spot_img

jharkhand-vidhansabha-झारखंड विधानसभा में नमाज अदा करने के लिए आवंटित हुआ विशेष कमरा, भाजपा बोली-विधानसभा में बने भव्य मंदिर या स्थापित हो बजरंग बलि, झामुमो ने कहा-ऐसी व्यवस्था तो पहले भी विधानसभा में थी, संसद में भी है

राशिफल

रांची : झारखंड विधानसभा में नमाज अदा करने का विशेष कमरा आवंटित कर दिया गया है. इसको लेकर अब सियासी भूचाल मच गया है. भाजपा ने इसको तुष्टिकरण की राजनीति बताया है. वहीं इस मामले को लेकर भाजपा ने विधानसभा परिसर में भव्य मंदिर बनाने की भी मांग कर दी है. झारखंड विधानसभा भवन में कमरा नंबर टीडब्ल्यू-348 को नमाज पढ़ने के लिए आवंटित किया गया है. झारखंड विधानसभा सचिवालय ने आधिकारिक पत्र जारी कर इसकी जानकारी दी. यह बताया गया है कि विधानसभा सत्र में भाग लेने वाले अल्पसंख्यक विधायकों को जुमे की नमाज अदा करने में परेशानी का सामना नहीं करना पड़े इसलिए ऐसा किया गया है. सरकार का जो भी तर्क हो, विपक्षी दल, विशेष तौर पर भारतीय जनता पार्टी ने इसका पुरजोर विरोध किया है. भाजपा प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव और रांची विधानसभा सीट से विधायक और पूर्व मंत्री सीपी सिंह ने इसे तुष्टिकरण की घृणित राजनीति कहा है. हालांकि, सत्ताधारी झामुमो का कहना है कि ऐसी व्यवस्था संसद में भी है और पहले के विधानसभा में भी थी जबकि पहले मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ही थे. ऐसा हाईकोर्ट समेत तमाम जगहों पर है. हालांकि, रांची विधायक सीपी सिंह ने कहा कि विधानसभा भवन में नमाज अदा करने के लिए कमरा आवंटित किया जाना बताता है कि सरकार कितने घृणित स्तर तक तुष्टिकरण की राजनीति कर रही है. देश का विचार सर्वधर्म सम्भाव का रहा है. मेरा कहना है कि यदि वहां नमाज की जगह दी गई है तो क्यों ना एक मंदिर भी बनवा दिया जाये. विधानसभा परिसर में काफी जमीन खाली पड़ी है. वहां एक भव्य मंदिर का निर्माण करवाया जा सकता है, जहां बहुसंख्यक विधायक अपने-अपने ईष्ट देवता की पूजा-अर्चना कर सकते हैं. सीपी सिंह ने कहा कि मैं तो कहूंगा कि विधानसभा परिसर में भव्य मंदिर बनाकर बजरगं-बली की प्रतिमा स्थापित करनी चाहिए. इससे विधायकों को साहस और पराक्रम की प्रेरणा मिलेगी. इस तरीके से बजरंग-बली राम के सेवक के रूप में जाने जाते हैं, उसी प्रकार विधायक भी जनता के सेवक हैं. मंदिर बनने से विधायकों को वहां जनता की सेवा करने की प्रेरणा मिलेगी. क्या विधानसभा परिसर में नमाज और पूजा के लिए स्थान की मांग भारत के धर्म औऱ पंथ निरपेक्ष विचारधारा का उल्लंघन नहीं है. जवाब में सीपी सिंह ने कहा कि यही तो समस्या है. यदि विधानसभा भवन में नमाज अदा करने के लिए कमरा आवंटित किया जाता है तो ये सेक्युलर कदम है. भाजपा यदि मंदिर की मांग करती है तो ये सांप्रदायिक हो गयी. सीपी सिंह ने कहा कि तुष्टिकरण की भी कोई हद होती है. सरकार तुष्टिकरण की सीमा लांघ रही है. भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने भी कहा कि अच्छा है कि सरकार ने वहां नमाज अदा करने के लिए कमरा आवंटित किया है. भारत में सभी धर्म बराबर है. यदि विधानसभा में नमाज अदा की जा सकती है तो फिर भजन भी गाया जा सकता है. हमारी मांग है कि विधानसभा परिसर में एक भव्य मंदिर का निर्माण करवाया जाये. परिसर में क्यों, विधानसभा भवन के सेंट्रल हॉल में ही जगह दी जाये. वहां बहुसंख्यक विधायक पूजा अर्चना करेंगे. प्रतुल शाहदेव ने कहा कि सेंट्रल हॉल में यदि पूजा-अर्चना होगी तो सोशल-डिस्टेंसिंग का भी बढ़िया से पालन हो सकेगा. कटाक्ष भरे स्वर में प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने कहा कि विधानसभा परिसर में भव्य मंदिर का निर्माण होना चाहिए जहां बहुसंख्यक विधायक सातों दिन अलग-अलग देवी-देवताओं की पूजा कर सकते हैं. सोमवार को भगवान शिव, मंगलवार को बजरंगबली, बुधवार को श्रीकृष्ण, गुरुवार को भगवान बिष्णु, शुक्रवार को मां संतोषी, शनिवार को शनिदेव रविवार को भगवान सूर्य की पूजा करेंगे. सर्वधर्म समभाव की अवधारणा भी मजबूत होगी.

WhatsApp Image 2022-04-29 at 12.21.12 PM
WhatsApp-Image-2022-03-29-at-6.49.43-PM-1
Shiv Yog Physiotherapy And Yoga Classes
spot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!