spot_img
शनिवार, मई 15, 2021
spot_imgspot_img
spot_img

जेकेएम कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट, साइंस एंड कॉमर्स ने समारोहपूर्वक मनाया 74वां स्वतंत्रता दिवस

Advertisement
Advertisement

जमशेदपुर : जेकेएम कॉलेज सालबनी के डिग्री और बीएड के विद्यार्थियों ने संयुक्त रूप से स्वतंत्रता दिवस समारोह मनाया। इस अवसर पर कॉलेज के सचिव सह संस्थापक डॉ यामिनी कांत महतो ने कॉलेज परिसर में ध्वजारोहण किया। अपने वक्तव्य में सचिव महोदय ने सभी व्याख्यातागण को ऐसे जिम्मेदार विद्यार्थी का निर्माण करने का संदेश दिया जो देश और समाज के लिए समर्पित हों । प्रिंसिपल डॉक्टर कल्याणी ने कहा कि राष्ट्र जिस विषम परिस्थिति से गुजर रहा है वैसे में विद्यार्थियों की भूमिका सकारात्मक होनी चाहिए और ऊर्जा से भरपूर होना चाहिए ।

Advertisement
Advertisement

इस अवसर पर विद्यार्थियों ने भी अपना वक्तव्य दिया और काव्य पाठ किया। साथ ही लोकगीत नृत्य देशभक्ति की भावना को दिखाते हुए सांस्कृतिक कार्यक्रमों का प्रदर्शन भी किया। इस अवसर पर व्याख्याताओं ने टाॅक शो का आयोजन किया जिसमें भारत को विश्व गुरु बनाने के लिए युवा पीढ़ी की भूमिका पर विचार विमर्श किया गया। प्रोफेसर जीतिका ने अपने वक्तव्य में कहा कि युवा वर्ग को अपनी जिम्मेदारी समझनी चाहिए।

Advertisement

प्रो रंजना आनंद ने कहा कि जरूरी है कि हम सभी स्वदेशी अपनाएं और राष्ट्र का निर्माण करें। पुस्तकालयाध्यक्षा स्वाति गुप्ता ने कहा कि युवा पीढ़ी को अपना कर्तव्य समझना होगा तभी समाज और राष्ट्र विकसित होगा। प्रो सुशांति कुमारी ने कहा कि युवा पीढ़ी को तैयार करना हम सभी शिक्षकों की जिम्मेदारी है। जरूरी है कि हम ग्रामीण समुदाय को भी सशक्त बनाएँ। प्रो संजू राय ने कहा कि मेहनत का कोई विकल्प नहीं है इसलिए युवा पीढ़ी को मेहनत पर पूरा भरोसा रखना होगा।

Advertisement

बीएड की छात्रा पूजा राय और फुलोरमा ने देशभक्ति नृत्य प्रस्तुत किया। नेहा ने देशभक्ति गीत गाया। छात्रा नंदिता भगत ने तिरंगा बैच बनाया। सूर्या सोरेन और चैतन्य हेम्ब्रम ने संताली भाषा में देशभक्ति भाषण प्रस्तुत किया। पूजा राय, मौमिता पटनायक, पूजा रूहीदास, भानुप्रिया, शिल्पा, राखी और प्रतिमा ने कविता और भाषण प्रस्तुत किया।

Advertisement

कार्यक्रम का संचालन बी एड की विभागाध्यक्षा डॉ मौसमी महतो ने किया और धन्यवाद ज्ञापन प्रोफेसर कविता धारा ने किया। कार्यक्रम को सफल बनाने में विनिता टुडू और सुशीला हांसदा का सराहनीय योगदान रहा ।

Advertisement

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

spot_imgspot_img

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!