jharkhand-jamshedpur-proud-झारखंड का बढ़ा गौरव, जमशेदपुर और सरायकेला की छुटनी महतो को पद्मश्री अवार्ड देने का ऐलान, पद्म के तीनों श्रेणियों का ऐलान, देखें सूची, किसको मिलेगा पद्म विभूषण, पद्मभूषण और पद्मश्री अवार्ड, क्या है जमशेदपुर-सरायकेला-खरसावां जिले की ”डायन” की कहानी, क्यों दिया गया इस जमशेदपुर-सरायकेला से जुड़ी महिला को पद्मश्री अवार्ड

Advertisement
Advertisement
छुटनी महतो की फाइल तस्वीर.

जमशेदपुर: झारखंड के लिए एक बार फिर से गर्व की बात सामने आयी है. केंद्र सरकार ने पद्म पुरस्कारों का ऐलान सोमवार को कर दिया. इसके तहत जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे और दिवंगत गायक एसपी बालासुब्रमण्यम को पद्म पुरस्कार से सम्मानित करने का ऐलान किया है. शिंजो आबे, मौलाना वहीदुद्दीन खान, बीबी लाल, सुदर्शन पटनायक पद्मभूषण पाने वालों की सूची में शामिल है. असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई, पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान जबकि पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन को पद्मभूषण से सम्मानित किया गया है. इनको मरणोपरांत यह अवार्ड दिया जा रहा है. देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों में शामिल पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्मश्री अवारर्डों की सूची जारी की गयी है. आम तौर पर हर साल मार्च या अप्रैल में यह अवार्ड दिया जाता है. कुल 141 नाम घोषित किया गया है, जिसके तहत 7 नाम पद्मविभूषण के लिए है, 10 पद्मभूषण और 118 पद्मश्री अवार्ड के लिए दिया गया है. इसमें 33 महिलाएं और 18 विदेशी लोग शामिल है, जिसमें जमशेदपुर और सरायकेला-खरसावां जिले में डायन प्रथा के खिलाफ काम करने वाली महिला छुटनी महतो (छुटनी देवी) को पद्मश्री देने का ऐलान किया गया है. छुटनी महतो सरायकेला-खरसावां जिले के गम्हरिया के पास बीरबांस इलाके में छुटनी महतो डायन प्रथा के खिलाफ आंदोलन चलाती है. उनको भी लोग डायन कहकर ही कभी पुकारता था, लेकिन डायन प्रथा के खिलाफ आंदोलन चलाने वाले समाजसेवी प्रेमचंद जी ने छुटनी महतो का पुर्नवास कराया और फ्री लीगल एड कमेटी (फ्लैक) के बैनर तले काम करना शुरू किया और अब भारत सरकार ने उनको पद्मश्री का अवार्ड देने का ऐलान कर दिया है. छुटनी महतो अभी 62 साल की है.
कौन है छुटनी महतो उर्फ छुटनी देवी

छुटनी महतो उर्फ छुटनी देवी झारखंड के सरायकेला-खरसावां जिले के गम्हरिया के बीरबांस इलाके की रहने वाली है. वह गम्हरिया थाना के महतांडडीह इलाके में ब्याही गयी थी. वह जब 12 साल की थी, तब उसकी शादी धनंजय महतो से हुई थी. उसके बाद उसके तीन बच्चे हो गये. दो सितंबर 1995 को उसके पड़ोसी भोजहरी की बेटी बीमार हो गयी थी. लोगों को शक हुआ कि छुटनी ने ही कोई टोना टोटका कर दिया है. इसके बाद गांव में पंचायत हुई, उसको डायन करार दिया गया और लोगों ने घर में घुसकर उसके साथ बलात्कार करने की कोशिश की. छुटनी महतो सुंदर थी, जो अभिशाप बन गया था. अगले दिन फिर पंचायत हुई, पांच सितंबर तक कुछ ना कुछ गांव में होता रहा. पंचायत ने 500 रुपये का जुर्माना लगा दिया. उस वक्त किसी तरह जुगाड़ कर उसने 500 रुपये जुर्माना भरा. लेकिन इसके बावजूद कुछ ठीक नहीं हुआ. इसके बाद गांववालों ने ओझा-गुनी को बुलाया. छुटनी महतो को ओझा-गुनी ने शौच पिलाने की कोशिश की. मानव मल पीने से यह कहा जा रहा था कि डायन का प्रकोप उतर जाता. उसने मना कर दिया तो उसको पकड़ लिया गया और उसको मैला पिलाने की कोशिश शुरू की और नहीं पी तो उसके ऊपर मैला फेंक दिाय गया. वह डायन अब करार दी गयी थी. चार बच्चों के साथ उसको गांव से निकाल दिया गया था. उसने पेड़ के नीचे अपनी रात काटी. वह विधायक चंपई सोरेन के पास गयी. वहां भी कोई मदद नहीं मिला, जिसके बाद उसने थाना में रिपोर्ट दर्ज करा दी. कुछ लोग गिरफ्तार हुए और फिर छुट गये, जिसके बाद और नरक जिंदगी हो गयी. फिर वह ससुराल को छोटकर मायके आ गयी. मायके में भी लोग डायन कहकर संबोधित करने लगे और घर का दरवाजा बंद करने लगे. भाईयों ने बाद में साथ दिया. पति भी आये, कुछ पैसे की मदद पहुंचायी, भाईयों ने जमीन दे दी, पैसे दे दिये और मायके में ही रहने लगी. पांच साल तक वह इसी तरह रही और ठान ली कि वह डायन प्रथा के खिलाफ अब लड़ेंगी. 1995 में उसके लिए कोई खड़ा नहीं हुआ था, उसकी सुंदरता के कारण लोग उसको हवस का शिकार बनाना चाहते थे. लेकिन उसने किसी तरह फ्लैक के साथ काम करना शुरू किया और फिर उसको कामयाबी मिली और कई महिलाओं को डायन प्रथा से बचाया. अब तो वह रोल मॉडल बन चुकी है. छुटनी ने इस कुप्रथा के खिलाफ ना केवल अपने परिवार के खिलाफ जंग लड़ा बल्कि 200 से भी अधिक झारखंड, बंगाल, बिहार और ओडिशा की डायन प्रताड़ित महिलाओं को इंसाफ दिला कर उनका पुनर्वासन भी कराया. ऐसी बात नहीं है, कि छुटनी को इसके लिए संघर्ष नहीं करने पड़े. लेकिन छुटनी तो छुटनी थी. धुन की पक्की छुटने कभी खुद को असहज महसूस होते नहीं देखना चाहती थी. जिसने जब जहां बुलाया छुटनी पहुंच गई और अकेले इंसाफ की लड़ाई में कूद गई. उसके इसी जज्बे को देखते हुए सरायकेला- खरसावां जिले के तत्कालीन उपायुक्त छवि रंजन ने डायन प्रताड़ित महिलाओं को देवी कह कर पुकारने का ऐलान किया था. हालांकि चुटनी को सरकारी उपेक्षाओं का दंश झेलना पड़ा. आज भी छुटनी वीरबांस में डायन रिहैबिलिटेशन सेंटर चलाती है, लेकिन सरकारी मदद ना के बराबर उसे मिलती है. देर सबेर ही सही भारत सरकार की ओर से छुटनी को इस सम्मान से नवाजा गया जो वाकई छुटनी के लिए गौरव का क्षण कहा जा सकता है. इस संबंध में हमने छुटनी से बात किया तो छुटनी ने बस इतना ही कहा, इस कुप्रथा के खिलाफ अंतिम सांस तक मेरी जंग जारी रहेगी. भारत सरकार ने मुझे इस योग्य समझा, यह मेरे लिए सौभाग्य की बात है, लेकिन इस कुप्रथा को जड़ से मिटाने के लिए जमीनी स्तर पर सख्त कानून बनाने और उसके अनुपालन की मुकम्मल व्यवस्था होनी चाहिए. स्थानीय प्रशासन को भी ऐसे मामले में गंभीरता दिखानी चाहिए. भारत सरकार के प्रति आभार.

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Must Read

Horoscope : आज का राशिफल, शुक्रवार, 26 फरवरी 2021 : जानें आज कैसा रहेगा आपका दिन

मेष : ख़याली पुलाव पकाने में वक़्त ज़ाया न करें। सार्थक कामों में लगाने के लिए अपनी ऊर्जा बचाकर रखें। तंग आर्थिक हालात के...

Adityapur-RIT : लगातार दूसरे दिन मार्ग संख्या सात में मारपीट, थाना में हंगामा

आदित्यपुर : सरायकेला-खरसावां जिले के आरआईटी थाना अंतर्गत मार्ग संख्या सात में लगातार दूसरे दिन दो गुटों में में हिंसक झड़प हुई है. बताया...

Related Articles

Jamshedpur : मरीन ड्राइव टॉल ब्रिज से व्यक्ति खरकई नदी में कूदा

जमशेदपुर : कदमा थाना अंतर्गत मरीन ड्राइव स्थित टॉल ब्रिज से एक व्यक्ति खरकई नदी में कूद गया. स्थानीय कुछ युवकों ने उसे बचाने...

Jamshedpur : सूर्य धाम में श्रीश्री राम मंदिर की प्रथम वर्षगांठ पर 27 से होगा रामायण पाठ, सूर्य मंदिर समिति की बैठक में लिया...

जमशेदपुर : गुरुवार को सूर्य मंदिर समिति की एक बैठक हुई। समिति के संरक्षक एवं पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास की उपस्थिति में सम्पन्न इस...

Jamshedpur : सम्पूर्ण भोजपुरी विकास मंच ने टाटा से बक्सर एवं टाटा-छपरा को गोरखपुर तक सीधी रेल सेवा की मांग की, सांसद विद्युतवरण महतो...

जमशेदपुर : सम्पूर्ण भोजपुरी विकास मंच के महामंत्री प्रदीप सिंह भोजपुरिया ने देश के रेलमंत्री से टाटा - बक्सर एवं टाटा-छपरा एक्सप्रेस को गोरखपुर...

Jamshedpur : जेएन टाटा की जयंती पर रेड क्रॉस का नेत्र शिविर 27 से, रक्तदान शिविर 8 मार्च को

जमशेदपुर : प्रत्येक वर्ष की भांति फरवरी माह के अंतिम तथा मार्च माह के प्रथम नेत्र शिविर तथा रक्तदान शिविर का आयोजन टाटा समूह...

Jamshedpur : रेड क्रॉस के मानद सचिव विजय कुमार सिंह के ह्रदय का हुआ ऑपरेशन

जमशेदपुर : टाटा मेन हॉस्पिटल में आज गुरुवार को रेड क्रॉस सोसाइटी, पूर्वी सिंहभूम के मानद सचिव विजय कुमार सिंह के ह्रदय का ऑपरेशन...

Jamshedpur-rural-accident : पोटका में तेज़ रफ्तार बाइक हुई अनियंत्रित, दुर्घटना में दो छात्रों की मौत

जमशेदपुर : जमशेदपुर के पोटका थाना अंतर्गत कलिकापुर के पास एक तेज़ रफ्तार बाइक अनियंत्रित होकर सड़क में गिर गई. इस घटना में दो...

Jharkhand-Cabinet-meeting : झारखंड कैबिनेट की बैठक में लिए गए कई महत्वपूर्ण निर्णय, जमशेदपुर महिला विश्वविद्यालय में कुलपति समेत अन्य अधिकारियों के पद सृजन की...

रांची : रांची में गुरुवार को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में झारखंड कैबिनेट की बैठक हुई. बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिये गये....

Jharkhand : मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने झारखंड राज्य सजा पुनरीक्षण पर्षद की अनुशंसा को दी मंजूरी, 26 कैदियों को रिहा करने की स्वीकृति

रांची : मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन की अध्यक्षता में गुरुवार को झारखंड मंत्रालय में राज्य सजा पुनरीक्षण पर्षद की बैठक हुई। यह बैठक राज्य सजा...

Jamshedpur : असहयोग आंदोलन भूल गई है केंद्र सरकार, झारखंड में ननकाना साहिब शताब्दी समारोह मनाएंगे : सरदार इंद्रजीत सिंह

जमशेदपुर : तखत श्री हरिमंदिर साहिब प्रबंधन कमेटी पटना के उपाध्यक्ष सरदार इंद्रजीत सिंह ने कहा कि केंद्र सरकार देश के आजादी आंदोलन खासकर...

Jamshedpur : अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा पूर्वी सिंहभूम के अध्यक्ष बने रविकान्त पाण्डेय

जमशेदपुर : अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा झारखण्ड प्रदेश के अध्यक्ष कमलेश पाठक ने राष्ट्रीय अध्यक्ष यूपी रत्न से सम्मानित पंडित राजेन्द्रनाथ त्रिपाठी के दिशा-निर्देश...

Jamshedpur : कोरोना संक्रमण के रोकथाम हेुत रेलवे स्टेशन में यात्रियों का किया गया कोविड-19 जांच, जुगसलाई के बाबू कुंवर सिंह चौक पर भी...

जमशेदपुर : कोविड-19 संक्रमण के रोकथाम हेतु जिला स्वास्थ समिति,पूर्वी सिंहभूम द्वारा एक बार फिर से मुंबई, दिल्ली, पुणे एवं अहमदाबाद से आने वाली...

Jamshedpur : सांसद के भोजपुरिया प्रेम से गदगद है मंच, जल्द करेगा स्वागत : अप्पू तिवारी

जमशेदपुर : भोजपुरी नव चेतना मंच के अध्यक्ष अप्पू तिवारी ने कहा है कि जमशेदपुर सांसद विद्युत महतो द्वारा देश के संसद में भारतीय...
Don`t copy text!