27 हजार एकड़ भूमि पर बागवानी का कार्य किया जा रहा है. वहीं, नीलांबर-पीतांबर जल समृद्धि योजना के तहत राज्य में वर्तमान में कुल 11, 898 योजनाओं को पूर्ण कर लिया गया है और कुल 83, 385 योजनाओं पर कार्य जारी है. वीर शहीद पोटो हो खेल विकास योजना के तहत 1224 योजनाओं पर कार्य किया जा रहा है. मुख्यमंत्री ने बताया कि अबतक 344.62 लाख मानव दिवस सृजित किए जा चुके हैं. मनरेगा में समसय मजदूर भुगतान में झारखंड राज्य पूरे देश में पहले स्थान पर है. मुख्यमंत्री ने यह भी बताया कि लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों के बैंक खातों में डीबीटी के माध्यम से लगभग 25 करोड़ रुपये की सहायता राशि का हस्तांतरण भी किया गया.

Advertisement

मुख्यमंत्री मानव सेवा योजना के तहत सहायता
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संकट को देखते हुए गरीबों को उस क्षेत्र के विधायक की अनुशंसा पर एक हजार रुपए तथा राज्य के बाहर फंसे प्रवासी श्रमिकों को दो हजार रुपए की राशि हस्तांतरित करने हेतु राज्य के सभी विधायकों को अधिकतम 25 लाख रुपए व्यय करने का अधिकार मुख्यमंत्री मानव सेवा योजना के अंतर्गत दिया गया. श्री सोरेन ने यह भी बताया कि वित्तीय वर्ष 2020-21 में मनरेगा के तहत पूरे राज्य में दस करोड़ मानव दिवस सृजित करने के लिए 3578 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है.

Advertisement

शहीद निर्मल महतो श्रमिक महासंघ संस्था के गठन का निर्णय
मुख्यमंत्री ने कहा कि श्रमिकों को सुरक्षित और सतत रोजगार उपलब्ध कराने के साथ उन्हें व उनके परिजनों के कल्याण के लिए शहीद निर्मल महतो श्रमिक महासंघ के गठन करने का निर्णय लिया है. इसके साथ शहरी क्षेत्रों में रोजगार उपलब्ध कराने के लिए शहरी रोजगार गारंटी योजना शुरू की जा रही है. इसके तहत इच्छुक परिवार को वर्षभर में सौ दिनों के रोजगार की गारंटी दी गई है. काम नहीं देने की स्थिति में बेरोजगारी भत्ता दिया जाएगा.

Advertisement

मेडिकल कॉलेजों के नाम में परिवर्तन
मुख्यमंत्री इस मौके पर पलामू मेडिकल कॉलेज का नाम मेदिनीराय मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल, हजारीबाग मेडिकल कॉलेज का नाम शेख भिखारी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल तथा दुमका मेडिकल कॉलेज का नाम फुलो-झानो मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के अलावा पाटलिपुत्रा मेडिकल कॉलेज का नाम शहीद निर्मल महतो मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल करने की घोषणा की.

Advertisement

सोबरन मांझी आदर्श विद्यालय के रुप में विकसित होंगे पांच हजार स्कूल
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के पांच हजार विद्यालयों को शिक्षक-छात्र अनुपात, प्रशिक्षक सहित खेल का मैदान, पुस्तकालय आदि सुविधाओं से युक्त करते हुए सोबरन मांझी आदर्श विद्यालय के रुप में विकसित करने का सरकार ने निर्णय लिया है. उन्होंने यह भी कहा कि हो, कुडुख और मुंडारी भाषा को 8वीं अनुसूची में शामिल कराने लिए सरकार प्रयासरत है.

Advertisement

खिलाड़ियों को नौकरियों में आरक्षण देने के लिए खेल नीति में प्रावधान
मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार जल्द ही खेल नीति लागू करने जा रही है. इसका मकसद खेल और खिलाड़ियों के विकास पर फोकस करना है. इसके अलावा नई खेल नीति में राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय स्तर पर पदक विजेता खिलाड़ियों को नौकरियों में आरक्षण देने का भी प्रावधान किया जा रहा है.

Advertisement

शुरू की जा रही है मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना
मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड के ग्रामीण इलाकों में रह रहे लोगों के पास उपलब्ध बकरी, मुर्गी और सूकर पालन उनके लिए एटीएम की तरह है. इसके अलावा किसानों को आय का एक सशक्त स्रोत उपलब्ध कराने के लिए मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना शुरू की जा रही है.

Advertisement

सिद्धो-कान्हो कृषि एवं वनोत्पाद सहकारी महासंघ के गठन का निर्णय
मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड के वनों में लाह, साल, शहद, इमली, तसर सिल्क, महुआ आदि जैसे अनेक उत्पाद बहुतायत में मिलते हैं. इनके उचित संग्रहण एवं विपणन की व्यवस्था के लिए सिद्धो-कान्हो कृषि एवं वनोत्पाद सहकारी महासंघ के गठन का निर्णय लिया है. इसके तहत पंचायत स्तर पर प्राथमिक सहकारिता समिति का गठन किया जाएगा. इन प्राथमिक समितियों के माध्यम से कृषि उपकरण बैंक का भी संचालन किया जाएगा.

Advertisement
दुमका में राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू राष्ट्रीय ध्वज को सलामी देती हुई.

राज्यपाल ने दुमका में किया झंडोतोलन
झारखंड की राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने राज्य की उपराजधानी दुमका में झंडोतोलन किया. इस मौके पर उन्होंने यहां गारद की सलामी ली और राष्ट्रीय ध्वज को फहराया. इस मौके पर उन्होंने यहां कोरोना वारियर्स को सम्मानित भी किया और पुलिस के जवानों के योगदान की सराहना भी की.

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

spot_imgspot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!