spot_imgspot_img

Global Statistics

All countries
201,509,355
Confirmed
Updated on August 6, 2021 2:18 AM
All countries
179,602,616
Recovered
Updated on August 6, 2021 2:18 AM
All countries
4,276,902
Deaths
Updated on August 6, 2021 2:18 AM
spot_img

jharkhand-objection-on-new-education-policy-झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने केंद्र की नयी शिक्षा नीति का किया विरोध, राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को कहा दो टूक-जब 2010 में निजी संस्थानों का विरोध झामुमो के साथ मिलकर भाजपा ने किया था तो अब नयी नीति में फिर से निजी संस्थानों को लाभ पहुंचाने की कैसे होगी बात, हो, मुंडारी, कुड़ूख जैसी भाषाओं के बारे में नीति साफ करें, तब मिल सकता है समर्थन

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement

रांची : देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, राज्यों के राज्यपाल एवं उप राज्यपाल तथा राज्यों के शिक्षा मंत्रियों के साथ उच्चतर शिक्षा के रूपांतरण में राष्ट्रीय शिक्षा नीति -2020 की भूमिका पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग आयोजित हुई. इसमें झारखंड के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन शामिल हुए. इस दौरान मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने नयी शिक्षा नीति का कजोरदार तरीके से विरोध दर्ज करा दिया. उन्होंने साफ तौर पर कहा कि नयी शिक्षा नीति गलत है और नई शिक्षा नीति निजीकरण एवं व्यापारीकरण को बढ़ावा दे रही है जिससे अवसर की समानता के मौलिक अधिकार पर आघात होगा. समवर्ती सूची (कंकरेंस लिस्ट) का विषय होने के बाद भी राज्यों से इस सम्बन्ध में बात नहीं करना सहकारी संघवाद (को-ऑपरेटिव फेडलरिज्म) की भावना को चोट पहुंचाता है. इस नीति को लागू करने के लिए बजट का प्रावधान कहाँ से किया जाएगा वह स्पष्ट नहीं है. नई शिक्षा नीति में आदिवासी, दलित, पिछड़े, गरीब, किसान-मजदूर के बच्चों के हितों की रक्षा करने सम्बन्धी प्रावधानों में स्पष्टता का अभाव है. रोजगार नीति पर कोई चर्चा नहीं की गयी है. क्षेत्रीय भाषाओं पर चर्चा करने वक़्त सिर्फ आठवीं अनुसूची में सम्मिलित भाषाओं का जिक्र एक बहुत बड़े वर्ग के साथ नाइंसाफी होगी. झारखण्ड जैसे भौगोलिक रूप से पिछड़े/ दुर्गम क्षेत्र को नयी नीति से हानि उठानी पड़ेगी. शिक्षा नीति पर अपनी बात रखते हुए श्री सोरेन ने कहा कि आजादी के बाद यह सिर्फ तीसरा मौक़ा है जब शिक्षा नीति पर चर्चा हो रही है , सर्वप्रथम वए इस पहल के लिए केंद्र सरकार को बधाई भी दिये. शिक्षा नीति के दूरगामी प्रभाव को रेखांकित करते हुए उन्होंने कहा कि भारत एक विविधता से भरा देश है, यहां विभिन्न राज्यों की जरूरतें अलग-अलग हैं और जैसा कि शिक्षा समवर्ती सूची का विषय है, इसे बनाने में सभी राज्यों के साथ खुले मन से चर्चा होनी चाहिए थी, जिससे कोई राज्य इसे अपने ऊपर थोपा हुआ नहीं माने. आगे उन्होंने इस नीति को बनाने की प्रक्रिया में पारदर्शिता और परामर्श के अभाव की बात कही. आज जब नीति बनकर तैयार हो गयी है तब केंद्र सरकार राज्यों के साथ इस पर चर्चा कर रही है. अच्छा होता कि इस पर पहले बात होती और सभी राज्य सक्रिय रूप से इसे बनाने में अपनी भागीदारी निभाते. श्री सोरेन ने अपनी चिंता जाहिर करते हुए कहा कि विगत कुछ समय से कई सार्वजनिक संस्थानों के निजीकरण के निर्णय, कॉमर्शियल माइनिंग और जीएसटी पर केंद्र सरकार के एकतरफ़ा निर्णय आदि के बाद अब नई शिक्षा नीति के नियमन में राज्यों से सलाह मशविरा का अभाव मुझे सहकारी संघवाद की बुनियाद पर आघात प्रतीत होती है.

Advertisement

मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने आगे अपनी बात रखते हुए कहा कि शिक्षा नीति का प्रभाव हम अगले दशक में देख पाएंगे और लोकतान्त्रिक व्यवस्था में सरकारें 5 साल के लिए चुनी जाती है, ऐसे में भी इसे सही ढंग से लागू करने के लिए भारत सरकार को सभी राज्य सरकारों एवं राजनितिक दलों से चर्चा करनी चाहिए थी, जो वे नहीं कर पाए. नई शिक्षा नीति में उल्लेखित प्रावधानों पर अपनी बात रखते हुए उन्होंने कहा कि कागज़ पर यह Script लुभावना दिखता है, पर इसमें बहुत सारे विषयों पर स्पष्टता नहीं है. उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि आप निजी और विदेशी संस्थानों को आमंत्रित कर रहे हैं परन्तु, आदिवासी, दलित, पिछड़े, किसान-मजदूर वर्ग के बच्चों के हितों की रक्षा के बारे में इस दस्तावेज में कुछ ठोस नहीं कहा गया है. क्या 70-80 फीसदी के बीच की जनसंख्या वाले इस बड़े वर्ग के बच्चे लाखों-करोड़ों की फीस दे पाएंगे ? लाखों-करोड़ों की फीस वसूलने वाले निजी विश्व विद्यालय जब हमारे आज के प्रतिष्ठित संस्थानों के प्रोफेसरों के सामने बड़े-बड़े सैलरी पैकेज का ऑफर रखेंगे तो हम अपने पुराने सरकारी संस्थानों के अच्छे प्रोफेसरों को कैसे रोक पाएंगे ? और इससे हानि किस वर्ग के बच्चे-बच्चियों को होगी ? प्रधानमंत्री से मुखातिब होते हुए श्री सोरेन ने कहा कि आप और आपकी पार्टी ने 2010-11 में निजी सस्थानों को बढ़ावा देने सम्बन्धी निर्णय का कड़ा विरोध किया था जिसे झारखंड मुक्ति मोर्चा जैसे अन्य दलों का समर्थन भी मिला था तो किन परिस्थितियों में आज नई शिक्षा नीति में विदेशी निजी शिक्षण केन्द्रों को बढ़ावा देने का मन बना लिया गया ? उन्होंने कहा कि शिक्षा नीति के साथ-साथ रोजगार सम्बंधित नीति पर भी इसमें चर्चा होनी चाहिए थी. दोनों लगभग साथ-साथ चलती हैं. परन्तु, वह यहां दिख नहीं रहा है. श्री सोरेन ने कहा कि स्कूल में ज्यादा वर्ष गुजारने से अगर बच्चे को रोजगार सम्बंधित फायदा नहीं दिखेगा तो हम चाहें कितनी भी अच्छी शिक्षा नीति बना लें वह सफल नहीं होगी. उन्होंने कहा कि नई नीति को लागू करने में खर्च होने वाली धन राशि कहाँ से आएगी ? झारखण्ड की बात रखते हुए उन्होंने कहा कि यहाँ हमने शिक्षा में उन्नति को लेकर 2020-21 में राज्य के कुल बजट का 15.6% शिक्षा को समर्पित किया है जो कि पिछले वर्ष से 2 % ज्यादा है. नई नीति में कहा गया है कि जीडीपी का 6 % शिक्षा पर खर्च होगा, परन्तु, इसके क्रियान्वयन के चलते राज्यों के कंधों पर अतिरिक्त कितना बोझ आएगा उस पर कुछ बात नहीं की गयी है. नई शिक्षा नीति में क्षेत्रीय भाषाओँ को शिक्षा के माध्यम के रूप में बढ़ावा देने की बात कही गयी है. परन्तु, खेद है कि ऐसा करते वक़्त सिर्फ आठवीं अनुसूची में सम्मिलित भाषाओँ का ही जिक्र किया जा रहा है. श्री सोरेन ने कहा यहाँ मैं कहना चाहूंगा कि सिर्फ आठवीं अनुसूची को आधार बनाने से अन्य बहुत भाषाएँ, जो आठवीं अनुसूची का हिस्सा नहीं बन पाई है उसके साथ अन्याय होगा. मेरे राज्य में हो, मुंडारी , उरॉव (कुडुख) जैसी कम-से-कम 5 अन्य भाषाएँ हैं जिन्हें आठवीं अनुसूची में जगह नहीं मिल पाई है, मगर इनके बोलने वालों की संख्या 10-20 लाख है. देश में उच्च शिक्षा हमेशा से ओवर रेगुलेटेड और अंडर फंडेड रही है. विश्वविद्यालयों को समेकित तरीक़े से आगे बढ़ने के लिए, उन्हें रेगुलेट करने के बजाय स्वायत्तता देना ज़्यादा ज़रूरी है. नई शिक्षा नीति में महाविद्यालयों को बहु-विषयक बनाने पर जोर देने की बात की गयी है. स्वाभाविक तौर पर ऐसे संस्थानों का निर्माण वहीँ होगा जो पहले से विकसित हों, जहाँ जनसंख्या घनत्व ज्यादा हो, आदि. झारखण्ड एवं इसके जैसे भौगौलिक बनावट वाले राज्यों में या एक ही राज्य के अन्दर कई ढंग के क्षेत्र होते हैं, तो वहां भी यह दिक्कत सामने आएगी. छतीसगढ़ में बिरले निवेशक हिम्मत करेंगे की ऐसा संस्थान बस्तर के इलाके में खोलें, पश्चिम बंगाल में वही हानि जंगल महल के इलाके को उठाना पडेगा तो उड़ीसा में कालाहांडी के क्षेत्र को होगा. हमारे उत्तर-पूर्व के राज्य इससे ज्यादा प्रभावित होंगे। मिला-जुला कर देश के सबसे पिछड़े/ उपेक्षित इलाकों में नए संस्थान नहीं के बराबर खुलेंगे. मुख्यमंत्री ने कहा कि नई शिक्षा नीति बनाते हुए हमें अवसर की समानता का जो मौलिक अधिकार है उसे ध्यान में रखना होगा. निजीकरण एवं व्यापारीकरण को बढ़ावा देने से एक बड़े वर्ग के साथ अन्याय होगा. आदिवासी/दलित/ पिछड़े/ गरीब/ किसान-मजदूर वर्ग से बड़ी हिम्मत करके कुछ लोग सफलता की सीढ़ी चढ़ आगे बढ़ने का प्रयास कर रहे हैं. यह उनसे सीढ़ी छीनने जैसा काम होगा. इस मौके पर मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का और शिक्षा सचिव राहुल शर्मा उपस्थित थे.

Advertisement
[metaslider id=15963 cssclass=””]

Advertisement
Advertisement
WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM
IMG-20200108-WA0007-808x566
WhatsApp Image 2020-06-13 at 7.45.22 PM (1)
WhatsApp_Image_2020-03-18_at_12.03.14_PM_1024x512
previous arrow
next arrow

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!