spot_img

jharkhand-Panchayat-Election- गांव की सरकार में भी सीएम समेत विधायक व पूर्व मंत्री के परिजनों का बजा डंका, कोई बना जिला परिषद सदस्य तो कोई मुखिया

राशिफल


रांची: झारखंड हो या फिर किसी अन्य राज्यों में गांव की सरकार बनाने में विधायकों के घर परिवारों के सदस्यों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. इसी तरह झा्रखंड में देखने को मिल रहा है. झारखंड में पहले चरण के मतदान के बाद जो नतीजे आ रहे है वह कोई खास चौकानेवाले नहीं है. पंचायत चुनाव के बहाने विधायकों भी अपनी अपनी जड़ों की मजबूत करने में जुटे हैं. विधायक घर परिवार के सदस्य चुनावी मैदान में उतरे है. पहले चरण के बाद हुई मतगणना में कई ऐसे निर्वाचित प्रतिनिधि सामने आए है जिनके घरों से लोग विधानसभा में भी क्षेत्र की आवाज बुलंद कर रहे है.(नीचे भी पढ़े)

सिमडेगा के विधायक भूषण बाड़ा की पत्नी जोसिमा खाखा ने पाकरटांड ब्लाक से जिला परिषद का चुनाव जीत हासिल की है. इसी तरह विधायक नलिन सोरेन की पत्नी जायस लुप्सी बेसरा भी लगातार दूसरी बार जिला परिषद का चुनाव जीत गयी है. इसी तरह राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की चचेरी बहन रेखा सोरेन भी पूर्वी गोला क्षेत्र से जिला परिषद चुनाव जीत गयी है. बरही के विघायक उमाशंकर अकेला के बेटे रवि शंकर यादव ने जिला परिषद चुनाव के लिए चौपारण भाग 2 से जीत हासिल की. (नीचे भी पढ़े)

इसी तरह सीकेपी के विधायक सुखराम उरांव के भतीजे अरविंद तिग्गा सीकेबी ब्लाक के कोलचकड़ा से मुखिया चुने गए है. बंदगांव से जसमीन हमशय ने जिला परिषद सदस्य के तौर पर सफलता पायी है. इनके पति स्व लाल सिंह मुंडा झारखंड आंदोलनकारी थे. गिरिडीह के पूर्व विधायक राजकुमार यादव की भाभी अनीता देवी मुखिया व नामकुम से जिला परिषद का चुनाव आरती कुजूर मैदान में डटी हुई है. इनके पिता साधो कुजूर दो बार विधायक रह चुके है.

WhatsApp Image 2022-04-29 at 12.21.12 PM
WhatsApp-Image-2022-03-29-at-6.49.43-PM-1
Shiv Yog Physiotherapy And Yoga Classes
spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!