DURGA PUJA 2019-देखिये, कोल्हान के एकमात्र वातानुकूलित दुर्गा पूजा पंडाल, महापंचमी से खुल जायेगा पंडाल का पट, जानिये क्या है इस पंडाल की खासियत

Advertisement
Advertisement
बागबेड़ा का भव्य दुर्गा पूजा पंडाल.

जमशेदपुर : कोल्हान में दुर्गा पूजा के लिए जमशेदपुर की पहचान है, लेकिन इस पहचान को बागबेड़ा रोड नंबर चार का सार्वजनिक दुर्गा पूजा कमेटी का पंडाल इसमें और चार चांद लगा रहा है. इस बार इसकी भव्यता देखते ही बन रही है. बागबेड़ा के रोड नंबर चार स्थित सार्वजनिक दुर्गा पूजा कमिटी (माई दरबार) द्वारा तैयार भव्य पंडाल बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की सामाजिक संदेश देगी. पंडाल को अंतिम रूप देने में पश्चिम बंगाल के 40 से अधिक कामगार जुटे रहें. उक्त पंडाल कोल्हान की एकमात्र वातानुकूलित दुर्गा पूजा पंडाल होगी. गुरुवार देर शाम 8:30 बजे उक्त पंडाल का उदघाटन सुनिश्चित है. बतौर मुख्यातिथि ज़िले के उपायुक्त रविशंकर शुक्ला उक्त पंडाल का उद्घाटन करेंगे. पूजा कमिटी के संतोष ठाकुर ने इससे सम्बंधित जानकारी दी. उन्होंने बताया कि उदघाटन के मौके पर विशेष रूप से समाजसेवी रणविजय सिंह, शिवशंकर सिंह, भाजपा जिलाध्यक्ष दिनेश कुमार समेत अन्य गणमान्य मौजूद रहेंगे.

Advertisement
Advertisement
बागबेड़ा दुर्गा पूजा पंडाल का नजारा.

पंडाल के संदर्भ में पूजा कमिटी के संतोष ठाकुर ने बताया कि गोद में छोटी बच्ची को थामे ग्रामीण महिला की 35 फ़ीट ऊंची आकृति भ्रूण हत्या, महिला उत्पीड़न के विरुद्ध सशक्त संदेश देगी. पंडाल के आसपास स्वच्छता का भी विशेष ख्याल रखा गया है. जगह-जगह डस्टबिन स्थापित किये गए हैं तथा अस्थायी शौचालय की भी व्यवस्था है. दर्शनार्थियों को गर्मी, उमस ना हो इसके लिए पूजा कमिटी ने चिंता कर इस दिशा में पहल की है. पूरे पंडाल को वातानुकूलित बनाया गया है ताकि श्रद्धालुओं को कठिनाई ना हो. इसके अतिरिक्त सुरक्षा के दृष्टिकोण से स्थानीय पुलिस को सहयोग करने के लिए पूजा कमिटी के भी महिला और पुरुष वोलेंटियर्स तैनात रहेंगे. वहीं पॉकेटमारी, छिनतई जैसी अप्रिय घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए पंडाल में सीसीटीवी कैमरे भी लगाये गए हैं. पंचायत क्षेत्र में होने के बावजूद उक्त पूजा पंडाल हर साल अपने आकर्षक कलाकृतियों के कारण चर्चा की केंद्र बनी रहती है.

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement