Jharkhand-Khatiyan-Johar-Yatra-Gadhwa : मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने गढ़वा से शुरू की खतियानी जोहार यात्रा, कहा-हमारी सरकार ने विपक्षियों के सीने में खतियान और ओबीसी आरक्षण की जो कील जो ठोकी है उसका दर्द नहीं जा रहा, और क्या कहा पढ़ें और देखें-Video

राशिफल

अभय तिवारी / गढ़वा : गढ़वा मे 1932 का खतियान और ओबीसी आरक्षण की कील जो हमारी सरकार ने विपक्षियों के सीने में ठोकी है, उसका दर्द नहीं जा रहा है। यही कारण है कि विपक्षी हमारी सरकार को गिराने के लिए ईडी सीबीआई का सहारा लेकर हमेशा षड्यंत्र रच रहे हैं। मगर हमारा गठबंधन कभी इनके षड्यंत्र को कामयाब नहीं होने देगा। उक्त बातें गुरुवार को गढ़वा में झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने खतियान जोहार यात्रा की शुरुआत करते हुए कही। (नीचे भी पढ़ें और वीडियो देखें)

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन यहां अपने कैबिनेट के मंत्री व कांग्रेस के नेता बादल पत्रलेख, सरकार में शामिल राजद के मंत्री सत्यानंद भोक्ता तथा स्थानीय विधायक व पेयजल स्वच्छता मंत्री मिथिलेश ठाकुर के साथ गढ़वा के टाउन हॉल मैदान में दीप प्रज्वलित कर खतियान जोहार यात्रा की शुरुआत की। (नीचे भी पढ़ें और वीडियो देखें)

इस दौरान उन्होंने उपस्थित जनसमूह को संबोधित करते हुए कहा कि दिशोम गुरु शिबू सोरेन के 35-40 वर्षों के लंबे संघर्ष तथा आंदोलन में हजारों लोगों की द्वारा जान न्योछावर करने के बाद हमें झारखंड राज्य तो मिला, मगर झारखंड बनने के बाद 20 वर्षों से यहां की सत्ता वैसे ही लोगों के हाथ में चली गई, जो झारखंड के विरोधी थे तथा जिन्होंने यहां के लोगों का शोषण किया था। झारखंड राज्य के घोर विरोधी लोगों के हाथ में जब सत्ता लगी तो उन लोगों ने पिछले 20 साल तक इस राज्य को दिल्ली तथा गुजरात में बैठकर लूटने का काम किया। यहां के मजदूर लाखों की संख्या में पलायन करने को विवश थे। (नीचे भी पढ़ें और वीडियो देखें)

मुख्यमंत्री श्री सोरेन ने कहा कि ऐसे लोगों ने राज्य में हाथी उड़ाने तथा सोने की थाली में बड़े-बड़े लोगों को सिर्फ खिलाने का काम किया। ऐसी प्रतिकूल परिस्थिति में 2019 में जब हमारी सरकार बनी तो 2 साल कोरोना के कारण परेशानी हुई। हमने हवाई जहाज से लेकर ट्रेनों के माध्यम से देश ही नहीं विदेशों से भी मजदूरों को सुरक्षित घर पहुंचाया तथा दीदी किचन के माध्यम से उन्हें भूखों मरने से बचाया। (नीचे भी पढ़ें और वीडियो देखें)

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि पिछले 1 साल से जब हम विकास करने लगे तो विपक्षियों को पेट में दर्द होने लगा। सोशल मीडिया, प्रिंट मीडिया, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया इनके हाथ में है। जिसके माध्यम से मेरे ऊपर उलूल-जुलुल बयान देकर मेरी छवि को खराब किया जा रहा है, क्योंकि मेरे द्वारा जो आदिवासियों, दलितों, पिछड़ों तथा कमजोर लोगों का विकास किया जा रहा है वह इन्हें पच नहीं रहा है। (नीचे भी पढ़ें और वीडियो देखें)

सीएम हेमंत सोरेन ने अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि हमारी सरकार ने आपके द्वार आपकी सरकार कार्यक्रम के जरिए वृद्धों, विधवाओं तथा दिव्यांगों को पेंशन उपलब्ध कराने का काम किया। जेपीएससी के माध्यम से ढाई सौ अधिकारियों की नियुक्ति करायी। यहां के लोगों की तकलीफ को देखते हुए पारा शिक्षक, आंगनबाड़ी सेविका, सहायिका, पुलिस के जवान, अनुबंध कर्मी समेत पेंशन की योजना लागू कर सभी लोगों के लिए जब बेहतर काम शुरू किया तो इनकी परेशानी और बढ़ गई। लिहाजा मेरे ऊपर तरह तरह के षड्यंत्र रच कर झूठा आरोप लगा रहे है। (नीचे भी पढ़ें)

मुख्यमंत्री का गढ़वा पहुंचने पर मंत्री, आयुक्त, डीआईजी, डीसी, एसपी व अन्य ने किया स्वागत
मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को पलामू प्रमंडल के गढ़वा पहुंचने पर स्थानीय हेलीपैड पर पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री मिथलेश कुमार ठाकुर, जिला परिषद अध्यक्ष शांति देवी, नगर परिषद अध्यक्ष पिंकी केशरी, आयुक्त जटा शंकर चौधरी, डीआईजी राजकुमार लकड़ा, उपायुक्त रमेश घोलप, पुलिस अधीक्षक अंजनी कुमार झा सहित अन्य पदाधिकारी, जनप्रतिनिधि एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा बुके व गढ़वा की प्रसिद्ध देवी माँ गढ़देवी की तस्वीर भेंट कर स्वागत किया। (नीचे भी पढ़ें)

साथ में जिला प्रशासन की ओर से मुख्यमंत्री को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। मौके पर श्रम, नियोजन, प्रशिक्षण विभाग एवं कौशल विकास विभाग के मंत्री सत्यानंद भोक्ता, कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता विभाग के मंत्री बादल व अन्य उपस्थित थे। तत्पश्चात मुख्यमंत्री श्री सोरेन समेत अन्य मंत्री एवं जिला तथा पुलिस प्रशासन के विभिन्न पदाधिकारी एवं जनप्रतिनिधियों ने रंका मोड़ स्थित इंदिरा गांधी एवं बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम के मुख्य स्थल (गोविंद उच्च विद्यालय) पहुंचे। वहां मुख्यमंत्री एवं उपस्थित मंतियों ने लोगो को संबोधित किया। मुख्यमंत्री द्वारा बहुद्देश्यीय नव निर्मित नगर भवन का उद्घाटन किया गया। मुख्यमंत्री श्री सोरेन, मंत्री श्री भोक्ता एवं मंत्री श्री बादल को सुनने के लिए हजारों की संख्या में लोगों की भीड़ जुटी थी।

Must Read

Related Articles