jharkhand-sikh-proud-चीन का ऑर्डर रद्द करने वाले सिख कारोबारी को सिख समाज ने किया सम्मानित, कई और को किया गया सम्मानित

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर : झारखंड सिख प्रतिनिधि बोर्ड के प्रधान गुरचरण सिंह बिल्ला के नेतृत्व में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इस दौरान गुरु महाराज के सामने अरदास की और कार्यक्रम की शुरुआत की. बोर्ड के दफ्तर में चीन के सामानों का बहिष्कार करने एवं देशभक्ति का परिचय देने का काम करने के लिए जमशेदपुर के प्रतिष्ठित उद्योगपति सूरज ऑटोमोबाइल के प्रोपराइटर सरदार हरजीत सिंह को सम्मानित किया गया. सरदार हरजीत सिंह ने पूरे झारखंड ही नहीं पूरे देश में देशभक्ति का परिचय देते हुए अपने बन रहे फाइव स्टार होटल में जो डेकोरेशन का सामान लगना था वह सारे सामान का आर्डर उन्होंने चीन में दिया था. यह आर्डर करीब 5 करोड रुपए का था. हरजीत सिंह ने करीब 70 से 80 लाख रुपया एडवांस के रूप में उस चीन की कंपनी को दे दिया था मगर ऑर्डर कैंसिल करने के बाद वह 70 से 80 लाख रुपया उनका नुकसान हो गया, लेकिन उन्होंने नुकसान की परवाह नहीं की और देश हित में और देश भक्ति का परिचय दिया. ऐसी महान हस्ती को झारखंड सिख प्रतिनिधि बोर्ड ने अपने दफ्तर में सम्मानित किया.

Advertisement
Advertisement

उनके साथ लॉकडाउन के समय में करीब 60 से 65 दिन जरूरतमंदों को खाना खिलाने के लिए एवं उनकी सेवा करने के लिए कमलजीत कौर गिल को भी सम्मानित किया गया. साथ ही साथ जमशेदपुर के समाजसेवी गुरदीप सिंह पप्पू को भी सम्मानित किया गया. इन सभी को शॉल और बुके देकर सम्मानित किया गया. समारोह में तख्त हरमंदिर साहिब जी पटना के सीनियर मीत प्रधान सरदार इंद्रजीत सिंह ने अपने संबोधन में सभी की तारीफ की. इसी तरह काम करने के लिए उन्हें प्रेरित भी किया और उन्होंने कहा किए युवाओं के लिए एक मिसाल बने. वक्ताओं में सरदार गुरुचरण सिंह बिल्ला, कुलविंदर सिंह पन्नू, सुरजीत सिंह खुशीपुर, दलविंदर सिंह, जसवंत सिंह भोमा, गुरचरण सिंह भोगल आदि ने अपने विचार रखे. मंच का संचालन महासचिव अमरजीत सिंह भामरा ने किया. सम्मान समारोह में त्रिलोचन सिंह, बलजीत सिंह, जयमल सिंह, रंगरेटा विकास मंच के कुलवंत सिंह, पहलवान जसपाल सिंह, कुलदीप सिंह मोती, बर्मामाइंस से दलविंदर सिंह, हरभजन सिंह, जितेंद्र सिंह बब्बू, महेंद्र सिंह, जसवंत सिंह, जसवंत सिंह घुमा, कुलदीप सिंह बुग्गी, गुरदीप सिंह, सोनू सिंह, गुरमीत सिंह, सुरजीत सिंह, अमरजीत सिंह, कुलदीप सिंह ज्ञानी आदि मौजूद थे.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement

Leave a Reply