spot_img
मंगलवार, अप्रैल 13, 2021
More
    spot_imgspot_img
    spot_img

    jamshedpur-rural-चाकुलिया में आयोजित ऑल इंडिया संथाल राइटरस एसोसिएसन के दो दिवसीय वार्षिक सम्मेलन में पहुंचे मंत्री चंपई सोरेन, कहा-समाज के विकास में लेखकों की अहम भूमिका

    Advertisement
    Advertisement


    चाकुलिया : चाकुलिया नगर पंचायत क्षेत्र के पुराना बाजार स्थित टाउन हॉल परिसर में ऑल इंडिया संथाल राइटरस एसोसिएसन द्वारा आयोजित दो दिवसीय वार्षिक सम्मेलन में बतौर मुख्य अतिथि के रूप में मंत्री चंपई सोरेन, विधायक समीर महंती, मयूरभंज के पूर्व सांसद रामचन्द्र हांसदा, पद्मश्री जमुना टुडू, एसोसिएसन के अध्यक्ष चंडीचरण किस्कू, सचिव गणेश ठाकुर समेत अन्य उपस्थित थे. समारोह को संबोधित करते हुए मंत्री चंपई सोरेन ने कहा कि हमारी भाषा और संस्कृति ही हमारी पहचान है. संथाल राइटरस एसोसिएसन के बैनर तले समाज के लेखकों ने अपनी भावना को लिखकर समाज के युवाओं को एक दिशा देने का सराहनीय कार्य कर रहे हैं. श्री सोरेन ने कहा कि किसी भी समाज के विकास और उत्थान में समाज के लेखकों का महत्वपूर्ण स्थान होता है. समाज के लेखक अच्छी सोच और विचार को लिखकर समाज के विकास में अपनी भूमिका आगे भी निभाते रहे.

    Advertisement
    Advertisement

    उन्होंने कहा कि हेमंत सोरेन की सरकार समाज के लेखकों से मिलकर समाज के विकास के प्रति कार्य करेगा. कहा कि हेमंत सोरेन की सरकार सरना कोड पारित कर संथाल आदिवासी समाज को उनका हक और अधिकार देने का काम किया है. सरकार समाज और राज्य के विकास के प्रति कृत संकल्पित है. कहा कि उन्होंने समाज के पूजा स्थल (जाहेरथान) समेत समाज के अन्य पूजा स्थलों की सौदर्यीकरण करने की अनुशंसा की है जल्द ही कार्य शुरू होगा. मौके पर विधायक समीर महंती ने संबोधित करते हुए कहा कि संथाल समाज की भाषा और संस्कृति अनुशरणीय है.

    Advertisement

    समाज के लोग प्रकृति के पुजारी और उदार होते हैं. समाज कि जो संस्कृति है वह अन्य समाज में देखने को नही मिलता है. उन्होंने कहा कि चाकुलिया में आसेका का गठन कर समाज के शिक्षित युवा समाज के युवा को अपनी भाषा और संस्कृति के प्रति जागरूक कर जोड़ने का सराहनीय कार्य किया है. कहा कि भाषा संस्कृति ही हमारी पहचान है. श्री महंती ने कहा कि बिरसा मुंडा, सिदु कान्हू, पंडित रघुनाथ मुर्मू, तिलका माझी के आंदोलन और बलिदान ने समाज को एक अलग पहचान देने का काम किया है.

    Advertisement

    उन्होंने मंच से मंत्री चंपई सोरेन से मांग किया कि राज्य के हर विद्यालय में जल्द से जल्द ओलचिकी लिपि में पठन पाठन शुरू हो ताकि समाज के युवा अपनी मातृभाषा में शिक्षा ग्रहण कर सके. मंच में उपस्थित संथाल लेखक और अतिथियों को मंत्री चंपई सोरेन ने शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया. मंच का संचालन ऑल इंडिसा संथाल राइटरस एसोसिएसन के केन्द्रीय समिति के संयुक्त सचिव गणेश हांसदा ने किया. मौके पर एसोसिएसन के अध्यक्ष चंडीचरण किस्कू, सचिव गणेश ठाकुर हांसदा, मदन मोहन सोरेन, माणिक हांसदा, सुभाष मांडी, शंकर सोरेन, मोहन बास्के, हरीपदो मुर्मू, सोहराय बास्के, शिवचरण हांसदा, डोमन हांसदा, झामुमो कार्यकर्ता घनश्याम महतो, गोतम दास, पतित दास, डोमन माझी, राकेश महंती, बाप्पा दास, विशाल बारिक, समेत अन्य उपस्थित थे.

    Advertisement

    Advertisement
    Advertisement

    Leave a Reply

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

    spot_imgspot_img

    Must Read

    Related Articles

    Don`t copy text!