spot_img

Kolhan Divisional Commissioner meeting : सारंडा एक्शन प्लान के तहत 40 गांवों का होगा सर्वे, छात्र व छात्राओं के लिए अलग-अलग स्कूल खुलेगा, डिफेंस में जाने के इच्छुक युवाओं को मिलेगा एक महीने का प्रशिक्षण, प्रमंडलीय आयुक्त ने की बैठक

राशिफल

Chaibasa : कोल्हान प्रमंडलीय आयुक्त डॉ मनीष रंजन की अध्यक्षता में गुरुवार को सारंडा एक्शन प्लान के तहत बैठक हुई. बैठक के बाद प्रमंडलीय आयुक्त ने बताया कि सारंडा क्षेत्र में सरकार के द्वारा विकास का कार्य किया जा रहा है, जिसमें प्रशासन बढ़-चढ़कर अपना योगदान कर रहा है तथा विकासात्मक योजना का लाभ सारंडा क्षेत्र में एक-एक व्यक्ति तक कैसे पहुंचे इस पर भी विशेष रूप से ध्यान दिया जा रहा है. आज की बैठक में निर्देश दिया गया कि सारंडा क्षेत्र के 40 गांव का एक सप्ताह के भीतर सर्वे किया जाएगा कि उनमें कितने घर हैं, कितने परिवार रहते हैं, ताकि पता लगाया जा सके कि उन्हें कौन-कौन सी सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है तथा कौन-कौन से सुविधा उपलब्ध कराई जा सकती हैं. सर्वे के पश्चात् उन्हें राशन मुहैया कराया जाएगा. राशन हेतु जिनका पीडीएस डीलर दूर है, उस जगह पर स्वयं सहायता समूह की कुछ महिलाओं को राशन वितरण हेतु लाइसेंस उपलब्ध कराया जाएगा ताकि राशन लेने हेतु लोगों को बहुत दूर तक जाना ना पड़े. अप्रयुक्त बिल्डिंग जिसका प्रयोग काफी समय से नहीं किया जा रहा है, उसके लिए निर्णय लिया गया कि अप्रयुक्त बिल्डिंग मे दो जगहों पर रेजिडेंशियल स्कूल एक लड़कों और एक लड़कियों के लिए निर्माण किया जाएगा, ताकि बच्चों को पढ़ने के लिए दूर न जाना पड़े और वहीं पर भी उच्च शिक्षा प्राप्त कर सके.

बागवानी के मद्देनजर निर्णय लिया गया कि लगभग 20,000 फलदार वृक्षारोपण कर उसकी घेराबंदी की जाएगी, ताकि लगभग दो-तीन वर्षों में वहां के लोग उन फलों को बेचकर आमदनी कमा जीविकोपार्जन कर सकते हैं. बैठक में योजना बनाई गई कि जो भी युवक डिफेंस लाइन में जाने के उत्सुक हैं, उन्हें सीआईएसएफ और सीआरपीएफ के द्वारा एक महीने का प्रशिक्षण दिया जाएगा तत्पश्चात् वह अपनी इच्छा अनुसार आर्मी या पुलिस लाइन में जाकर रोजगार पा सकते हैं। पेयजल की व्यवस्था गांव में कैसे किया जाए इस संबंध में पेयजल और स्वच्छता विभाग के द्वारा आज एक प्रस्ताव लाया गया है जिसे वहां जिले के माध्यम से लागू किया जाएगा. पिछले हफ्ते सड़क और वन विभाग के द्वारा एक सर्वे किया गया था, जिसमें देखा गया कि गांव में जाने हेतु कोई भी सड़क उपलब्ध नहीं है, इसलिए सड़क निर्माण हेतु आज बैठक में प्रस्ताव रखा गया.

बैठक में सेल महाप्रबंधक के द्वारा छात्र छात्राओं के लिए इंजीनियरिंग, मेडिकल, एएनएम जैसे उच्च शिक्षा प्राप्त करने हेतु बनाई जा रही योजना से अवगत कराया गया। स्वास्थ्य के मद्देनजर निर्णय लिया गया कि वहां के लोगों को आयुष्मान भारत के तहत् शत-प्रतिशत इलाज उपलब्ध कराया जाएगा, जिसको अगले तीन हफ्ते के भीतर पूर्ण कर लिया जाएगा साथ ही साथ चार स्थानों पर कम्युनिटी इन्फ्रास्ट्रक्चर लगाने के लिए सेल के अधिकारियों के द्वारा आश्वासन दिया गया, जिससे गांव वालों को इलाज हेतु ज्यादा दूर नहीं जाना पड़ेगा. आयुक्त ने कहा कि सूबे के मुख्यमंत्री और मुख्य सचिव के विचार और निर्देश को गांव तक कैसे पहुंचाया जा सके और लोगों की जिंदगी और जीवन स्तर को कैसे ऊपर उठाया जा सके इस हेतु 15 दिनों के भीतर लगातार समीक्षा की जाएगी. बैठक में मुख्य रूप से पुलिस उपमहानिरीक्षक कोल्हान क्षेत्र राजीव रंजन सिंह, जिला पश्चिमी सिंहभूम के उपायुक्त अरवा राजकमल, पुलिस अधीक्षक इंद्रजीत महाथा, वन प्रमंडल पदाधिकारी सारंडा वन प्रमंडल, अपर उपायुक्त, सिविल सर्जन, जिला समाज कल्याण पदाधिकारी, जिला आपूर्ति पदाधिकारी, अनुमंडल पदाधिकारी जगन्नाथपुर, जिला शिक्षा पदाधिकारी, मुख्य महाप्रबंधक सेल किरीबुरू, मुख्य महाप्रबंधक मेघाहातु, महाप्रबंधक सेल चिरिया, प्रखंड विकास पदाधिकारी नोवामुंडी, अंचल अधिकारी नोवामुंडी तथा अन्य पदाधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे.

[metaslider id=15963 cssclass=””]
WhatsApp Image 2022-04-29 at 12.21.12 PM
WhatsApp-Image-2022-03-29-at-6.49.43-PM-1
Shiv Yog Physiotherapy And Yoga Classes
[adsforwp id="129451"]

Must Read

Related Articles

Don`t copy text!